मायावती ने कहा, दिग्विजय सिंग जैसे नेता ऐसा नहीं करने देते

न्‍यूज 4 इंडिया लखनऊ. बसपा प्रमुख मायावती ने बुधवार को कहा कि मध्यप्रदेश और राजस्थान में उनकी पार्टी अकेले चुनाव लड़ेगी, कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी। उन्होंने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाया कि वे भाजपा के एजेंट हैं। उन जैसे नेता कांग्रेस-बसपा का गठबंधन नहीं होने देना चाहते।

 

मायावती ने कहा, ‘‘दिग्विजय सिंह बसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष का नाम लेकर यह बयान देते हैं कि मायावतीजी पर केंद्र सरकार का बहुत बड़ा दबाव है। वह सीबीआई और ईडी का डर दिखाकर बसपा और कांग्रेस का किसी भी कीमत चुनावी गठबंधन नहीं होने देना चाहती। यह बयान उन्होंने आज टीवी चैनलों को दिया। यह पूरी तरह से असत्य, निराधार और तथ्यहीन है।’’

 

‘मध्यप्रदेश में 230 में 15 सीटें दे रही थी कांग्रेस’

मायावती ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि सोनिया गांधी और राहुल गांधी तो कांग्रेस-बसपा के बीच गठबंधन चाहते हैं। वे ईमानदारी से कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इन जैसे नेता (दिग्विजय) चाहते हैं कि बसपा खत्म हो जाए। राजस्थान में कांग्रेस हमें 200 में 9 सीटें दे रही थी। मध्यप्रदेश में हमें 230 में से 15-20 और छत्तीसगढ़ में 90 में से केवल 5-6 सीटें दे रही थी। जब भी हम गठबंधन में चुनाव लड़े तो हमारा सारा वोट शेयर कांग्रेस के पास चला गया। हम ज्यादा सीटें हार गए। इस बात पर ध्यान दिया तो हमने सोचा कि कांग्रेस बसपा जैसी छोटी पार्टियों को खत्म करना चाहती है।’’

 

‘जनता ने कांग्रेस की गलतियों को माफ नहीं किया’

बसपा प्रमुख ने कहा- कांग्रेस लगातार अभिमानी होती जा रही है। उन्हें गलतफहमी है कि वे भाजपा को अपने दम पर हरा सकते हैं। लेकिन, जमीनी हकीकत यह है कि जनता ने कांग्रेस की गलतियों और भ्रष्टाचार को माफ नहीं किया है। कांग्रेस अपने आपको पहचानने के लिए तैयार नहीं लगती है।

 

मैं मायावती का सम्मान करता हूं। मैं पहले ही कांग्रेस और बसपा के गठबंधन के पक्ष में हूं। छत्तीसगढ़ में चर्चा हुई, लेकिन बात आगे नहीं बढ़ी। मध्यप्रदेश में भी बातचीत जारी थी, लेकिन उन्होंने 22 उम्मीदवार घोषित कर दिए।

दिग्विजय सिंह

 

मैं मोदी-भाजपा का कड़ा आलोचक: दिग्विजय

मायावती के भाजपा एजेंट बताने पर दिग्विजय ने कहा, ”इस बारे में उन्हीं से पूछिए। मैं मोदीजी, अमित शाह, भाजपा और आरएसएस का कड़ा आलोचक हूं। राहुल गांधी हमारे कांग्रेस अध्यक्ष हैं। हम उन्हीं के निर्देशों का पालन करेंगे।”

 

मतभेदों को सुलझाया जा सकता है- कांग्रेस

बसपा प्रमुख के बयान पर कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा- भावनाओं में कभी-कभी मीठी-कड़वी बातें बोल दी जाती हैं। लेकिन, अगर मायावतीजी का राहुल और सोनिया गांधी में पूरा विश्वास है तो मतभेदों को दूर किया जा सकता है।

 

कांग्रेस के किस दल से कैसे रिश्ते हैं, यह उनका मामला है। लेकिन मैं यही कह सकता हूं कि गठबंधन कांग्रेस के डीएनए में नहीं है। उनके डीएनए में सिर्फ एक परिवार है।

रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय मंत्री

 

छत्तीसगढ़ में 35 सीटों पर लड़ेगी बसपा

मायावती छत्तीसगढ़ में अजित जोगी की छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ेगीं। बसपा यहां 35 और जोगी की पार्टी 55 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। मुख्यमंत्री का चेहरा अजित जोगी रहेंगे।

 

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2013

कुल सीटें: 230

 

पार्टी सीटें वोट शेयर
भाजपा 165 45.7%
कांग्रेस 58 37.1%
बसपा 4 6.4%

 

राजस्थान विधानसभा चुनाव 2013

कुल सीटें: 200

 

पार्टी सीटें वोट शेयर
भाजपा 163 45.7%
कांग्रेस 21 33.1%
बसपा 3 3.4%

 

 

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2013

कुल सीटें: 90

 

पार्टी सीटें वोट शेयर
भाजपा 49 42.4%
कांग्रेस 39 41.6%
बसपा 1 4.4%

 

Related posts

Leave a Comment