हेल्थटीप्स

बैक्टीरिया पर चल रहा काम कि मच्छर काटेंगे पर डेंगू-मलेरिया नहीं होगा

बैक्टीरिया पर चल रहा काम कि मच्छर काटेंगे पर डेंगू-मलेरिया नहीं होगा

हेल्थटीप्स
न्‍यूज 4 इंडिया। भारत सरकार ने 2027 तक देश में डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया खत्म करने का लक्ष्य तय किया है। इसके लिए जबलपुर के इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के सेंटर नेशनल इंस्टिट्यूट फॉर रिसर्च इन ट्राइबल हेल्थ (एनआईआरटीएच) में रिसर्च शुरू हो गई है। खास बात ये है कि इस सेंटर में व्हूलबाकिया नामक ऐसे बैक्टीरिया पर काम चल रहा है, जो मच्छरों के भीतर ही डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया के पैरासाइट (परजीवी) को निष्क्रिय कर देगा। यानी रिसर्च के बाद देश में मच्छर तो रहेंगे और काटेंगे भी लेकिन डेंगू, मलेरिया, चिकनगुनिया नहीं फैला सकेंगे। एनआईआरटीएच के डायरेक्टर डॉ. अपरूप दास का दावा है कि देश में पहली बार 2 करोड़ की लागत से इतना बड़ा विशेष कैज (पिंजरा) बनाया जा रहा है। इस तरह होगी रिसर्च एक एकड़ में एल्युमीनियम की मच्छरदानीनुमा डोम बनाया जाएगा। इसमें व्हूलबाकिया बैक्टीरिया से लै
डायबिटीज के मरीजों के लिए खुशखबरी, ऐसे ठीक हो सकती है ये लाइलाज बीमारी

डायबिटीज के मरीजों के लिए खुशखबरी, ऐसे ठीक हो सकती है ये लाइलाज बीमारी

हेल्थटीप्स
लंदन न्‍यूज 4 इंडिया। लोगों को यही लगता है कि डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है लेकिन एक नई रिसर्च में इसके ठीक करने का उपाय मिल गया है। हाल ही में यूके के न्यूकैसल यूनिवर्सिटी में हुए रिसर्च में मिले परिणाम डायबिटीज के मरीजों के लिए खुशखबर लेकर आए हैं। यूनिवर्सिटी के प्रो. रॉय टेलर के मुताबिक अगर आप कम कैलोरी की डाइट लेंगे तो यह बीमारी धीरे-धीरे कम होने लगेगी। वे बताते हैं कि टाइप 2 डायबिटीज लीवर और पैनक्रियाज पर ज्यादा फैट जमा होने से होती है। इसके कारण लीवर पर ज्यादा ग्लूकोस बनाने लगता है, इसलिए यदि कम कैलोरी वाली डाइट लें तो यह सिचुएशन ठीक हो सकती है। इस रिसर्च के परिणाम को यूरोपियन एसोसिएशन फोर द स्टडी ऑफ डायबिटीज में पेश किए गए थे। इस रिसर्च के लिए 2011 में हुए एक प्रयोग में टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों को कम कैलोरी वाली डाइट दी गई थी। इससे उनका वजन कम हुआ था और डायबिटीज में भी रा
भुट्टे में छिपा सेहत का खजाना, इन बीमारियों में है रामबाण

भुट्टे में छिपा सेहत का खजाना, इन बीमारियों में है रामबाण

हेल्थटीप्स
न्‍यूज 4 इंडिया।  बारिश का मौसम हो और भुट्टे की चर्चा न हो तो बात अधूरी लगती है। सड़क के किनारे खड़े होकर ठेले से भुट्टा लेने की बात याद आते ही उसकी सोधी खुशबू और भुट्टे पर बड़े मन से लगाये गये नीबू-नमक का अंदाज ही निराला होता है। पीले रंग का भुट्टा देखते ही अभी भी दिल मचल जाता है। भुट्टे में कैरोटीन की मौजूदगी के कारण यह पीला होता है। भुट्टे को गरीबों का भोज्य पदार्थ भी कहा जाता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट की अधिकता होती है तथा खनिज और विटामिन जैसे पोटेशियम, फासफोरस, आयरन और थायसीन जैसे तत्व भी होते हैं। इतना ही नहीं आयुर्वेद के अनुसार, भुट्टा कफ-पित्त नाशक व दस्त रोकने वाला भी है। विटामिन ए, बी-2, ई, फास्फोरस, पोटैशियम, कैल्शियम, आयरन, आर्गेनिक अम्ल, फैट और प्रोटीन से भरपूर भुट्टा ऊर्जा का भी अच्छा स्त्रोत है। कार्नफ्लैक्स की तरह खाने से यह हृदय रोग में भी सहायक है। यह घरेलू उपचार के ल
सेहत सस्ती है किन्तु बीमारी महंगी है

सेहत सस्ती है किन्तु बीमारी महंगी है

मध्य प्रदेश, हेल्थटीप्स
सेहत सस्ती है किन्तु बीमारी महंगी है बैतूल न्यूज 4 इंडिया  कलेक्टर श्री शशांक मिश्र ने कहा कि जिले में एक से सात सितंबर तक चलाए जाने वाले राष्ट्रीय पोषण सप्ताह के दौरान पोषण के प्रति जागरूकता लाने के लिए जमीनी स्तर पर कार्य किया जाए। खासतौर पर ग्रामीण क्षेत्रों की कामकाजी महिलाओं को स्वयं एवं उनके बच्चों के पोषण के प्रति सजग बनाया जाए। सप्ताह के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का दायित्व होगा कि वे घर.घर जाकर लोगों को पोषण के प्रति जागरूक करें। ग्रामीण क्षेत्रों में ऑडियो और वीडियो के माध्यम से भी पोषण के संबंध में जानकारी दी जाए। श्री मिश्र गुरूवार को जिला पंचायत के सभाकक्ष में राष्ट्रीय पोषण सप्ताह अंतर्गत आयोजित जिला स्तरीय मीडिया कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि सप्ताह के दौरान आंगनबाडिय़ों में मुनगा के पौधे लगाने एवं उपलब्ध मुनगा के उपयोग के प्रति जागरूकता
आयुष मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के द्वितीय चरण का आयोजन 7 14 और 21 सितंबर को

आयुष मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के द्वितीय चरण का आयोजन 7 14 और 21 सितंबर को

छिंदवाड़ा अप्डेट्स, हेल्थटीप्स
छिन्दवाडा न्यूज 4 इंडिया   आयुष मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के द्वितीय चरण का आयोजन 7 14 और 21 सितंबर को आयुष मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम का द्वितीय चरण 7 14 और 21 सितंबर को आयोजित किया जायेगा । इस कार्यक्रम के अंतर्गत मलेरिया से सर्वाधिक प्रभावित विकासखंड हर्रईए जुन्नारदेव और तामिया की एक लाख 46 हजार 795 जनसंख्या को मलेरिया से बचाव की होम्योपैथिक औषधि मलेरिया ऑफ.200 वितरित की जायेगी । जिला आयुष अधिकारी डॉण्आरण्केण्जैन ने बताया कि आयुष मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के द्वितीय चरण की तैयारियां की जा रही है तथा विभाग के पंचकर्म थैरेपी सेंटर में होम्योपैथिक औषधि मलेरिया ऑफ.200 का निर्माण और पैकिंग जारी है ।
भारतीयों में है किस विटामिन की कमी

भारतीयों में है किस विटामिन की कमी

हेल्थटीप्स
नई दिल्ली //देश के अधिकांश लोगों में विटामिन बी12 की कमी है आई एम ए के अध्यक्ष डॉक्टर के के अग्रवाल के मुताबिक इस से एनीमिया थकान कब्ज, याददाश्त में कमी मुंह में छाले, बांझपन जैसे दिक्कतें हो सकती है। मल्टीविटामिन या सोया युक्त आहार से यह कमी दूर की जा सकती है।
नींद से अचानक उठकर मत करें ऐसे काम, हो सकता है हार्ट अटैक

नींद से अचानक उठकर मत करें ऐसे काम, हो सकता है हार्ट अटैक

हेल्थटीप्स
1. नींद से जुड़ी अनजानी बातें नींद से जुड़ी आपने बहुत सी बातें सुनी होंगी। पूरी नींद लेनी चाहिए, किस तरह के बिस्तर का इस्तेमाल करें कि अच्छी नींद आए, पूरी एवं अच्छी नींद क्यों है जरूरी, यहां तक कि नींद के दौरान होने वाले अनुभवों के बारे में भी आपने सुन रखा होगा। लेकिन आज हम आपको नींद से जुड़ी एक पते की बात बताने जा रहे हैं। 2. कितने घंटे की नींद हो हमारे लिए कितने घंटे की नींद जरूरी है, हमें रात में कितने बजे सो जाना चाहिए और सुबह कितने बजे उठना चाहिए यह सब डॉक्टर बताते हैं। लेकिन एक बात जो कोई नहीं बताता है वह यह कि आपको नींद से किस प्रकार से उठना चाहिए। 3. झटके से ना उठे जी हां... सुनने में शायद अजीब लग रहा हो लेकिन आप नींद से किस प्रकार से उठते हैं इसका सीधा असर आपके हार्ट पर होता है। कुछ लोग सुबह आराम से अपना बिस्तर छोड़ते हैं लेकिन वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अचानक झटके के साथ उ
गर्मियों में स्वस्थ कैसे रहें?

गर्मियों में स्वस्थ कैसे रहें?

हेल्थटीप्स
गर्मियों में स्वस्थ कैसे रहें? सेहत के लिए बदलें अपनी दिनचर्या दिनचर्या में थोड़ा-सा व आसान परिवर्तन आपको स्वस्थ व दीर्घायु बना सकता है। बशर्ते आप कुछ चीजों को जीवनभर के लिए अपना लें और कुछ त्याज्य चीजों को हमेशा के लिए दूर कर दें। गर्मी के मौसम में स्वस्थ रहने के लिए यह आवश्यक है कि प्रातःकाल घूमने जाएँ । गर्मी के दिनों में स्वास्थ्य बिगड़ने में देर नहीं लगती है। सूर्योदय से पहले उठकर शुद्ध वायु के सेवन के लिए घूमना अत्यंत... अत्यंत आवश्यक है। * गर्मी में दोपहर को घर से बाहर जाने के पहले एक गिलास ठंडा पानी अवश्य पीना चाहिए तथा एक प्याज जेब में रखना चाहिए। इससे लू का प्रभाव नहीं होता। * दिन में एक या दो बार नीबू-पानी-शकर डालकर पीना चाहिए। इसके अतिरिक्त दही, छाछ या मीठे शर्बत का सेवन करना चाहिए। यदि यह संभव न हो तो एक गिलास पानी में 1-2 चम्मच ग्लूकोज घोलकर पीना चाहिए। इससे शर
सर्वाईकल स्पौण्डिलाइटिस का घरेलु सरल उपचार

सर्वाईकल स्पौण्डिलाइटिस का घरेलु सरल उपचार

हेल्थटीप्स
गर्दन में स्थित रीढ़ की हड्डियों में लंबे समय तक कड़ापन रहने, उनके जोड़ों में घिसावट होने या उनकी नसों के दबने के कारण बेहद तकलीफ होती है। इस बीमारी को सर्वाईकल स्पौण्डिलाइटिस कहा जाता है। दूसरे नाम सर्वाइकल ऑस्टियोआर्थराइटिस, नेक आर्थराइटिस और क्रॉनिक नेक पेन के नाम से जाना जाता है। इसमें गर्दन एवं कंधों में दर्द तथा जकड़न के साथ-साथ सिर में पीड़ा तथा तनाव बना रहता है। आधुनिक चिकित्सा में सर्वाइकल स्पौण्डिलाइटिस का इलाज फिजियोथेरेपी तथा दर्द निवारक गोलियां हैं। इनसे तात्कालिक आराम तो मिल जाता है, किंतु यह केवल अस्थायी उपचार है। योग ही इस समस्या का स्थाई समाधान है, क्योंकि यह इस बीमारी को जड़ से ठीक कर देता है। लेकिन जब रोगी को चलने-फिरने में दिक्कत आने लगे तो दवाएं, फिजियोथेरेपी तथा आराम ही करना चाहिए। ऐसी स्थिति में यौगिक क्रियाओं का अभ्यास नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह स्थिति र
गुड़ खाने के स्वास्थ लाभ

गुड़ खाने के स्वास्थ लाभ

हेल्थटीप्स
खाना खाने के बाद अक्सर मीठा खाने का मन करता है, इसके लिए सबसे बेहतर है कि आप गुड़ खाएं । गुड़ का सेवन करने से आप हेल्दी बने रह सकते हैं । जानिये गुड आपको कौन-कौनसे स्वास्थ लाभ देता है- पाचन क्रिया को सही रखना- गुड़ शरीर का रक्त साफ करता है और मेटाबॉल्जिम ठीक करता है । रोज एक गिलास पानी या दूध के साथ थोडे से गुड़ का सेवन पेट को ठंडक देता है । इससे गैस की दिक्कत नहीं होती- जिन लोगों को गैस की परेशानी है, वो रोज़ लंच या डिनर के बाद थोड़ा गुड़ ज़रुर खाएं । गुड़ आयरन का मुख्य स्रोत है- इसलिए यह एनीमिया के मरीज़ों के लिए बहुत फायदेमंद है । खासतौर पर महिलाओं के लिए इसका सेवन बहुत अधिक उपयोगी है । त्वचा के लिए- गुड़ रक्त को शुद्ध करता है, जिससे त्वचा दमकती है और मुहांसे की समस्या नहीं होती है । गुड़ की तासीर- गुड़ की तासीर गर्म है, इसलिए इसका सेवन जुकाम और कफ से आरा