[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: कलेक्टर व तहसीलदार ने बंद कमरे में ली बैठक, प्रशासन हुआ अलर्ट  – News 4 India

कलेक्टर व तहसीलदार ने बंद कमरे में ली बैठक, प्रशासन हुआ अलर्ट 

छिन्दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। जिले में खुल रहे मेडिकल कॉलेज के लिए 94 डॉक्‍टरों की नियुक्ति की गई थी, लेकिन इस सत्र में मेडिकल कॉलेज शुरू नहीं हो सका इसलिए इनमें से 9 डॉक्‍टरों की प्रतिनियुक्ति रतलाम और खंडवा में की गई है। मेडिकल कॉलेज के लिए नवपदस्‍थ विशेषज्ञ चिकित्‍सकों में से 9 प्रोफेसर की रतलाम और खंडवा मेडिकल कॉलेज में प्रतिनियुक्ति के शासन से आदेश जारी किए गए हैं। 10 जुलाई को जारी आदेश में स्‍पष्‍ट कहा गया है कि 12 जुलाई सुबह 11 बजे तक सभी डॉक्‍टरों को ज्‍वाइन करना है। रिलीव और ज्‍वाइन नहींकरने पर मौखिक तौर पर यह भी चेताया गया है कि सेवा समाप्ति की कार्रवाई हो सकती है। सभी 9 डॉक्‍टरों के रिलीविंग आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। इस आदेश का पालन करने से प्रोफेसरों ने इंकार कर दिया है। सभी प्रोफेसरों ने डीन को लिखित रूप से अपना पक्ष प्रेषित कर रतलाम और खंडवा जाने से मना कर दिया है। मेडिकल के डॉक्‍टरों ने आदेश का विरोध करते हुए जिला अस्‍पताल में काम करने से इंकार कर रिजाइन देने की चेतावनी दी है, जिसके बाद शासन के निर्देश पर 11 जुलाई की शाम जिला प्रशासक हरकतमें आया। प्रशासनिक अधिकारियों की टीम समन्‍वय बनाने जिला अस्‍पताल पहुंची थी। अपर कलेक्‍टर कविता बाटला और तहसीलदार महेश अग्रवाल ने बंद कमरे में वाइस डीन और सीएमएचओ के साथ बैठक की। मेडिकल कॉलेज में 94 डॉक्‍टर व प्रोफेसद पदस्‍थ हैं। अप्रैल माह में भी एक दर्जन से अधिक को प्रतिनियुक्ति पर भेजा जा रहा था उस दौरान भी डॉक्‍टरों के विरोध के चलते मामला टाल दिया गया था।

इस वजह से की गई प्रतिनियुक्ति

स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों के अनुसार खंडवा और रतलाम में खुलने जा रहे मेडिकल कॉलेज में एमसीआई की टीम निरीक्षण करने आ रही है। इन दोनों ही मेडिकल कॉलेजों में प्रोफेसरों ने ज्‍वानिंग नहीं दी है। इस वजह से छिंदवाड़ा मेडिकल कॉलेज में पदस्‍थ 94 प्रोफेसरों में से 9 को रतलाम और खंडवा भेजा जा रहा है।

जबलपुर डीन को छिंदवाड़ा कॉलेज का प्रभार

मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर और नॉन क्‍लीनिकल प्रोफेसरों के प्रतिनियुक्ति आदेश पर जबलपुर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. नवीन सक्‍सेना के हस्‍ताक्षर हैं। डॉ. तकी  रजा को छिंदवाड़ा से हटाकर खंडवा मेडिकल कॉलेज डीन बनाया गया है। वे मेडिकल कॉलेज जबलपुर में आर्थोपेडिक विभाग के एचओडी का पद संभाल रहे हैं।

टीम ने किया औचक निरीक्षण

मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसरों की प्रतिनियुक्ति के आदेश के विरोध की सूचना के बाद कलेक्‍टर वेदप्रकाश के निर्देश पर 11 जुलाई को अपर कलेक्‍टर कविता बाटला, तहसीलदार महेश अग्रवाल औचक निरीक्षण करने जिला अस्‍पताल पहुंचे। इसके पूर्व दोपहर में नॉन क्‍लीनिकल प्रोफेसरों की उपस्थिति की जांच करने तहसीलदार महेश अग्रवाल टीबी सेनेटोरियम में मेडिकल कॉलेज के निर्माणाधीन भवन में पहुंचे, जहां ताला बंद पाया गया। वहीं प्रशासनिक अधिकारी जिला अस्‍पताल भी पहुंचे, जहां उपस्थिति पंजीयन की जांच की तो अधिकांश डॉक्‍टरों के हस्‍ताक्षर नहीं पाए गए। उनकी अनुपस्थिति की रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी।

इनकों भेजा जा रहा प्रतिनियुक्ति पर

बताया जा रहा है कि खंडवा और रतलाम मेडिकल कॉलेज के लिए 9 प्रोफेसरों के आदेश जारी किए गए। छिंदवाड़ा मेडिकल कॉलेज की वाइस डीन डॉ मानिक श्रीकांत सिरकपुरकर, डॉ. विवेकानंद बाघमारे, डॉ. महेंद्र सिंह, डॉ. प्रर्मिला वर्मा, डॉ. सिपिंग जैन, डॉ. भूपेंद्र जैन की खंडवा प्रतिनियुक्ति की गई है। वहीं डॉ. शैलेंद्र सय्याम, डॉ. अंजुलिका, डॉ अश्विनी पटेल को रतलाम भेजा जा रहा है।

सातों मे‍डिकल कॉलेजों में प्रोफेसर और विशेषज्ञ डॉक्‍टरों की नियुक्ति के लिए साक्षात्‍कार एक ही तारीख में लिए गए थे ताकि अभ्‍यर्थी दो मेडिकल कॉलेज के लिए एप्‍लाई न कर सके।

अपर कलेक्‍टर कवि‍ता बाटला का कहना है कि अस्‍पताल में सेवाएं दे रहे मेडिकल कॉलेज के प्रोफसरों की उपस्थिति की जानकारी जुटाई है। टीम की गोपनीय रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी।

सीएमएचओ डॉ. जेएस गोगिया का कहना है कि मेडिकल कॉलेज के लिए नियुक्‍त प्रोफेसरों को रतलाम और खंडवा जाने के आदेश जारी किए गए हैं, प्रोफेसर जाने से इंकार कर रहे हैं। इस आदेश के संबंध में शासन स्‍तर से निर्णय लिए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *