[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: अरे कोई तो बता तो अच्‍छे दिन आए कि नहीं – News 4 India

अरे कोई तो बता तो अच्‍छे दिन आए कि नहीं

छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद कमलनाथ ने कहा कि केवल वोट के लिए राजनीति करने वाली भाजपा ने चुनाव के समय अनेक लोक लुभावन वादे किए और नारे दिए। जनता को गुमराह किया, बरगलाया, झूठ पर झूठ बोला और गाते रहे कि अच्‍छे दिन आने वाले हैं अच्‍छे दिन आएंगे। सत्‍ता हथियाने के बाद जनता को नोटबंदी, जीएसटी और भावांतर का भंवर मिला। अच्‍छे दिन और भाजपा नेताओं, दलालों बड़े ठेकेदारों और उद्योगपतियों के आए। जबकि देश और प्रदेश की जनता अपने हक और अधिकार के लिए तरसते रही।

आज हर कोई पूछ रहा है एक दूसरे से कि कोई तो बताए कि किसके अच्‍छे दिन आए हैं श्री नाथ ने अमरवाड़ा ब्‍लॉक के ग्राम जुंगावाड़ा, सिंगोड़ी के अकलमा और चौरई के ग्राम समसवाड़ा में सभाओं को संबोधित किया।

अमरवाड़ा ब्‍लाक के ग्राम जुंगावाड़ा में श्रीनाथ ने कहा कि बाजारों की रौनक सिर्फ किसानों की मेहनत पर निर्भर करती है यदि किसान हताश या परेशान हे तो न केवल उसके चेहरे से बल्कि बाजार से भी रौनक गायब रहेगी। श्री नाथ ने कहा कि पहले जिले का किसान हमसे कहता था कि समर्थन मूल्‍य बढ़ाइए। भाजपा के 14 वर्ष के शासनकाल में अब किसान हमसे कह रहे हैं कि समर्थन मूल्‍य दिलाइए और भावांतर के भंवर से बचाइए।

ग्राम अकलमा में श्री नाथ ने कहा कि हर मां बड़ी उम्‍मीद और आस से अपने बच्‍चों का लालन पालन करती है कि बाद में उनका बेटा उनके बुढ़ापे की लाठी बनेगा परन्‍तु देश व प्रदेश की भाजपा सरकार ने न केवल बुजुर्ग माता-पिता बल्कि नौजवनों के सपने भी चकनाचूर किए हैं युवाओं के साथ धोखा हुआ है। उन्‍होंने कहा कि मोदी जी कहते थे कि प्रत्‍येक वर्ष 2 करोड़ नौकरियां दी जाएंगी परंतु जो कर्मचारी रिटायर हुए हैं उनके स्‍थान पर भर्ती तक नहीं हो पाई है।

झूठी राजनीति का शिकार बनाया

समसवाड़ा में जनसभा को संबोधित करते हुए कमलनाथ ने कहा कि भाजपा ने यह कहकर नोटबंदी की थी कि कालाधन वापस आएगा, परंतु नोटबंदी की आड़ में जिनके पास कालाधन था वह सफेद हो गया। उन्‍होंने कहा कि हमने माताओं बहनों के लिए योजनाएं बनाई, लेकिन बेटियों का मामा कहने वाले मुख्‍यमंत्री के राज में बहन और भांजियों के साथ हो रहे दुराचार व अत्‍याचार के लिए उनकी आंख में आंसू नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *