कोरोना का असरदार इलाज, मोदी की अपील के बाद सामने आया


भोपाल मध्यप्रदेश के जबलपुर में 4 संदिग्धों को कोविड 19 की पुष्टि होने के बाद मध्यप्रदेश भी अब रेड अलर्ट जोन में शामिल हो गया है। पूरे देश में कोरोना वायरस को लेकर जागरूकता बढ़ी है
कोरोना के लक्षण ( डब्लू एच ओ के अनुसार )
1सर्दी जुखाम,नाक बहना
2खासी
3साँस लेने में तकलीफ
4 तेज़ बुखार
5शरीर, मासपेशियों औऱ सिरदर्द
फैलने का कारण
संक्रमित व्यक्ति से संपर्क, छूना या संक्रमित व्यक्ति द्वारा लापरवाही एवं असावधानीपूर्वक स्पर्श किए गए वस्तु ,खाद्य सामग्री या अन्य किसी स्पर्श की गई वस्तु से संपर्क बनाना।
संक्षेप में यह रोग संक्रमित व्यक्ति द्वारा सोशल कॉन्ट्रैक्ट के माध्यम से फैल रहा है इसलिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 मार्च 2020 को जनता कर्फ्यू की अपील की है जोकि जम्मू कश्मीर सहित समूचे भारत में पूरी तरीके से सफल हो रहा है
भारत के 75 जिले कंपलीटली लॉक डाउन जिसमें छिंदवाड़ा भी शामिल
कोरोना वायरस के कहर के चलते मध्य प्रदेश सहित देश के विभिन्न राज्यों के 75 जिलों को सरकार ने कंपलीटली लॉक डाउन करने का निर्णय लिया है जिसमें मध्य प्रदेश के जबलपुर ग्वालियर भोपाल छिंदवाड़ा सिवनी नरसिंहपुर बैतूल आदि शामिल है सूत्रों के अनुसार भोपाल में फ्लाइट में यात्रा कर रही एक महिला कोरोना संभावित मिली जिसके चलते मध्यप्रदेश में भी हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है कार्यपालक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश शासन के मुख्य सचिव से इस संबंध में समस्त आपात स्थितियों से निपटने एवं लोक स्वास्थ्य का ध्यान रखने हेतु निर्देश जारी किए हैं
31 मार्च तक लॉक डाउन
अभी प्रारंभ में मध्य प्रदेश के 7 जिलों को जनता कर्फ्यू की अतिरिक्त 31 मार्च 2020 तक लॉक डाउन रखने का फैसला लिया है सूत्रों के हवाले से खबर प्राप्त हो रही है की 31 मार्च 2020 के पश्चात भी लॉक डाउन रह सकते हैं साथ ही देश में 75 जिलों के अलावा आवश्यकता पड़ने पर अन्य जिलों को भी लागू किया जा सकता है
कोरोना का महत्वपूर्ण उपचार
यह संक्रमण विदेश से देश की ओर आया है परंतु इसे विदेशी समझकर इग्नोर करने से स्थितियां अत्यंत गंभीर हो सकती हैं और यह ब्रह्म ना रखें की करो ना केवल विदेश से लौटे लोगों को ही हो सकता है वास्तव में यह सोशल कॉन्ट्रैक्ट से उत्पन्न रोग है इसीलिए देश के प्रधानमंत्री ने जनता कर्फ्यू की घोषणा की है इस बीमारी का सबसे महत्वपूर्ण उपचार स्वयं को घर में लॉक करके रखना है क्योंकि कोरोना से बचत तभी संभव है जब व्यक्ति बाहर ना निकले और अपने घर पर ही रहे क्योंकि को रोना संपर्क से उत्पन्न होने वाली बीमारी है और जो व्यक्ति इस बीमारी की चपेट में आ गए हैं उन्हें भी डरने घबराने की जरूरत नहीं है और डॉक्टर से तुरंत संपर्क करने की आवश्यकता है
कोरोना ना संक्रमित व्यक्ति को क्या करना है
1 यदि आपको कोरोना कि कोई भी लक्षण प्रतीत होते हैं तो आप तत्काल किसी भी शासकीय चिकित्सालय में जाकर अपनी जांच अवश्य कराएं घरेलू उपचार के भरोसे में कदापि ना रहे हैं
2 संक्रमण की लक्षण प्रकट होते ही आप स्वयं को आइसोलेट कर दे यानी कि आप लोगों से मिलना जुलना बंद कर दें क्योंकि आपकी या लापरवाही आपके लिए और दूसरों के लिए भी जानलेवा हो सकती हैं
3 कोरोना के लक्षण प्रकट होने के पश्चात भयभीत हुए बिना शासकीय डॉक्टर से संपर्क करें
4 कोरोना से संक्रमित व्यक्ति को चाहिए कि वह अपने संपर्क को तुरंत विराम दे दे और अपना उपचार तत्काल शुरू करवा दें साथ ही महत्वपूर्ण कार्य है कि विगत 15 दिनों में वह जिन जिन लोगों से मिला है उसकी एक सूची तैयार करवा दें ताकि ऐसे व्यक्तियों को संदेहास्पद मानते हुए सरकार तत्काल उपचार और संक्रमण फैलने से रोकने की व्यवस्था कर सकें
कोरोना ना संक्रमित व्यक्ति को क्या करना है

बचाव के महत्वपूर्ण उपाय
1 दिन में कम से कम 5 बार साबुन से हाथ धोए
2 घर से बाहर बिल्कुल ना निकले और यदि बहुत आवश्यक है तो मास्क लगाएं साथ ही किसी को स्पर्श ना करें
3 हाथ मिलाने की जगह नमस्कार करें
4 मास्क ना मिलने की स्थिति में मुंह में साफ सुथरा कपड़ा भी बांधा जा सकता है
5 सोशल कांटेक्ट से बचें और अफवाह ना फैलाएं

जनता कर्फ्यू की तरह लॉग डाउन का भी हो कड़ाई से पालन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर 21 मार्च 2020 को संपूर्ण भारतवर्ष में जनता कर्फ्यू का पालन ईमानदारी और निष्ठा के साथ होता प्रतीत हो रहा है निश्चित ही जनता का यह कदम सराहनीय है और यह इस देश को कोरोना से लड़ने की शक्ति प्रदान करेगा परंतु स्मरण रहे की सरकार ने जिन जिन जिला मुख्यालयों को लॉक डाउन करने की घोषणा की है उसका उल्लंघन करना स्वयं एवं दूसरे के स्वास्थ्य के साथ की जाने वाली गंभीर छेड़छाड़ होगा
कोरोना से लड़ने हुए यह बड़े फैसले।

1 संपूर्ण देश में 21 मार्च 2020 को जनता कर्फ्यू की घोषणा और नागरिकों द्वारा प्रधानमंत्री के इस आग्रह के पश्चात जनता कर्फ्यू का कड़ाई से पालन हुआ।
2 संपूर्ण देश में 31 मार्च 2020 तक सभी स्कूल कॉलेज सरकारी दफ्तर एवं निजी संस्थान को पूर्णता बंद रखने की घोषणा की गई है।
3 लॉक डाउन और जनता कर्फ्यू की स्थिति में आवश्यक सेवाएं जैसे कि स्वच्छता स्वास्थ्य एवं मीडिया संस्थान एवं उनके कर्मचारी आवश्यकता पड़ने पर सुरक्षात्मक उपायों के साथ अपने कार्य पर जा सकते हैं
4 31 मार्च 2020 तक प्रदेश में सभी रेल सेवाएं स्थगित रहेंगी कोई भी यात्री ट्रेन नहीं चलाई जाएगी यद्यपि माल गाड़ियां प्रारंभ रहेंगे
5 आवश्यक सेवाएं जैसे कि किराना दूध दवाई इत्यादि चालू रहेंगी किंतु जनता से प्रशासन का यह आग्रह जारी रहेगा की बहुत आवश्यकता पड़ने पर ही घर से बाहर निकले।
6 सभी परीक्षाएं जिसमें स्कूल कॉलेज एवं प्रतियोगी परीक्षाएं भी शामिल है 31 मार्च 2020 तक स्थगित कर दी गई है ।
कुल मिलाकर बचाव का सबसे बड़ा उपाय
कोरोना वायरस से बचने का सबसे आसान तरीका सोशल कॉन्ट्रैक्ट को रोज रोकना है अतः हम कम से कम लोगों से मिले जब तक कोई काम ना हो घर से बाहर ना निकले जनता कर्फ्यू तो एक बहाना है यदि जरा भी लापरवाही हुई तो बहुत लंबे समय तक राष्ट्र को परेशानी झेलनी पड़ेगी और यदि सतर्कता पूर्वक लॉक डाउन और घर में रहकर संक्रमण को रोकने की व्यवस्था की तो निश्चित ही आ जाना हम जीत जाएंगे

Related posts

Leave a Comment