ब्रिटिश द्वीप में चूहों को मार दिया, क्‍योंकि

लंदन न्‍यूज 4 इंडिया। बिट्रिश ओवरसीज के तहत आने वाला अटलांटिक सागर का साउथ जॉर्जिया आईलैंड 200 साल में पहली बार चूहा मुक्‍त हुआ है। साउथ जॉर्जिया हेरिटेज ट्रस्‍ट ने बताया साउथ जॉर्जिया आईलैंड दुर्लभ फर शील, एलिफेंट शील्‍स, साउथ जॉर्जिया पिपिट, पेंटेल जैसे शी बर्ड्स का एकमात्र नेचुरल हेबीटेट है इस आईलैंड की 1775 में खोज हुई थी तब से वहां सैलानियों के जहाजों के साथ चूहे भी पहुंचने लगे। उनकी संख्‍या इतनी बढ़ गई कि वे इन दुर्लभ जीवों के बच्‍चों, अंडो को भोजन बनाने लगे। इससे पेंग्विन की संख्‍या आधी से भी कम बची थी। शी बर्ड्स तो 10 करोड़ से 90 प्रतिशत घटकर 10 लाख ही बचे थे जैव विविधता पर संकट मंडरा रहा था इसे बचाने के लिए 2011 में दुनिया का सबसे बड़ा चूहा सफाया अभियान शुरू हुआ। यह सात साल बाद बीतेमहीने पूरा हुआ। इस पर 100 करोड़ रूपए खर्च हुए हैं।

चूहों को मारने का इससे पहले सबसे बड़ा अभियान गैलपागोस आइलैंड में 2012 में चलाया गया था तब जैवविवि‍धता को बचाने के लिए 18 करोड़ चूहों को 22 टन जहरीले दाने डालकर मारा गया था इस आईसलैंड में वैज्ञानिक चार्ल्‍स डारविन ने शोध कार्य किया था।

एसजीएचटी ने बताया कि साउथ जॉर्जिया अंटार्कटिक बर्फ से ढका क्षेत्र है। यह फर शील, सदर्न एलिफेंट शील्‍स और पेंग्विन की प्रमुख ब्रीडिंग साइट है। यहांदुनिया की 98 प्रतिशत शील्‍स की रहती है 3 करोड़ साउथ जॉर्जिया पिपिट, पेंटैल हैं ये दुनिया की कुल शी बर्ड्स का 81 प्रतिशत है इन्‍हें देखने और अध्‍ययन करने के लिए हजारों सैलानियों के साथ चूहों ने शील्‍स के बच्‍चों और पक्षिओं के अंडों के साथ उनके रहवासस्‍थलों को भी उजाड़ दिया था दुर्लभ जीवों के खत्‍म होने से जैव विविधता संतुलन डगमगा गया था इसे बचाने के लिए 4 चरण में चूहामार अभियान चलाया गया।

1 सबसे पहले दुर्लभ जीवों की चूहों से सुरक्षा के लिए हेंडलर्स ने 1608 किमी पैदल चलकर इनर्ट डिवाइस लगाए।

2 फिर चूहा मार अभियान शुरू हुआ। चूहों की खोज में टीम को एवरेस्‍ट से 13 गुना ज्‍यादा पहाड़ चढ़ने पड़े।

3 बड़े क्षेत्र से चूहोंको फांसने के लिए तीन हेलीकॉप्‍टर से 300 टन जहरीले दाने फेंके, ताकि चूहे उन्‍हें खाकर मरें।

4 अंत में छह महीने तक स्निफर डॉग लगाए गए, जो टीम को सूंघकर चूहों तक पहुंचाते थे जब डॉग्‍स को चूहे मिलना बंद हो गए तब आईलैंड को चूहा मुक्‍त माना गया।

Related posts

Leave a Comment