सीईओ ने दिया अपने पद से इस्‍तीफा, पर जांच रहेगी जारी

नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। चंदा कोचर ने गुरूवार को आईसीआईसआई बैाक की एमडी एवं सीईओ पद से इस्‍तीफा दे दिया। बैंक ने उनका इस्‍तीफा स्‍वीकार कर लिया है। चंदा ने बैंक और इसकी सब्सिडियरी के बोर्ड से भी इस्‍तीफा दिया है। बैंक ने एक बयान में कहा कि चंदा के खिलाफ जांच जारी रहेगी। उनके रिटायरमेंट बेनिफिट जांच के नतीजों पर निर्भर करेंगे। 57 साल की चंदा का मौजूदा 5 साल का कार्यकाल 31 मार्च 2019 को खत्‍म होना था। बयान में अचानक दिए इस्‍तीफे की वजह नहीं बताई गई है।

इस बीच स्‍वतंत्र निदेशक एम.डी. माल्‍या ने भी सेहत का हवाला देते हुए बोर्ड से इस्‍तीफा दे दिया है। चंदा के खिलाफ हितों के टकराव का आरोप है। आरोप के मुताबिक चंदा के पतित दीपक कोचर की कंपनी न्‍यूपावर रिन्‍युएबल्‍म मे वीडियोकॉन ग्रुप क चेयरमैन वेणुगोपाल धूत ने निवेश किया था। इसके बाद आईसीआईसीआई बैंक ने वीडियोकॉन ग्रुप को 3250 करोड़ का कर्ज दिया।

9 साल से बैंक की एमडी-सीईओ थीं चंदा

1984: मैनेजमेंट ट्रेनी के तौर पर आईसीआईसीआई बैंक ज्‍वाइन किया।

2009: चंदा कोचर को बैंक का एमडी और सीईओ नियुक्‍त किया गया।

2011: चंदा कोचर को पद्म भूषण से सम्‍मानित किया गया।

2017: फोर्ब्‍स ने दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची में शामिल किया।

संदीप बख्‍शी 5 साल के लिए एमडी-सीईओ बनाए गए

बैंक ने संदीप बख्‍शी को नया एमडी-सीईओ बनाया है। उनका कार्यकाल 5 साल के लिए यानी 3 अक्‍टूबर 2023 तक होगा। उन्‍हें 19 जून को बैंक का सीईओ बनाया गया था। इससे पहले वह आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ के एमडी-सीईओ थे। बख्‍शी ने 1986 में बैंक ज्‍वाइन किया था।

Related posts

Leave a Comment