बीजेपी सांसद ने खुद झाड़ू नहीं उठाई, अधिकारियों से सफाई कराई, पूछने पर दिया यह जवाब

यूूूूपी के बहराइच जिले से भारतीय जनता पार्टी की सांसद सावित्री बाई फुले ने मोदी सरकार के स्वच्छता अभियान को ढकोसला करार दिया। उन्होंने कहा कि सरकार देश की जनता को गुमराह करने के लिए सफाई अभियान चला रही है। झाड़ू उन लोगों के हाथ में दी जानी चाहिए, जो आरक्षण और संविधान का विरोध कर रहे हैं। सफाई जहां होनी चाहिए वहां हो नहीं रही है। साफ-सुथरी जगह पर झाड़ू लगाकर दिखाया जा रहा है कि हम सफाई कर रहे हैं।

दरअसल, यूपी के बहराइच जिले के नानपारा बस स्टैंड पर स्वच्छता पखवाड़े का आयोजन किया गया था। ये आयोजन परिवहन विभाग ने किया था। सांसद सावित्री बाई फुले को भी इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बुलाया गया था। कार्यक्रम में पहुंची सांसद ने झाड़ू उठाने से इंकार कर दिया। उन्होंने एआरटीओ तथा अन्य अधिकारियों से झाड़ू लगाने के लिए कहा।
सफाई अभियान पर भड़की बीजेपी सांसद, कहा जो संविधान का विरोध कर रहे हैं झाड़ू उनके हाथ में होना चाहिए@farah17khan pic.twitter.com/oAQkgMVg1P

— News18 India (@News18India) October 3, 2018

कार्यक्रम के बाद जब मीडिया ने सांसद से झाड़ू न लगाने के संबंध में सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि सफाई अभियान के नाम पर ढकोसला हो रहा है। सांसद ने आरक्षण की वकालत करते हुए कहा कि झाड़ू उन लोगों को लगानी चाहिए, जो आरक्षण और संविधान का विरोध कर रहे हैं।

सांसद यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने आगे कहा, ”देश के गरीब, लाचार को रोजगार, रोटी, कपड़ा, मकान, मान-सम्मान, अधिकार और सुरक्षा की मांग कर रहा है। उन्हें सरकार रोजगार न देकर उनका दिमाग डायवर्ट कर रही है, इसलिए वे हाथ में झाड़ू नहीं उठाएंगी। अब आरक्षण व संविधान का विरोध करने वालों के हाथों में झाड़ू होना चाहिए। इसीलिए अधिकारियों से झाड़ू लगवाया जा रहा है। इसलिए पूरे भारत में अधिकारी कर्मचारी गंदगी साफ करें। सिर्फ दिखावा और छलावा नहीं चलेगा।”

Related posts

Leave a Comment