[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: दुश्‍मन बने दोस्‍त, मिली सुरक्षा की गारंटी, 12 नाकामयाब, फिर मिली कामयाबी | News 4 India

दुश्‍मन बने दोस्‍त, मिली सुरक्षा की गारंटी, 12 नाकामयाब, फिर मिली कामयाबी

सिंगापुर न्‍यूज 4 इंडिया। 70 साल से दुश्‍मन रहे अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के बीच 12 जून को पहली बार बातचीत हुई। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग-उन सिंगापुर में मिले। 71 साल के ट्रंप ने 34 साल के किम को परमाणु हथियार पूरी तरह खत्‍म करने पर राजी कर लिया। ट्रंप ने बदले में सुरक्षा की गांरटी दी। उत्‍तर कोरिया की बड़ी मांग मानते हुए ट्रंप ने दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्‍त युद्ध अभ्‍यास खत्‍म कर दिया। हालांकि, परमाणु निरस्‍त्रीकरण शुरू होने तक उत्‍तर कोरिया पर प्रतिबंध जारी रहेंगे। पहली बार मिले ट्रंप-किम ने 12 सेकेंड हाथ मिलाया। दोनों 90 मिनट साथ रहे। 38 मिनट अकेले में बात की। प्रति‍निधिमंडलों के साथ लंच के दौरान वार्ता की। गार्डन में साथ टहले। दोनों ने करार पर हस्‍ताक्षर किए। 70 साल में अमेरिका और उत्‍तर कोरिया में यह पहला करार है। 12 अमेरिकी राष्‍ट्रपति इसमें नाकाम रह चुके हैं।

ट्रंप से मिले किम

किम जोंग-उन ने कहा हमारा इतिहास और पूर्वाग्रह इस दिशा में रोड़ा थे हम उन्‍हें पार कर यहां आए हैं दुनिया अब बड़ा बदलाव देखेगी। नाइस टू मीट मिस्‍टर प्रेसीडेंट।

ड्रोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा मुलाकात शानदार रही हम लोग बेहतर दिशा में बढ़ रहे हैं किम से खास रिश्‍ता बन गया है वह बहुत टैलेंटेड हैं अपने देश से प्‍यार करते हैं।

4 बड़ी बातें

अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के बीच शांति और सौहार्द्र के लिए प्रयास किए जाएंगे।

उत्‍तर कोरिया अपने परमुाण हथियारों को पूरी तरह खत्‍म कर देगा। अमल के लिए दोनों देश फॉलोअप बातचीत करेंगे। अमेरिका की तरफ से माइक पोम्पियो इसमें शामिल रहेंगे।

युद्ध बंदी और सैन्‍य कार्रवाई के दौरान गायब लोग एक-दूसरे को वापस सौंपे जाएंगे।

अमेरिका ने उत्‍तर कोरिया को सुरक्षा का भरोसा दिया है, दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्‍त युद्ध अभ्‍यास खर्चीला बताकर रद्द कर दिया। ट्रंप इस मुद्दे पर अगले हफ्ते चर्चा करेंगे।

बातें जो दिखाई दीं

सम्‍मान- ट्रंप के सम्‍मान में किल 7 मिनट पहले आए। ट्रंप लाल रंग की टाई में आए। उत्‍तर कोरिया के लोगों को लाल रंग पसंद है होटल के कॉरिडोर और गार्डन में टहलकर उन्‍होंने हल्‍के पल भी साझा किए।

शो आफ- ट्रंप ने किम को अपनी लिमोजिन दिखाई। उन्‍होंने सुरक्षा गार्ड से दरवाजा खुलवाया। किम ने इसके बाद अंदर से कार का नजारा लिया।
और जो सुनाई दीं

बिजनेस- उत्‍तर कोरिया के आर्थिक मॉडल के मुद्दे पर ट्रंप ने कहा कि इसका फैसलावहां के लोग लेंगे। वहीं रियल एस्‍टेट की संभावनाएं हैं मिसाइल टेस्‍ट के फुटेज में भी खूबसूरत बीच दिखाई देते हैं।

और सलाह- बैठक के पहले ट्रंप ने किम को हॉलीबुड स्‍टाइल में चार मिनट का वीडियो दिखाया। इसमें दुनिया के लिए शांति के फायदे बताए।

कुछ खास बातें

मुलाकात के बाद अब अमेरिका उत्‍तर कोरिया को लेकर क्‍या करेगा।

  • किम ने पूर्ण परमाणु निरस्‍त्रीकरण का वादा किया है हमें एक-दूसरे पर भरोसा है हालांकि उत्‍तर कोरिया जब तक परमाणु निरस्‍त्रीकरण नहीं करता तब तक उस पर प्रतिबंध जारी रहेंगे। वहां तैनात अमेरिकी सैनिक अभी नहीं बुलाए जायेंगे। पर अमेरिका कोरियाई प्रायद्वीप में सैन्‍य अभ्‍यास नहीं करेगा। मैं उ. कोरिया जाने की योजना बनाऊंगा। किम को भी मैं व्‍हाइट हाउस बुलाऊंगा।

उ. कोरिया कितने देशों में अपने परमाणु हथियारों को खत्‍म करेगा।

– इसमें अभी लंबा समय लगेगा। उ. कोरिया ने हमसे पूर्ण परमाणु निरस्‍त्रीकरण का वादा किया है इसके बदले में अमेरिका ने भी कोरियाई देश की सुरक्षा की जिम्‍मेदारी ली है।

कैसे पता चलेगा कि उत्‍तर कोरिया ने निरस्‍त्रीकरण शुरू कर दिया है।

  • किम के साथ निरस्‍त्रीकरण के सत्‍यापन को लेकर भी चर्चा हुई। इसके सत्‍यापन के लिए एक टीम होगी, जिसमें अमेरिकी और अंतर्राष्ट्रीय अधिकारी शामिल होंगे। किम ने अपनी मेजर मिसाइल इंजन टेस्टिंग साइट ध्‍वस्‍त करने पर सहमति जताई है।

तो यह माना जाए कि दोनों देश युद्ध की धमकी एक-दूसरे को नहीं देंगे।

  • हम वार गेम्‍स को बंद कर देंगे, जिससे हमारा काफी पैसा भी बचेगा। किम भी वार गेम्‍स को रोकने पर सहमत हुए, क्‍योंकि उन्‍हें लगता है कि यह काफी भड़काऊ है बातचीत ही दोनों देशों के लोगों के भविष्‍य के लिए बेहतर है मैं इस बातचीत का ब्रेसब्री से इंतजार कर रहा था इसके लिए पिछले 25 घंटे में मैं ठीक तरह से नींद तक नहीं ले सका।

ट्रंप ने  किम को दिखाई अपनी बीस्‍ट कार

किम होटल की लॉबी में ट्रंप को बाहर छोड़ने निकले तो ट्रंप उन्‍हें अपनी 11 करोड़ की द बीस्‍ट कार दिखाई। किम इसे देखकर मुस्‍कुराए। ये आर्म्‍ड कार विदेशदौरे में भी राष्‍ट्रपति के प्‍लेन में साथ जाती है ये हर हमले को झेल सकती है।

ट्रंप ने कहा कि किम की टीम के पास आईपैड देखा1 ये उत्‍साह बढ़ाने वाली बात है।

ट्रंप अमेरिका के 13वें ऐसे राष्‍ट्रपति हैं, जिन्‍हें उत्‍तर कोरिया के साथ विवाद दूर करने में कामयाबी मिली है इसमें 70 साल लगे। इस दौरान अमेरिका के 12 राष्‍ट्रपति बदले।इनमें आइजनहॉवर से लेकर केनेडी, निक्‍सन, ओबामा तक शामिल हैं।

ये समझौता हम दोनों देशों के बीच दुश्‍मनी को भुलाने और नए भविष्‍य के लिए कर रहे हैं…….

राष्‍ट्रपति ट्रंप और चैयरमेन किम जोंग ने कोरियाई प्रायद्वीप में नए संबंधों की स्‍थापना, स्‍थाई और मजबूत शांति के लिए व्‍यापक, गहन और ईमानदार विचारों के साथ की है। ट्रंप ने उत्‍तर कोरिया को सुरक्षा गांरटी देने का वादा किया है किम ने परमाणु निरस्‍त्रीकरण के लिए प्रतिबद्धता जताई है। इन नए संबंधों से कोरियाई प्रायद्वीप और दुनिया में शांति और समृद्धि में योगदान मिलेगी। अमेरिका और उत्‍तर कोरिया दोनों देशों के लोगोंकी इच्‍छा के अनुसार शांति और समृद्धि तथा अच्‍छे संबंध के लिए प्रतिबद्ध हैं दोनों देश कोरियाई प्रायद्वीप में स्‍थायी और दीर्घकालिक शांति के लिए प्रयास करेंगे। पनमुंजोम परमाणु साइट को बंद कर उत्‍तर कोरिया ने परमाणु निरस्‍त्रीकण की दिशा में कदम बढ़ाया है। अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के बीच इतिहास में पहली बार शिखर वार्ता हुई है। ऐसा देशेां के बीच दशकों से चले आ रहे तनाव और शत्रुता को भुलाने और नए भविष्‍य की शुरूआत के लिए किया गया है। ट्रंप और किम जोंग इस समझौते को जल्‍द से जल्‍द लागू करेंगे। बहुत जल्‍द अमेरिकी विदेश सचिव, माइक पोंपियो और उत्‍तर कोरिया के अधिकारी बैठक करेंगे। ट्रंप और किम नए संबंधों के विकास, सहयोग, शांति समृद्धि और दुनिया व कोरियाई प्रायद्वीप की सुरक्षा के लिए वचनवद्ध हैं।

डोनाल्‍ड जे ट्रंप, राष्‍ट्रपति अमेरिका

किम जोंग उन, चेयरमैन उत्‍तर कोरिया

12 जून, सैंटोसा द्वीप, सिंगापुर

मून जेई-मून दक्षिण कोरिया के राष्‍ट्रपति ने कहा उ. कोरिया के बीच शिखर वार्ता से पहले मैं रात को सो नहीं सका। इससे कोरियाई प्रायद्वीप पूरी तरह परमाणु मुक्‍त बनेगा। वहां शांति स्‍थापित होगी।

वांग यी, चीन के विदेश मंत्री ने कहा दोनों नेताओं में बराबरी की वार्ता ने इतिहास रच दिया है ये नजारा सुखद है यूएन को उत्‍तर कोरिया से प्रतिबंध हटा लेना चाहिए।

शिंजो आबे, जापान के पीएम ने कहा लिखित में दिया गया कमिटमेंट बड़ी पहल है हम इसे समग्रता की दिशा में उठाया गया कदम मान रहे हैं इस वार्ता के लिए अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप का विशेष शुक्रिया।

सर्गेई रेब्‍कॉब, रूस के उप विदेश मंत्री ने कहा इस पहल में मदद देने के लिए रूस तैयार है कोरियाई प्रायद्वीप में अब परमाणु युद्ध की आशंका भी खत्‍म हो जाएगी।

मो. बाघेर नोबख्‍त, ईरान सरकार के प्रवक्‍ता ने कहा कि किम जोंग किस प्रकार के व्‍यक्ति के साथ बातचीत कर रहे हैं हम यह नहीं कह सकते कि ट्रंप घर लौटने तक इस पर कायम भी रहेंगे या पलट जाएंगे।

भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि कोरियाई प्रायद्वीप में शांति और स्थिरता की दिशा में ये वार्ता अहम और सकारात्‍मक कदम है भारत इसका स्‍वागत करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *