[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: महाराष्ट्र | News 4 India

महाराष्ट्र

हिट एक्शन प्लान लागू है मगर फिर भी 

हिट एक्शन प्लान लागू है मगर फिर भी 

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। सूरज आग उगल रहा है तेज तपिश में चलना तो दूर दो पल खड़े रहना भी खतरे से खालीनहीं, पर कुछ ऐसे भी लोग हैं जिन्‍हें धूप में काम करने की मजबूरी है। हिम्‍मत नहीं करेंगे, तो उनके घरों में चूल्‍हा नहीं जल पाएगा। रिक्‍शा चालकों, माल ढुलाई करने वालों व अन्‍य मजदूरों की बात कर रहे हैं। लू से बचने के लिए ये टोटकों का सहारा लेते हैं शहर का यह वर्ग है जिस पर हीट एक्‍शन प्‍लान का कोई असर नहीं। मनपा ने हीट एक्‍शन प्‍लान को एडॉप्‍ट कर 43 डिग्री के ऊपर दोपहर में काम करने से मनाही की है। जेब में प्‍याज रख करते हैं काम- हमने चि‍लचिलाती धूप में काम कर रहे कुछ ऐसे ही लोगों से 24 मई को बात की तो उन्‍होंने धूप तो लगती है लेकिन काम नहीं करेंगे तो चूल्‍हा कैसे जलेगा। पति-पत्‍नी दोनों काम करते हैं लेकिन धूप से बचने के लिए जेब में प्‍याज जरूर रखते हैं बड़े-बुजुर्गों का कहना है कि प्‍याज
पोस्ट ऑफिसों में लगेंगे 500000 LED लाइट 

पोस्ट ऑफिसों में लगेंगे 500000 LED लाइट 

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। भारत सरकार के ऊर्जा बचत अभियान को आगे बढ़ाते हुए डाक विभाग ने नागपुर में 5 लाख के एलईडी लाइट लगाने का फैसला किया है इसके लिए नागपुर जिले के 10 पोस्‍ट आफिसों का चयन हुआ और इसमें एलईडी लाइट लगाने का काम भी शुरू हो गया है। पुराने लाइट निकालकर एलईडी लगाने का उद्देश्‍य ऊर्जा की बचत करना है। भारत सरकार ने ऊर्जा की बचत के लिए सभी सरकारी विभागों को पुरानी लाइटें हटाकर उसकी जगह एलईडी लगाने को कहा है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली ईईसीएल को एलईडी लाइट वितरण का काम दिया है। साथ ही हर विभाग का कोटा भी तय किया गया है। भारतीय डाक विभाग ने महाराष्‍ट्र के विदर्भ में एलईडी लाइट लगाने के लिए 5 लाख का निधि मंजूर किया। नागपुर जिले में इतवारी व जीपीओ सहित 10 पोस्‍ट आफिसों में एलईडी लाइट लगाई जाएगी। इसकी टेंडरिंग हुई और शंकरनगर व कामठी पोस्‍ट आफिस में लाइट लगाने
कृपाशंकर सिंह के बाद अब उनका पूरा परिवार भी हुआ बरी

कृपाशंकर सिंह के बाद अब उनका पूरा परिवार भी हुआ बरी

महाराष्ट्र
मुंबई न्‍यूज 4 इंडिया।   विशेष न्यायाधीश डी.के. गुडधे ने महाराष्ट्र के पूर्व गृह राज्यमंत्री कृपाशंकर सिंह की पत्नी मालती देवी, बेटे नरेंद्र मोहन, बेटी सुनिता और दामाद  को मंगलवार को साल 2012 के आय से अधिक संपत्ति के मामले में बरी कर दिया। इस मामले में कृपाशंकर सिंह को विशेष अदालत ने फरवरी 2018 में पहले ही बरी कर चुकी है। इस आधार पर बरी हुए थे कृपाशंकर सिंह - कृपाशंकर सिंह के वकील के.एच. गिरी ने बताया कि आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू), भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) इन तीन एजेंसियों ने संयुक्त रूप से जांच की थी। - अदालत में आरोपपत्र ईओडब्ल्यू ने दाखिल किया था। परंतु अदालत में दाखिल आरोपपत्र में ईओडब्ल्यू ने जानबूझ कर यह बात छुपाई कि जांच एजेंसी को विधानसभा अध्यक्ष ने पहले 14 जून 2014 और बाद में 21 अक्टूबर 2014 को कृपाशंकर सिंह के खिलाफ प्रिवेंशन आॅफ करप
तुअर फेंक किया निषेध

तुअर फेंक किया निषेध

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। राज्‍य सरकार द्वारा तुअर खरीदी के आश्‍वासन के बाद भी तुअर खरीदी बंद की गई, जिससे बड़े पैमाने में तुअर किसानों के घर में पड़ी है। सरकार तुरंत तुअर खरीदी करे। इसके लिए पूर्व मत्री अनिल देशमुख के नेतृत्‍व में काटोल में तुअर फेंककर सरकार का निषेध किया गया। एसडीओ, काटोल के माध्‍यम से मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के नाम ज्ञापन सौंपकर तुअर खरीदी की मांग की। अन्‍यथा राष्‍ट्रवादी कांग्रेस की और से तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी ज्ञापन में दी गई है। इस अवसर पर कृषि उत्‍पन्‍न बाजार समिति सभापति तार‍केश्‍वर शेलके, अनूप खराडे, दीपक मोहिते, गणेश चन्‍ने, बापूराव सातपुवे, अरूण राऊत, संजय डांगोरे सहित अन्‍य उपस्थित थे। सरकार ने तुअर खरीदी का शुभारंभ ऑनलाइन किया था जिससे कितनी तुअर खरीदी करना है यह ज्ञात था उसी प्रकार गोदाम एवं बारदाना का नियोजन कर तुअर खरीदी करना आवश्‍यक था लेकिन
नोटों पर न चलाए पेंसिल  न ही कलम

नोटों पर न चलाए पेंसिल  न ही कलम

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। नोटों पर कुछ भी लिखना नहीं, यह भारतीय रिजर्व बैंक की गाइडलाइन है। बावजूद बैंक कर्मचारी नोटों की गिनती सही हो, इसलिए नोट के एक हिस्‍से में पेंसिल से लिखते रहते हैं यहां इसका उल्‍लेख इसलिए किया जा रहा है, क्‍योंकि डिपाजिट मशीन ऐसे नोटों को स्‍वीकार नहीं कर रही और परेशानी खाताधारक को उठानी पड़ रही है कई बार खाताधारक इस अनुभव को देखते हुए नोट के साथ रबर भी साथ रख लेता है। बैंक में विशेषकर कैशियर नोट के एक हिस्‍से में पेंसिल से गोर करके उसमें आंकड़ा लिखते हैं असल में कैशियर को खाताधारकों को देने के लिए नोटों की गड्डियां मिलती हैं संबंधित राशि खाताधारक को देने के बाद कैशियर बाकी बचे नोटों की गणना सही हो, इसलिए आखिरी नोट के एक हिस्‍से में पेंसिल से गोल बनाकर उसमें कितने नोट हैं यह आंकड़ा लिखते हैं। खाताधारक जब यह नोट डिपाजिट मशीन से बैंक में जमा करना चाहता है, तो
प्रेम प्रकरण, एक न्यायालय ने सुनाई सजा, दूसरे ने दी राहत

प्रेम प्रकरण, एक न्यायालय ने सुनाई सजा, दूसरे ने दी राहत

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। प्रेम प्रकरण में प्रेमिका को धोखा देने के आरोप में जिलासत्र न्‍यायालय ने सुनाई सात साल की कैद हाईकोर्टने नागपुर खंडपीठ में रद्द कर दी। हाईकोर्ट से राहत मिलने वाला किशोर नीमगड़े गड़चिरोली जिले के एटपल्‍ली का रहने वाला ळे 17 जनवरी 1992 को एटापल्‍ली में पुलिस थाने में एक डॉक्‍टर ने अपने पुत्री को भगा ले जाने की शिकायत की थी। डॉक्‍टर की पुत्री की उम्र 16 साल थे वो बी.ए. द्वितीय वर्ष में पढ़ रही थी। आरोपी व डॉक्‍टर की पुत्री के बीच प्रेम संबंध थे उनका एक-दूसरे का पत्र व्‍यवहार शुरू था 10 अक्‍टूबर 1991 से दोनों के बीच शारीरिक संबंध थे वह प्रेमिका को विवाह का झांसा देकर शारीरिक संबंध प्रस्‍थापित करता रहा। गर्भधारणा से बचने के लिए गर्भपात की गोलियां भी दी। प्रेमिका द्वारा विवाह का प्रस्‍ताव रखने पर मुकर गया। विश्‍वासघात होने पर प्रेमिका के पिता की शिकायत पर आरोपी के खिल
मरने के पूर्व दिया बयान, बची पत्‍नी की जान

मरने के पूर्व दिया बयान, बची पत्‍नी की जान

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। पति को जलाकर जान से मारने के आरोप में जिला सत्र न्‍यायालय द्वारा महिला को सुनाई गई उम्रकैद की सजा हाईकोर्ट के नागपुर खंडपीठ ने रद्द कर दी है। पहले लिया गया बयान और मृत्‍यु पूर्व बयान में अंतर आने से हाईकोर्ट ने सजा रद्द करने का फैसला सुनाया। मृतक का नाम इंद्रजीत वानखेड़े और दोषमुक्‍त महिला का नाम आशा वानखेड़े अमरावती जिला के नेर पिंगाई निवासी हैं दोनों का विवाह सन् 1995 में हुआ था। उनकी 3 साल की बेटी है आशा और इंद्रजीत के बीच छोटे-छोटे कारणों से विवाद होते रहते थे पति के साथ विवाद के चलते आशा एक साल से अपने मायके चली गई। इंद्रजीत पत्‍नी को लेने के लिए अनेक बार ससुराल गया, परंतु आशा उसके साथ जाने के लिए मना करती रही। 2 सितंबर 1997 को जब इंद्रजीत उसे लेने के लिए गया, तब भी आशा ने जाने से मना किया, लेकिन इंद्रजीत उसे साथ ले जाने पर अड़ा रहा। बार-बार मना करने पर भी
सहेली बीमार, पर उसके पति के दोस्‍त ने ये क्‍या किया

सहेली बीमार, पर उसके पति के दोस्‍त ने ये क्‍या किया

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। बीमार सहेली से मिलने जाना एक महिला को उस समय महंगा पड़ गया जब सहेली के पति के मित्र ने उससे जबरदस्‍ती करनेका प्रयास किया। घटना देर रात नंदनवन थानांतर्गत हुई। घटना के दौरान महिला को जान से मारने की धमकी भी दी गई। आरोपी के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया गया है। पीडि़त 37 वर्षीय महिला नंदनवन क्षेत्र निवासी हैं 12 मई की रात पीडि़ता बस्‍ती में ही अपनी बीमार सहेली से मिलने उसके घर गई हुई थी। सहेली बीमार होने के कारण उसने सहेली का पति और उसके मित्र रशीद(40) अंसार नगर जबलपुर निवासीको भोजन पकाकर दिया। भोजन पश्‍चात रात करीब 10.30 बजे के दौरान जब पीडि़ता घर के बर्तन मांज रही थी तभी बाथरूम में जाने के बहाने रशीद ने पीडि़ता से जबरदस्‍ती करनेका प्रयास किया। महिला के विरोध करने पर रशीद ने उसे इस बारे में किसी और को बताने पर उसे जान से मारने की धमकी दी। घटित प्रकरण से कुछ समय के लिए हं
ये ले चुके कइयों की जान

ये ले चुके कइयों की जान

महाराष्ट्र
नागपुर न्‍यूज 4 इंडिया। शासकीय चिकित्‍सा महाविद्यालय एवं अस्‍पताल में वेंटिलेटर की कमी के कारण मरीजों को आए दिन परेशानी का सामना करना पड़ता है यहां तक की गंभीर मरीज को एम्‍बु लगाकार मरीज में जान फूंकने की जिम्‍मेदारी परिजनों को दे दी जाती है। परिजनों को चौबीसों घंटे उसे धीरे-धीरे दबाना पड़ता है। जो संभव नहीं है पर परिजन मजबूर हो जाते हैं मेडिकल आईसीयू के अच्‍छे वेंटिलेटर ट्रामा सेंटर में शिफ्ट कर दिए गए हैं। कोई नियम नहीं वर्तमान में मेडिकल के अतिदक्षता विभाग में 9 वेंटिलेटर है जिसमें से एक खराब पड़ा है। फिलहाल आईसीयू में सिर्फ 8 वेंटिलेटर काम कर रहे हैं पहले आईसीयू में वेंटिलेटर की संख्‍या अधिक थी चूंकि आईसीयू में बेड की संख्‍या के अनुपात में वेंटिलेटर लगाने का कोई नियम नहीं है इस वजह से इस ओर किसी का ध्‍यान नहीं जाता है। इससे आईसीयू के वेंटिलेटर ट्रामा केयर सेंटर में शिफ्ट करने
वो शादी में न पहुंच सकी

वो शादी में न पहुंच सकी

महाराष्ट्र
कामठी न्‍यूज 4 इंडिया। शादी समारोह में शामिल होने जा रही एक महिला की 13 मई को नागपुर-कामठी मार्ग पर सड़क हादसे में मौत हो गई। महिला के वाहन को इनोवा ने पीछे से टक्‍कर मार दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी वाहल चालक वाहन सहित फरार हो गया। पुलिस के अनुसार माया गनर, नागपुर निवासी सुरेखा नंदू वाडके(40) पति नंदू वाडके(45) और 5 वर्षीय भांजी सौम्‍य मनीष गायकबाड़(5) के साथ सुबह 10 बजे शादी समारोह में शामिल होने जा रही थी तभी खैरी बुद्ध विहार के सामने पीछे से आ रही इनोवा गाड़ी क्रमांक 6505 के चालक ने नंदू बाडके की डुयेट गाड़ी एमएच-49, ईएफ-7230 को पीछे से टक्‍कर मार दी। इससे सुरेखा के सिर पर गंभीर चोट लगी और उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। घटना के बाद फरार आरोपी चालक वाहन सहित फरार हो गया। हादसे में नंदू वाडके और सौम्‍य गायवाड़ गंभीर रूप से घायलहो गए हैं। पहले उन्‍हें नजदीक के निजी अस्‍पता