[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: शांति के लिए निरस्त्रीकरण जरूरी – News 4 India

शांति के लिए निरस्त्रीकरण जरूरी

बीजिंग न्‍यूज 4 इंडिया।  सिंगापुर में मंगलवार को डोनाल्ड ट्रम्प और किम जोंग उन के बीच ऐतिहासिक मुलाकात हुई। दोनों नेताओं ने दस्तावेज पर हस्ताक्षर भी किए। वार्ता पर चीन ने कहा कि शांति के लिए निरस्त्रीकरण जरूरी है। वहीं, दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति ने कहा कि मुलाकात के बारे में सोचकर मुझे रात में बमुश्किल ही नींद आई। अमेरिकी पत्रकारों के सामने अकेले प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रम्प ने समिट को मुमकिन बनाने के लिए चीन और दक्षिण कोरिया की तारीफ की। उन्होंने कहा कि चीन एक महान नेता वाला महान देश है। वहीं दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के बारे में ट्रम्प ने कहा कि वे मेरे काफी करीबी दोस्त हैं और उन्हें मीटिंग के बारे में हर जानकारी दी गई है।
दोनों नेताओं ने इतिहास बनाया
– चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा, “ट्रम्प और उन साथ बैठे। बराबरी के आधार पर सकारात्मक बात की। दोनों नेताओं ने इतिहास बनाया है।’
– “कोरियाई प्रायद्वीप में मुख्य मुद्दा सुरक्षा का है। महत्वपूर्ण बात ये है कि इस मुद्दे को हल करने के लिए अमेरिका और उत्तर कोरिया एकसाथ आए।’
– “अगर आप परमाणु मसला हल करना चाहते हैं तो इसके लिए पूरी तरह से निरस्त्रीकरण करना पड़ेगा। प्रायद्वीप में शांति आए, इसके लिए एक प्रक्रिया तैयार करनी होगी।’

बमुश्किल नींद आई: मून
– मुलाकात पर दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन ने कहा कि दोनों नेताओं की मुलाकात के बारे में सोचकर मुझे रातभर बमुश्किल ही नींद आई।
– “मैं बातचीत के कामयाब होने के लिए पूरी तरह आशान्वित था। मुझे उम्मीद है कि इससे निरस्त्रीकरण की राह बनेगी और कोरियाई प्रायद्वीप में शांति आएगी।’
– मून ने राष्ट्रपति कार्यालय में अपने अफसरों के साथ ट्रम्प-किम की मुलाकात देखी।
– मून जे-इन, किम जोंग उन के साथ दो बार मुलाकात कर चुके हैं। ट्रम्प के साथ बातचीत करवाने में भी उनकी अहम भूमिका रही।

ट्रम्प ने कहा- दक्षिण कोरिया से अपने सैनिक भी वापस बुलाएगा अमेरिका

– प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ट्रम्प ने कहा, “हमारे बीच मुलाकात काफी बेहतर रही। दुश्मन भी दोस्त बन सकते हैं। उत्तर कोरिया परमाणु हथियारों को खत्म कर के और व्यापार शुरू कर के बहुत कुछ हासिल कर

सकता है।”
– “किम ने मुझे बताया कि उत्तर कोरिया ने पहले ही अपनी एक मिसाइल इंजन टेस्ट साइट को खत्म कर लिया है। ये हमारे समझौते में नहीं था, लेकिन ये बड़ी बात है। ये बहुत साल

पहले ही हो जाना था। शांति बहुत पहले ही हो जानी थी, लेकिन ये बहुत समय बाद हो रही है। युद्ध हर कोई कर सकता है लेकिन शांति फैलाना हर किसी के बस की बात नहीं है।”
– “इसी बीच उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध लगे रहेंगे। हम चाहते हैं कि कोरियाई लोग साथ में रह सकें। ये उज्जवल भविष्य उनका होगा और ये होकर रहेगा। ये बहुत महान दिन और पल है।

किम उत्तर कोरिया वापस लौट चुके हैं और वो वहां पहुंचते ही हमारी योजना पर काम शुरू कर देंगे। आज आप सबके साथ होना बहुत सुखद है।”
– अमेरिकी नागरिक ओटो वारम्बियर की उत्तर कोरिया में मौत और मानवाधिकार पर ट्रम्प ने कहा, “किम बेहद बेहद टैलेंटेड हैं। अगर कोई इंसान 26 साल की उम्र में सत्ता लेता है, तो

ये बड़ी बात है। ओटो वारम्बियर हमेशा हमारी यादों में रहेगा। उसकी मौत बेकार नहीं गई, बल्कि मैं कहूंगा कि अगर ओटो ना होता तो आज ये भी ना होता। उसकी मौत के बाद कुछ

हुआ था।”
– ट्रम्प ने कहा कि हम युद्ध रोकने में कामयाब रहे जिससे हमारा काफी पैसा बचेगा।
– “अमेरिका अब दक्षिण कोरिया के साथ वॉर गेम्स (युद्धाभ्यास) में भी हिस्सा लेना भी बंद करेगा। आखिरकार हम भी अपने सैनिकों को वापस घर लाना चाहते हैं। लेकिन अभी ये

स्थिति नहीं है।”
– “मैं जरूर सही समय पर प्योंग्यांग जाना चाहूंगा। साथ ही किम को भी व्हाईट हाउस बुलाना चाहूंगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *