आज का विशेष दिवस

विश्व रक्तदान दिवस हर वर्ष 14 जून को मनाया जाता है विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इस दिन को रक्तदान दिवस के रूप में घोषित किया गया है। वर्ष 2004 में स्थापित इस कार्यक्रम का उद्देश्य सुरक्षित रक्त रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना और रक्तदाताओं के सुरक्षित जीवन रक्षक रक्त के दान करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करते हुए आभार व्यक्त करना है।
दाता से रक्त प्राप्त करने के दो मुख्य तरीके हैं। अपरिवर्तित रक्त के रूप में सीधे शिरा से ज्यादातर रक्त ले लिया जाता है। आम तौर पर इस रक्त को अलग भागों में, ज्यादातर लाल रक्त कोशिकाओं और प्लाज्मा में विभाजित किया जाता है, क्योंकि अधिक से अधिक प्राप्तकर्ताओं को केवल एक घटक विशेष की जरूरत होती है। अन्य तरीका दाता से रक्त लेने का है, इसमें एक अपकेंद्रित्र (सेंट्रफ्यूज) या एक फिल्टर का उपयोग कर इसे अलग कर वांक्षित हिस्सों को संचित कर लिया जाता है और बाकी दाता को वापस दे दिया जाता है। यह प्रक्रिया अफेरेसिस (apheresis) कहलाती है और अक्सर यह काम इसके लिए विशेष रूप से तैयार मशीन के जरिए किया जाता है।
सीधे रक्त आधान के लिए शिरा का उपयोग किया जाता है, लेकिन बदले में रक्त धमनी से लिया जा सकता है।[1] इस मामले में, रक्त संचित नहीं किया जाता है, बल्कि दाता से सीधे प्राप्तकर्ता में पंप कर दिया जाता है। रक्त आधान का यह पुराना तरीका है और आज के समय में शायद ही कभी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

Related posts

Leave a Comment