दूरदर्शन के 60 साल

 

15 सितंबर 1959 का दिन भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित हो गया, क्योंकि यही वह दिन था जिस दिन लोक सेवा प्रसारण दूरदर्शन को लांच किया गया था ।आज 60 साल बाद भी दूरदर्शन की लोकप्रियता बनी हुई है भले ही विभिन्न चैनलों की शुरुआत हुई है लेकिन दूरदर्शन का जो क्रेज लोगों में बना हुआ था और आज भी हैं ,वैसा किसी अन्य चैनल का नहीं है ।दूरदर्शन के कुछ कार्यक्रम तो इतने लोकप्रिय हुए कि आज भी उनका एक एक सीन लोगों की नजरों के सामने आ जाते हैं।
जिनमें से मुख्य रूप से रामायण ,हम लोग, बच्चों का लोकप्रिय धारावाहिक शक्तिमान, तो वहीं दूसरी ओर फौजी जैसे अन्य कई सीरियल आज भी लोगों के दिल में जगह बनाई हुई है ।रविवार की सुबह आने वाला संगीत मय कार्यक्रम रांगोली आज भी लोगों की पहली पसंद है इनमें से कुछ लोकप्रिय धारावाहिकों का हम यहां ज़िक्र जरूर करना चाहेंगे।

सबसे पहले हम बात करते हैं रामायण की

रामायण धारावाहिक 1987 के समय शुरू हुआ था और इसने दर्शकों के मन में जो जगह बनाई थी वह आज भी बरकरार है पहले के समय में हर घर टेलीविजन नहीं हुआ करता था तब लोग दूसरों के घरों पर जाकर रामायण देखने के लिए पहले ही अपनी जगह सुनिश्चित कर लिया करते थे भगवान राम के रूप में अरुण गोविल को लोगों ने राम मानना शुरू कर दिया था स्वयं इस किरदार को निभाने वाले अरुण गोविल यह कहते हैं कि इस चरित्र को निभाने के बाद उनमें काफी परिवर्तन आया।

एक अन्य धारावाहिक हम लोग

जो उस समय का बेहतरीन पारिवारिक धारावाहिक हुआ करता था इस धारावाहिक में क्योंकि एक मध्यमवर्गीय परिवार की कहानी थी अतः इस ने आम लोगों के बीच अपनी एक अच्छी जगह बनाई थी।

कुछ इसी तरीके से बच्चों के धारावाहिक शक्तिमान

और युवा वर्ग के दिल की धड़कन धारावाहिक फौजी

जैसे धारावाहिकों ने लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाई थी ।

उड़ान सीरियल से कई लड़कियों को अपना कैरियर पसंद करने में मदद मिली थी।

तो वहीं दूसरी ओर बुनियाद नामक धारावाहिक सभी का पसंदीदा धारावाहिक हुआ करता था ।

हम अन्य टीवी चैनल की आलोचना तो नहीं करते किंतु यह अवश्य कहा जा सकता है कि जो जगह दूरदर्शन ने सभी के दिलों में बनाई वैसी जगह बना पाना मुश्किल है ।

जिस सादगी और सरलता के साथ दूरदर्शन के धारावाहिक संगीतमय कार्यक्रम रंगोली हो

चाहे व्यंकटेश बक्शी जैसे जासूसी सीरियल

या फिर समाचार में जो गंभीरता और सटीकता हो।

ऐसा किसी अन्य चैनल में आना मुश्किल है यही कारण है कि दूरदर्शन ने पिछले 60 सालों से आज भी सबके दिलों में जगह बना कर रखा हुआ है।

Related posts

Leave a Comment