[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: कार्यवाही हुई पर इतनी देरी क्‍यों   | News 4 India

कार्यवाही हुई पर इतनी देरी क्‍यों  

लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया। देश को आक्रोशित करने वाले दुष्‍कर्म के दो मामलों पर 13 अप्रैल को पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रतिक्रिया दी। उन्‍होंने कहा कि गुनहगार बचेंगे नहीं और बेटियों को न्‍याय मिलेगा। इसके बाद यूपी से दुष्‍कर्म के आरोपी भाजपा विधायक की गिरफ्तारी की खबर आई। इससे पहले सीबीआई ने 13 अप्रैल को सुबह आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर को हिरासत में ले लिया था दिन में इलाहाबाद हाईकोर्ट विधायक को गिरफ्तार करने का आदेश दे चुका था। करीब 17 घंटे की पूछताछ के बाद विधायक को गिरफ्तार किया गया। निलंबित पुलिस अधिकारी कुंवर सिंह और अशोक कुमार सहित 6 पुलिस‍कर्मियों से भी पूछताछ हुई। घटना के समय उन्‍नाव की एसपी नेहा पांडेय और मौजूदा एसपी पुष्‍पांजलि से भी पूछताछ होगी।

उन्‍नाव में विधायक कुलदीप सेंगर और दुष्‍कर्म पीडि़ता इसी गांव के है गांव है माखी। दोनों के घर के बीच महज 100 मीटर की दूरी है वहां से 200 मीटर चौराहा है जहां 3 अप्रैल की शाम पीडि़ता के पिता को विधायक के भाई अतुल सिंह ने घर से घसीटते हुए लाकर पीटा था घर के बाहर बैठे बुजुर्ग बताते हैं मारते हुए सबने देखा। पर अब कोई नहीं बताता। उसे गांव में घुमा-घुमाकर पीटा गया। वह गाली देता रहा। सीबीआई टीम 13 अप्रैल को पहुंची और 4 घंटे तक परिवार से पूछताछ की। विधायक के घर, अस्‍पताल और थाने की भी छानबीन की।

गांव की गलियां सूनी पड़ीं

कठुआ में एक हफ्ते तक सामूहिक दुष्‍कर्म के बाद आठ साल की बच्‍ची की हत्‍या पर भड़के आक्रोश की आंच पीडीपी-भाजपा गठबंधन सरकार तक पहुंच गई है। आरोपियों के पक्ष में हिंदू एकता मंच की रैली में गए भाजपा के दो मंत्रियों चौधरी लाल सिंह और चंद्र प्रकाश गंगा ने 13 अप्रैल की शाम भाजपा प्रदेशाध्‍यक्ष को इस्‍तीफे सौंप दिए। इससे पहले भाजपा प्रवक्‍ता मीनाक्ष्‍ज्ञी लेखी ने दावा किया कि मंत्रियों को गुमराह किया गया था और यह कोई अपराध नहीं है विवाद बढ़ने पर भाजपा क्राइम ब्रांच की जांच के समर्थन में खड़ी हो गई थी इस बीच 13 अप्रैल को पीडीपी ने श्रीनगर में बैठक बुलाई है वहीं भाजपा के राष्‍ट्रीय महासचिव राम माधव जम्‍मू में बैठक लेंगे।

जम्‍मू-कश्‍मीर के कठुआ जिले के रसाना गांव। 8 साल की दुष्‍कर्म पीडि़ता मृतक बच्‍ची यही रहती थी गांव में दहशत का माहौल है गलियां सूनी पड़ी हुई हैं जो कुछ घर आबाद हैं, वहां सिर्फ बच्‍चे या कुछ महिलाएं दिखती हैं गांव के एक छोर पर उस बच्‍ची का घर है जिसमें अब कोई नहीं है। बच्‍ची के परिवार वाले अपने मवेशियों के साथ कश्‍मीर की ओर निकल चुके हैं पुलिस का गांव को बाहर पहरा लगा है गांव के छह लोग जिनमें एक नाबालिग भी शामिल है वे जेल में हैं। बाकी लोगों में ज्‍यादातर धरने पर बैठे हैं। दुष्‍कर्म पीडि़ता बच्‍ची को उसके मौसा ने गोद लिया था क्‍योंकि मौसा के दो बेटों की दुर्घटना में मौत हो गई थी गांव से दूर जंगल में उनकी अपनी जमीन है यहीं पर मकान है गांव के सरपंच कांत कुमार कहत हैं कि बच्‍ची गांव की आंगनबाड़ी में ही पढ़ती थी हर दिन गांव में पानी लेने, खेलने और मवेशी लेकर आती थी बच्‍ची का चाचा भी गायब है बच्‍ची के लापता होने से 4 पहले भाईयों में झगड़ा हुआ था।

महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने कहा कि सरकार पॉक्‍सो कानून के तहत दोषियों को फांसी सजा का कानून लाएगी। उन्‍होंने कहा कि उनका मंत्रालय पॉक्‍सो में संशोधन का प्रस्‍ताव रखेगा। जिसमें 12 साल से कम उम्र के बच्‍चों के यौन शोषण के मामले में मौत की सजा का प्रावधान हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *