काला धन और कंकाल का डेरा

काला धन और कंकाल का डेरा

सिरसा न्यूज 4 इंडिया। दुष्कर्मी बाबा गुरमीत सिंह जेल की हवा खा रहा हैं इस बीच उसके सिरसा स्थित डेरा मुख्यालय में सर्च अभियान जारी है। सेवानिवृत्त न्यायधीश ए के एस पवार की निगरानी में डेरा आश्रम में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है।  तलाशी अभियान में प्लास्टिक के सिक्के मिले हैं। जिनमे 1 और 10 रूपए लिखा हुआ है। जांच में बाबा के कुकर्मों की एक से बढ़कर एक चौकाने वाली खबरें सामने आ रही हैं। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत अपने विरोधियों को मरवाकर डेरा के अंदर दफनवा देता था। उसकी गिरफ्तारी के बाद आरोप लगे हैं कि डेरे में सैकड़ों लोगों को गला घोंटकर मारा गया था और उनकी  लाशें सिरसा ब्रांच नहर (भाखड़) में बहा दी जाती थी। यह सिलसिला कई सालों से लगातार चलता रहा। बाद में मारे जाने वाले लोगों का दाह संस्कार किया जाने लगा और उनकी हड्डियां डेरे के पीछे बने बाग में गाड़ दी जाती थी। यह सरसनीखेज राज  फाश डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम के गार्ड रह चुके बेअंत सिंह ने किया था। बेअंत भी गुरमीत सिंह की ज्यादातियों का  शिकार हुआ था।

जेसीबी मशीन से होगी खुदाई

हरियाणा पुलिस ने कंकालों की सच्चाई का पता लगाने के लिए जेसीबी मशीन भी मंगवाई हैं जिससे वे डेरे के अंदर खुदाई करवाकर इन आरोपों की सच्चाई का पता लगाने की कोशिश करेंगी।

डेरा के अखबार का लेख-हां, कंकाल दबे हैं

डेरा के अखबार ’सच कहूं’ ने इस पर सफाई देना शुरू कर दिया है। इस कोशिश में अखबार ने स्वीकार कर लिया है कि डेरे में लाशें दबी हैं। डेरा सच्चा सौदा के अखबार ने सफाई दी कि डेरा परिसर में खुदाई के दौरान दबी हुई हड्डियाँ और अस्थियां मिल सकती हैं, क्योंकि गुरमीत राम रहीम अपने अनुयायियों को अस्थियों को नदियां में बहाने से रोका करता था और कहा करता था कि अस्थियों का विसर्जन करने से प्रदूषण फैलता है और नदियों में गंदगी होती है। अखबार का कहना है कि डेरा सच्चा सौदा के अनुयायी डेरा परिसर में एक निर्धारित जगह पर अस्थियों को जमीन में दबा दिया करते थे। सर्च टीम ने दो कमरों को भी सील किया है।

नबालिग बच्चे भी मिले

एक टीम राम रहीम की गुफा भी पहुंची। इसके अलाव 5 बच्चे भी डेरे के अंदर से मिले हैं, जिनमें से 3 नाबालिग हैं। यहां, 1 वॉकी-टॉकी भी मिला है। वहीं, रूड़की से एक और फॉरेंसिक टीम डेरा पहुंची है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *