[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: एसपी गौरव तिवारी के जाने का शहर में  दिख रहा असर ,शुरू हो गई सड़कों पर लापरवाही – News 4 India

एसपी गौरव तिवारी के जाने का शहर में  दिख रहा असर ,शुरू हो गई सड़कों पर लापरवाही

छिन्दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया।  पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी को गए अभी एक पखवारा भी नहीं बिता की शहर की सड़कों पर मनमानी शुरू हो गई है उनके रहते यातायात व्यवस्था सुचारु रुप से चल रही थी ।सड़कों पर ब्लू लोग हेलमेट लगाकर ही घर से निकलते थे साथ ही कारों में काली पट्टियां उतरने शुरू हो गई थी सड़कों के किनारे खड़े वाहन व्यवस्थित होते थे गलत तरीके से ड्राइविंग करने वालों पर चालानी कार्यवाही की जाती थी किंतु उनके जाते ही फिर से कारों में फिल्म लगाने वालों की दुकानें जो महीनों से बंद पड़ी थी अब खुल चुकी हैं तो वही हेलमेट की दुकानें बंद होने लगी है।

जिले में काली फिल्‍म लगी कारें फिर से नजर आने लगी हैं। कुछ दिनों पहले तक शहर में काली फिल्‍म लगाने वाली दुकानें भी बंद हो गई थीं, लेकिन अब फिर से दुकानें सज गई हैं। और लोग कार खरीदने के बाद सबसे पहले उसमें काली फिल्‍म लगा रहे हैं। जिले में पुलिस और यातायात विभाग ने कारों में काली फिल्‍म के खिलाफ कार्रवाई कम कर दी है। अब सड़कों पर कारों से काली फिल्‍म निकालते कोई भी यातायात और पुलिस कर्मी नजर नहीं आता इसका नतीजा यह निकला है कि सड़क में सैकड़ों कारें काली फिल्‍म लगी नजर आने लगी हैं। खासकर बड़ी कारों और एसयूवी कारों में काली फिल्‍म सबसे ज्‍यादा लगाई जा रही हैं।

रसूखदारों की कार से नहीं उतरी काली फिल्‍म

काली फिल्‍म के खिलाफ पुलिस महकमे में अभियान चलाकर कार्रवाई की गई है और समय-समय पर पुलिस सड़क पर यह कार्रवाई करती है उच्‍चतम न्‍यायालय ने स्‍पष्‍ट कर रूप से कारों में काली फिल्‍म नहीं लगाने के निर्देश जारी किए हैं इतने अभियान चलने और निरंतर कार्रवाई होने के बाद भी जिले के कई रसूखदारों की कारों से काली फिल्‍म पुलिस नहीं निकाल पाई है। छोटी कार वालों के खिलाफ तो सड़क पर कार्रवाई की गई लेकिन रसूखदार पूरे रौब के साथ काली फिल्‍म लगी गाडि़यां शहर में घुमाते रहे।

हेलमेट और सीट बेल्‍ट मुहिम भी गायब

यातायात को सुचारू बनाने के लिए चलाई जा रही हेलमेट मुहिम और सीट बेल्‍ट मुहिम भी अब शहर व जिले की सड़कों पर नजर नहीं आ रही है। दोपहिया वाहन चालकों ने अब हेलमेट लगाए बिना ही वाहन चालाना शुरू कर दिया है। और चौपहिया वाहनों में सीट बेल्‍ट लगाने के लिए अब सख्‍ती कम हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *