अमेठी में स्मृति ईरानी के बेहद करीबी की गोली मारकर हत्या

हत्या की एक नई वारदात सामने आई है। जिसने सारे उत्तर प्रदेश में सनसनी मचा दी है ।मामला ,हाई प्रोफाइल अमेठी सीट पर राहुल गांधी को हराने वाली और जीत दर्ज करने वाली भाजपा नेता स्मृति ईरानी के विश्वासपात्र और अत्यंत करीबी की हत्या का है।प्राप्त जानकारी के मुताबिक , उत्तर प्रदेश की गांधी परिवार की खानदानी सीट से अपनी जीत को लेकर चर्चा में आयी स्मृति ईरानी के बेहद करीबी व बीजेपी कार्यकर्ता सुरेंद्र सिंह की हत्या कर दी गई है। जानकारी मिली है, कि हत्यारो ने यह वारदात कार्यकर्ता के घर में घुसकर अंजाम दी है। घटना उस वक्त घटी, जब सुरेंद्र अपने घर में सो रहे थे। आप तो सभी जानते है ,किबस्मृति ईरानी अमेठी से सांसद बनी हैं और उन्होंने 3 दिन पहले ही लोकसभा चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को मात दी थी।

अपर पुलिस अधीक्षक दया राम ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह को 25/5 की रात करीब 11.30 बजे अज्ञात हत्यारों ने गोली मार दी। उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए लखनऊ भेजा गया, जहां उनकी मौत हो गई। इस मामले अभी पुलिस ने प्रारंभिक जांच में दो लोगों को हिरासत में लिया है।पर अभी घटना की जांच जारी है।जानकारी यह भी सामने आई है, कि सुरेंद्र सिंह को स्मृति ईरानी का काफी करीबी माना जाता है। उल्लेखनीय है कि हत्या से कुछ ही देर पहले मृतक सुरेंद्र , स्मृति ईरानी की जीत का जश्न मनाकर घर लौटे थे। घर पहुंचने के बाद वह सो गए। पहले से ही रेकी कर रहे साज़िश कर्ता हत्यारे उनके घर के अंदर प्रविष्ट हो गए और उन्हें गोली मार दी।चर्चा यह भी है, कि चुनाव प्रचार के दौरान स्मृति ईरानी ने बरौलिया गांव में जूते बांटे थे। इस गांव को स्मृति ने बहुत महत्व दिया था,सुरेंद्र सिंह इसी गांव के पूर्व प्रधान भी रह चुके हैं। परिजनों ने बताया कि गोली चलने की आवाज सुनकर घर के लोग सुरेंद्र के कमरे में पहुंचे। इसके बाद घायल अवस्था मे सुरेंद्र को ट्रॉमा सेंटर ले जाया जा रहा था, किन्तु रास्ते में ही उनकी मृत्यु हो गई। स्मृति ईरानी के करीबी, प्रभावशाली पूर्व प्रधान व बीजेपी नेता के रूप में दमखम रखने वाले मृतक सुरेन्द्र सिंह की हत्या के बाद अमेठी में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान स्मृति ईरानी अपने साथ ब्लॉक और गांव स्तर के नेताओं को भी मंच पर लाती थीं। सुरेंद्र सिंह ऐसे ही नेताओं में से एक थे।

अब प्रश्न यह उठता है ,कि क्या यह एक हत्या है? या फिर राजनीतिक प्रतिस्पर्धा की परिणीति। यद्यपि प्रारम्भिक तौर पर पुलिस का शक है ,कि हत्या की ये वारदात पुरानी रंजिश के चलते अंजाम दी गई है। परन्तु, इस हत्या को चुनावी प्रतिस्पर्धा औऱ रंजिश से भी जोड़कर देखा जा रहा हैऔऱ इस दृष्टिकोण को भी ध्यान में रखकर पुलिस जांच में जुटी है। पूर्व प्रधान की हत्या के बाद गांव में तनाव का माहौल है औऱ अमेठी में भी इस तनाव के चिन्ह देखने मिलरहे है। इसके चलते गांव में पुलिस बल तैनात कर दी गई है। पुलिस ने गांव वालों से बातचीत और घर वालों की निशानदेही के आधार पर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है और हत्यारों की तलाश जारी है। इस मामले में और कौन से नए तथ्यों का खुलासा होता है या तो पुलिस जांच के बाद ही सामने आएगा। यद्यपि, अमेठी में स्मृति ईरानी के बेहद करीबी की चुनावी जीत के तुरंत बाद हत्या कई सवाल खड़े कर देती है ।जिसका खुलासा पुलिस जांच पूरी होने के बाद ही होना संभव है।

Related posts

Leave a Comment