दलित के लिए तैयार हैं पद छोड़ने

बेंगलुरू न्‍यूज 4 इंडिया। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के दो दिन पहले कांग्रेस में अगले मुख्‍यमंत्री के नाम को लेकर बहस शुरू हो गई। पार्टी अब तक सिद्दारमैया को ही सीएम पद का उम्‍मीदवार बताती रही है पर 13 मई को सिद्दारमैया ने कहा है कि वह कांग्रेस की ओर से दलित मुख्‍यमंत्री बनाए जाने के विरूद्ध नहीं है यह मेरा आखिरी चुनाव है इस पर दलित समुदाय से आने वाले लोकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि वह दलित नेता नहीं, बल्कि कांग्रेस कार्यकर्ता के तौर पर सीएम पद स्‍वीकार करने को तैयार हैं। दूसरी ओर भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने गोवा के पणजी में कार्यकर्ताओं के समक्ष दावा किया है कि कर्नाटक में भाजपा बहुमत से जीतेगी। नतीजे आने के बाद 15 मई की शाम को भाजपा कर्नाटक में सरकार बनाएगी।

जनमत सर्वेक्षणों के अनुमानों में विधानसभा के त्रिशंकु नतीजे आते दिखाए गए हैं। बहुमत के आंकड़े से दरू होती कांग्रेस ने रूख नरम करते हुए जद से गठबंधन के संकेत दिए हैं सर्वेक्षणों में खंडित जनादेश दिखाया गया है और जनता दल के किंग मेकर की भूमिका में सामने आने का अनुमान लगाया गया है।

सिद्दारमैया, मुख्‍यमंत्री कर्नाटक(कांग्रेस) का कहना है कि मैंने दलित को मुख्‍यमंत्री बनाए जाने का कभी विरोध नहीं किया और मेरे दिल में मल्लिकार्जुन खड़गे के प्रति काफी सम्‍मान है सीएम कौन होगा, इसका फैसला पार्टी हाईकमान द्वारा लिया जाएगा।

मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस पार्षद का कहना है कि सिद्दारमैया या किसी अन्‍य नेता को मेरे दलित होने की वजह से मेरे लिए अपना बलिदान देने की आवश्‍यकता नहीं है मुझे सम्‍मान जब वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और पार्टी के एक कार्यकर्ता के रूप दिया जाएगा तो मैं मुख्‍यमंत्री पद लेने के लिए तैयार हूं।

Related posts

Leave a Comment