चार राशियों के लिए बड़ी खुशखबरी, बुध दूर करेंगे राहु का दोष, जानें अपना भी हाल

महान गणितज्ञ ग्रह चंद्रपुत्र बुध एक जून की मध्य रात्रि से अपने घर मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे। जहां ये पहले से विराजमान मंगल और राहु के साथ युति करेंगे। फलित ज्योतिष में बुध बैंकिंग सेक्टर्स बीमा, शल्य चिकित्सा, गणित, ज्योतिष, चार्टेड अकाउंटेंट, वकालत, लेखन, प्रकाशन आदि का कारक माना जाता है, इसलिए इन क्षेत्रों से संबंधित लोगों के लिए यह अच्छी खबर है। स्टॉक मार्केट और बैंकिंग सेक्टर्स के लिए भी यह अच्छी खबर है।

मंगल 22 जून को कर्क राशि में प्रवेश करेंगे और बुध 20 जून को। अत: कल से आग की घटनाओं में कमी आएगी। इनका त्रिग्रही योग और उस पर शनि-केतु की परस्पर दृष्टि का मानव जीवन पर कैसा पड़ेगा प्रभाव, ज्योतिषीय विश्लेषण जानने के लिए पढ़े-

बुध का मिथुन राशि में गोचर

मेष
इस राशि के जातकों के लिए बुध का परिवर्तन जिद और आवेश में कमी लाएगा किंतु वाक चातुर्यता और सूझबूझ के साथ काम निकालने के लिए मददगार सिद्ध होगा। चूंकि बुध शत्रु भाव के स्वामी हैं, इसलिए अगले 20 दिनों तक आप गुप्त शत्रुओं से बचें और अपनी सेहत पर ध्यान दें।
वृष
इस राशि के जातकों के लिए यह परिवर्तन आर्थिक तंगी से मुक्ति दिलाने में मददगार सिद्ध होगा। यही योग आपकी वाणी कुशलता बढ़ाएगा। जिसके परिणामस्वरूप रुके हुए कार्य बनेंगे और मकान, वाहन के क्रय-विक्रय का योग बनेगा।

मिथुन
कई दिनों से आपकी राशि पर पड़ रही मंगल और राहु की तपिश में कमी आएगी। आपकी मानसिक व्यग्रता तो दूर होगी ही आर्थिक पक्ष भी मजबूत होगा। किसी भी तरह की शिक्षा प्रतियोगिता में शामिल होना चाहें तो अवसर सुपरिणामदायक रहेगा। आपके द्वारा लिए गए निर्णय एवं किए गये कार्यों की सराहना होगी।

कर्क
इस राशि के जातकों के लिए बुध दोहरे प्रभाव वाले सिद्ध होंगे। कार्य व्यापार अथवा करियर की दृष्टि से तो यह अनुकूल रहेंगे ही, साथ ही यात्रा देशाटन का पूरा लाभ देंगे। इस अवधि के मध्य आपको विदेशी कंपनी अथवा विदेशी मित्रों से लाभ होगा। नौकरी के आफर आ सकते हैं।

सिंह
इस राशि के जातकों के लिए यह युति हर प्रकार से लाभदायक रहेगी। आय के एक से अधिक साधन बनेंगे। रुका हुआ धन आएगा। प्रतियोगिता के परिणाम सार्थक रहेंगे। प्रयास करें कि परिवार के बड़े बुजुर्गों से विवाद अथवा मतभेद न होने दें।
कन्या
इस राशि के जातकों के कर्मभाव में बन रही यह युति कहीं न कहीं भद्रयोग का निर्माण करेगी। जिसके फलस्वरूप नौकरी में पदोन्नति, स्थान परिवर्तन के योग और सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। यह अवसर कामयाबी की दृष्टि से सर्वथा अनुकूल रहेगा। इसलिए, कार्य योजनाओं को पूर्ण करने के लिए पूरी ताकत लगा दें।

तुला
तुला राशि वालों के भाग्य भाव में स्वग्रही बुध का आना यात्रा देशाटन का लाभ कराएगा। संतान संबंधी चिंता दूर होगी, किंतु अधिक व्यय से मानसिक अशांति रहेगी। कार्य—व्यापार की दृष्टि से यह युति सुखद परिणाम देगी।

वृश्चिक
इस राशि वालों के लिए यह परिवर्तन थोड़ी सी राहत देगा। सेहत की दृष्टि से यह युति उतनी अनुकूल नहीं रहेगी। विशेष कर चर्म रोग, उदर विकार, सर्वाइकल से संबंधित बीमारियों से बचना होगा। विद्यार्थियों के लिए विशेष सलाह है कि वह अपनी पढ़ाई पर पूरा ध्यान दें, ताकि सुखद परिणाम मिल सके।

धनु
सप्तम भावगत बुध शादी विवाह संबंधी दायित्व की पूर्ति करेगा। आपके लिए व्यापार में आ रही बाधा काफी हद तक कुछ दिनों के लिए दूर होगी। प्रेम संबंधों के प्रति संवेदनशील रहें। यदि कोई भी नया कार्य या व्यापार आरंभ करना चाह रहे हों, जब तक पूर्ण न हो जाए उसे सार्वजनिक न करें।

मकर
इस राशि के जातकों के लिए यह परिवर्तन मिलाजुला रहेगा। ऋण, रोग और शत्रुओं से बचने का समय है। कोर्ट—कचहरी के मामले बाहर निबटा लेना बेहतर रहेगा। महंगी वस्तुओं के खरीदने का योग बन रहा है।
कुंभ
कुंभ राशि वालों के लिए यह योग शिक्षा, प्रतियोगिता की दृष्टि से बेहतरीन रहेगा। किसी भी तरह के अनुबंध हासिल करना चाहें तो यह युति पूर्ण लाभ दिलाएगा। नव दंपत्तियों के लिए संतान प्राप्ति अथवा प्रादुर्भाव का योग बनेगा।

मीन
इस राशि के जातकों के लिए चतुर्थ भाव में बुध का आना मानसिक संताप से मुक्ति दिलाएगा। मित्रों से चल रहा मनमुटाव तो दूर होगा ही साथ ही मकान-वाहन के क्रय का सुंदर योग बना हुआ है। माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति गंभीर रहें।

Related posts

Leave a Comment