वह शादीशुदा और दो बच्चों की मां है। पूछताछ में उसने कई चौंकाने वाले खुलासे किए है। बेबी ने बताया कि दस साल पहले उसकी शादी राजस्थान निवासी एक शख्स से हुई थी। कुछ ही साल वह पति के साथ हंसी-खुशी दाम्पत्य जीवन गुजार सकी। पैसे के लालच में उसके पति ने उसे देह व्यापार के गर्त में धकेल दिया।

वह मारपीट कर दलालों के पास भेजता था और दलाल जबरिया ग्राहकों के सामने परोस देते थे। दो बच्चों की परवरिश की चिंता खाए जाए जा रही थी। आखिरकार किसी तरह वह पैसों के लालची पति के चंगुल से बच्चों समेत भागकर अपने घर ओडिशा के बलांगीर जिले के मालपड़ा गली पहुंच गई।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि अतीत की बातों को भुलाकर बेबी शर्मा अपने दम पर कोई कारोबार करना चाहती थी, लेकिन आर्थिक तंगी के चलते वह कुछ नहीं कर पा रही थी। दो साल पहले उसकी मुलाकात कारोबारी व समाजसेवी मोहनलाल जैन से हुई। उसने अपनी आपबीती बताकर जैन से मदद मांगी। चूंकि बेबी ब्यूटी पार्लर का काम जानती थी, लिहाजा जैन ने उसे बीस हजार रुपये देकर दुकान खोलने को कहा और बाद में कई मौकों पर हजारों रुपये की सहायता की।

मोटी रकम वसूलने को ऐसे बनाया प्लान

मोहनलाल की आर्थिक मदद की बदौलत बेबी ने ब्यूटी पार्लर तो खोल लिया, लेकिन कारोबार मंदा होने से उसका गुजारा चलना मुश्किल हो गया था। इसी बीच मोहनलाल कारोबार के सिलसिले में बलांगीर पहुंचे तो बेबी ने फोनकर उन्हें घर पर बुला लिया।

दरअसल बेबी की योजना थी कि मोहनलाल जैन को ब्लैकमेल कर वह लाखों रुपये की उगाही करेगी और उस रकम से बड़ा कारोबार करेगी। लिहाजा उसने इस काम के लिए फिरोल कालाहांडी निवासी जयकिशन बाघ और बसंत साहू की मदद ली। मोहनलाल जब बेबी से मिलकर जाने लगे तब योजना के अनुसार बेबी जबरिया उससे लिपट गई और मोबाइल से फोटो खींच लिया। इस बीच मोहनलाल किसी तरह वहां निकलकर अपने घर पहुंचा।

स्पा और ब्यूटी पार्लर खोलने का था प्लान

पुलिस की गिरफ्त में आए बंटी-बबली आपत्तिजनक फोटो के जरिए कारोबारी मोहनलाल जैन को ब्लैकमेल कर 50 लाख से अधिक वसूलने के फिराक में थे। जैन को लगातार यह धमकी दे रहे थे कि जितने पैसे की जरूरत होगी, वह देना पड़ेगा, अन्यथा फोटो को सार्वजनिक करके बदनाम कर देंगे।

दरउसल उगाही की लाखों की रकम से बेबी शर्मा बलांगीर में स्पा सेंटर और ब्यूटी पार्लर खोलने का सपना देख रही थी ताकि वह रोज इस कारोबार से लाखों रुपये कमाकर ऐशो-आराम का जीवन गुजार सके।

हजारों का खरीदवा लिया था सामान

18 मई को बेबी ने मोहनलाल को ब्यूटी पार्लर के सामान की खरीदारी के लिए रायपुर चलने को कहा और ट्रेन से रायपुर आ गए। ट्रेन की दूसरे बोगी में सवार सहयोगी साथी जयकिशन बाघ और बसंत साहू भी रायपुर आ गए थे। गोलबाजार से ब्यूटी पार्लर के समान की खरीदारी के बाद रात में मोहनलाल के साथ महिला रवि भवन के पास स्थित लाज में ठहरी थी।

योजना के मुताबिक आधी रात को कमरे में दोनों सहयोगियों को उसने बुलाकर मोहनलाल को कमरे में ही बंधक बनाकर 40 लाख रुपये की मांग की। इस दौरान दस लाख रुपये वसूल लिए। पीड़ित कारोबारी की शिकायत पर पुलिस ने बेबी शर्मा और जयकिशन बाघ की गिरफ्तारी की जबकि बसंत साहू फरार है।

बंटी-बबली के खिलाफ कई और शिकायत

पुलिस का दावा है कि बेबी शर्मा और उसके साथियों ने गिरोह बनाकर ओडिशा के कुछ और कारोबारियों को ब्लैकमेल कर पैसे वसूले हैं, हालांकि बदनामी के डर से किसी ने पुलिस में शिकायत दर्ज नहीं कराई है। पुलिस ने दोनों आरोपियों के आपराधिक रिकार्ड की जानकारी ओडिशा पुलिस से मांगी है।