कांग्रेस को झटका, सपा का झटका

पांच राज्यों में विधान सभा चुनाव की तारीखों का एलान होते ही समाजवादी पार्टी ने भी मध्य प्रदेश विधान सभा के लिए छह उम्मीदवारों का एलान कर दिया है। सपा के इस कदम के बाद राज्य में गठबंधन की रही सही अटकलें थम गई हैं। पार्टी ने सीधी जिले की सीधी विधान सभा सीट से के के सिंह, बालाघाट जिले की परसवाड़ा सीट से कंकर मुंजारे, बालाघाट से अनुभा मुंजारे, टीकमगढ़ जिले की निवाड़ी सीट से मीरा यादव, पन्ना जिले की पन्ना सीट से दशरथ सिंह यादव और सीहोर जिले की बुधनी सीट से अशोक आर्या को उम्मीदवार बनाया है। इनमें दो महिलाएं हैं।  आज (06 अक्टूबर) ही सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा था कि कांग्रेस ने गठबंधन के लिए बहुत इंतजार कराया। यूपी में उप चुनावों में महागठबंधन की जीत के बाद ये कयास लगाए जा रहे थे कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में कांग्रेस बसपा और सपा के साथ मिलकर महागठबंधन के तहत चुनाव लड़ेगी लेकिन ऐसा नहीं हो सका। दो हफ्ते पहले बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी कांग्रेस को झटका देते हुए 20 उम्मीदवारों के नामों का एलान कर दिया था। इसके बाद हाल ही में मायावती ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह पर बीजेपी का एजेंट होने का आरोप लगाकर साफ कर दिया कि उनकी राह अब जुदा हो चुकी है।
मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को मतदान है जबकि उसके नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे। सपा ने ऐलान किया था कि वह दो दर्जन सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी। अखिलेश ने इसके लिए बसपा से गठबंधन करने की भी बात कही है। सपा प्रमुख ने कहा था, “हम मध्य प्रदेश चुनाव में कांग्रेस के साथ मैदान में उतारने की तैयारी कर रहे थे पर कांग्रेस ने अभी तक हमसे अपनी किसी भी योजना पर चर्चा नहीं की है। हमने उसके चक्कर में बहुत इंतजार किया, मगर अब हम और नहीं रुकेंगे। हम बसपा से इस बारे में बात करेंगे।” हालांकि, अखिलेश ने गोंडवाना पार्टी से तालमेल की बात कही है।

Related posts

Leave a Comment