उन्होंने बताया कि इससे पहले दाऊद इब्राहिम की तीन संपत्तियां नीलाम की जा चुकी हैं. इसमें एक रेस्टोरेंट, गेस्ट हाउस और एक घर भी था। पिछली नीलामी के दौरान सरकार ने दाऊद इब्राहिम की तीन संपत्तियों को कुल 11 करोड़ रुपये में नीलाम किया था। हालांकि नीलामी के बाद इन संपत्तियों पर कब्जा करने में बोली लगाने वालों को तकलीफ उठानी पड़ी, बाद में स्थानीय प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद इन संपत्तियों की बोली जीतने वालों को कब्जा मिल सका।

लोगों ने की बेधड़क नीलामी
सरकारी संपत्ति की बोली लगाने के लिए वित्त मंत्रालय द्वारा नियुक्त अधिकारी आरएन डीसूजा ने कहा कि जितनी संपत्ति की नीलामी हुई, उसमें सबसे ज्यादा कीमत दाउद इब्राहिम की संपत्ति के लिए हुई। दाऊद के डर से उसकी संपत्तियों को कोई खरीदता था, लेकिन अब यह भय लोगों में नहीं है। संपत्तियों की बेधड़क नीलाम होते हुए लोग देख रहे हैं और नीलामी में हिस्सा भी ले रहे हैं।
पहले भी नीलाम हो चुकी हैं तीन संपत्तियां   

इससे पहले अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की तीन संपत्तियां 14 नवंबर, 2017 को नीलाम हो गई। यह नीलामी चर्चगेट इलाके के इंडियन मर्चेंट चैंबर में हुई। आपको बता दें कि सीबीआइ ने 1993 मुंबई सीरियल धमाकों के आरोपी दाऊद की कुल 10 सम्पतियां जब्त की थीं। उन्हीं में से तीन रौनक अफरोज होटल, डाम्बरवाला बिल्डिंग और शबनम गेस्ट हाउस इमारत की नीलामी हुई।

11.5 करोड़ रुपए में बिकीं

सैफी बुरहानी अपलिफ्टमेंट ट्रस्ट ने 11.5 करोड़ रुपए में दाऊद की संपत्तियों को खरीदा। रौनक अफरोज होटल 4.53 करोड़ रुपए, डांबरवाला बिल्डिंग 3.53 करोड़ रुपए और शबनम गेस्ट हाउस 3.52 करोड़ रुपए में बिकी। इन संप‍त्तियों में शामिल होटल के लिए पिछली बार पत्रकार एस बालाकृष्णन ने चार करोड़ 28 लाख रुपए की सबसे बड़ी बोली लगाई थी, लेकिन वह रकम चुका नहीं सके थे। इन संपत्तियों को खरीदने के लिए बड़ी संख्या में लिफाफेबंद आदेवन आए हुए थे। ई-ऑक्शन के जरिए भी बोली लगाए जाने की बात सामने आई थी।

कामयाब नहीं हो सके चक्रपाणि अपने मकसद में

यह भी बताया जा रहा था कि दाऊद की कार खरीदकर उसे आग के हवाले करने वाले ऑल इंडिया हिंदू महासभा के स्वामी चक्रपाणी इस नीलामी में हिस्‍सा लेने की तैयारी में हैं। उन्‍होंने ऐलान किया था कि वे दाऊद का होटल खरीदकर वहां शौचालय बनवाएंगे। हालांकि यह पता चला है कि वह अपने इस मकसद में कामयाब नहीं हो सके। आपको बता दें कि इससे पहले चक्रपाणी ने एक नीलामी में 32 हजार में दाऊद की कार खरीदी थी और बाद में उसमें आग लगा दी थी। इसको लेकर उनकी हत्‍या की साजिश भी रची गई थी।