[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: ये कैसा ऑनलाइन सिस्टम – News 4 India

ये कैसा ऑनलाइन सिस्टम

रायपुर न्‍यूज 4 इंडिया।   शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) के तहत निजी स्कूलों में समय पर दाखिला कराने के सारे दावे फेल हो चुके हैं। जिस माडल को रायपुर जिला शिक्षा विभाग ने प्रस्तुत किया था, उसे राज्य स्तर पर लागू करने में स्कूल शिक्षा विभाग फिसड्डी साबित हुआ है।

आलम यह है कि स्कूल खुलने के एक महीने बाद भी 60 हजार पालकों को दाखिले इंतजार है। पालकों को आनलाइन की सुविधा दी गई, लेकिन आफलाइन लॉटरी निकाली गई। जबकि रायपुर जिले में पिछले साल आवेदन से लेकर लाटरी तक प्रक्रिया आनलाइन की गई थी। अब दोबारा लाटरी निकाली जाएगी।

लेकिन इसके पहले 12 जुलाई तक पहले से आवेदन कर चुके पालकों को संशोधन और स्कूलों में विकल्प चुनने का मौका दिया जा रहा है। पहली बार प्रदेशभर से आनलाइन 80 हजार सीटों के लिए पहले तो शिक्षा विभाग को 76 हजार 966 आवेदन मिले। 60 हजार 158 आवेदक ऐसे निकले, जिन्होंने एक ही स्कूल के लिए आवेदन किया था, लिहाजा पोर्टल के जरिये प्रदेशभर में महज 20 हजार बच्चों को ही दाखिला मिल पाया।

रायपुर में भी कुल 769 स्कूलों में 8005 सीटों के लिए 13 हजार आवेदन आए, लेकिन दाखिले के लिए सिर्फ 2853 सीटों पर लाटरी हो पाई। 332 बिना लाटरी के ही दाखिल हुए । कुल 3185 बच्चों का ही दाखिला हो पाया है।

आज जिला स्तर पर नोडल प्राचार्यों को देंगे प्रशिक्षण

आरटीई के तहत निजी स्कूलों में दाखिले कराने में शुरू से ही आनलाइन दिक्कतें रही हैं। जिला शिक्षा विभाग ने सोमवार को दोबारा नोडल प्राचार्यों के लिए जेआर दानी स्कूल में प्रशिक्षण का कार्यक्रम रखा है। इसमें नोडल अधिकारियों को आरटीई के तहत डेटा फीड करने की जानकारी जिला शिक्षा अधिकारी एएन बंजारा देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *