पुलिस ने पत्रकार के साथ किया ऐसा सलूक डीजीपी ने किया तत्काल निलंबित

पत्रकार को अवश्य ही चौथा स्तंभ माना जाता हैं लेकिन हर रोज हम किसी ना किसी पत्रकार के साथ मारपीट लड़ाई झगड़े की खबर सुनते रहते हैं । पत्रकार का काम होता है अपने आसपास समाज प्रदेश देश और दुनिया में हो रहे हैं अच्छे बुरे दोनों प्रकार की खबरों को सामने लाने की ताकि अच्छाई से जनता प्रेरणा से ले और बुराई को समाज से हटाया जा सके लेकिन छ पत्रकार समाज के किसी बुराई को अंत करने के लिए आवाज उठाता है तो समाज के ही कुछ लोग यहां तक कि शासन प्रशासन भी उनके खिलाफ खड़ा हो जाता है ।

 

ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के शामली में देखने को आया जहां एक गुड्स ट्रेन की पटरी से उतर जाने की खबर करते हुए पत्रकार को जीआरपी के पुलिस ने पकड़ कर मारपीट की यहां तक कि उसको घसीट कर लॉकअप में बंद भी कर दिया गया और उसे रात भर लॉकअप में बंद रखा गया इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है इस बात की खबर जब उत्तर प्रदेश डीजीपी को लगी तो तत्काल उन्होंने दोनों पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है


डीजीपी ओपी सिंह तत्काल ही राकेश कुमार और कॉन्स्टेबल संजय कुमार को निलंबित करने का आदेश जारी कर दिया है साथ ने कहा है कि नागरिकों के साथ दुर्व्यवहार करने वाले पुलिसकर्मियों को सजा दी जाएगी।


न्यूज़ चैनल के पत्रकार अपनी आपबीती सुनाते हैं और वीडियो वायरल हुआ है जिसमें यह आसानी से देखा और सुना जा सकता है कि इस तरीके से एसएचओ राकेश कुमार और अन्य पत्रकार के साथ मारपीट कर रहे हैं पत्रकार वायरल वीडियो में बता रहे हैं कि मेरे कैमरे को उन्होंने गिरा दिया और जब मैंने अपने कैमरे को उठाने की कोशिश की तो वह मुझे गालियां देने लगे उन्होंने मेरा मुंह बंद कर दिया और मुझे निर्वस्त्र कर मारपीट के पत्रकार का तो यह भी आरोप है कि उन्होंने मेरे मुंह पर पेशाब की की चक्की में लगातार उनसे बात करने की कोशिश करता रहा है लेकिन भी बार-बार मेरे मुंह पर थप्पड़ मारते गए उन्होंने मेरी एक ना सुनी केवल यह मानकर कि रेलवे की नेगेटिव स्टोरी की कवरेज कर रहा हूं यही बोल कर मेरे साथ मारपीट करते रहे यह पूरी कथा मानपुरा में प्रेम के बच्चे से उतरने के बाद क्यों कवर करने के दौरान पत्रकार के साथ घटित हुई।

Related posts

Leave a Comment