[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: पत्रकारिता से लेकर उपसभापति तक का सफर  – News 4 India

पत्रकारिता से लेकर उपसभापति तक का सफर 

नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। जदयू के राज्‍यसभा सदस्‍य हरिवंश 9 अगस्‍त को राज्‍यसभा के उपसभापति चुन लिए गए हैं। मूल रूप से पत्रकार हरिवंश ने उच्‍च सदन में अपने पहले ही कार्यकाल में सदन का उपसभापति निर्वाचित होने की उपलब्धि हासिल की है। उत्‍तर प्रदेश के बलिया जिले के सिताबदियारा गांव में 1956 में जन्‍में हरिवंश ने बनारस हिंदू विवि से अर्थशास्‍त्र में एम ए और पत्रकारिता में डिप्‍लोमा किया है। हरिवंश का पूरा नाम हरिवंश नारायण सिंह है, लेकिन वे अपने नाम में उपनाम नहीं लगाते हैं। ऐसी जानकारी उन्‍होंने राज्‍यसभा सदस्‍य चुने जाने के बाद बकायदा राज्‍यसभा सचिवालय को दी थी।

बैंक की नौकरी छोड़ फिर से बने पत्रकार

हालांकि बैंक में उनका मन नहीं रमा और वे एक बार फिर 1985 में पत्रकारिता में वापस आ गए। 1985 से 1989 तक हरिवंश साप्‍ताहिक पत्रिका रविवाद में सहायक संपादक रहे। इसके बाद हरिवंश रांची से निकलने वाले एक बहुत ही छोटे अखबार के संपादक बने। अपनी मेहनत, लगन और संपादकीय कौशल से उन्‍होंने जल्‍द ही उसे नामी अखबार बना दिया। लगभग ढाई दशक तक इस अखबार में बतौर प्रधान संपादक रहे। हरिवंश ने पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के मीडिया सलाहकार के रूप में भी काम किया। बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतिश कुमार के करीबी नेताओं में शुमार हरिवंश 2014 में पहली बार बिहार से राज्‍यसभा में पहुंचे। उनका उच्‍च सदन का कार्यकाल 2020 तक है।

प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के चहेते थे

प्रधानमंत्री मोदी ने की हरिवंश की प्रशंसा राज्‍यसभा के उपसभापति निर्वाचित होने पर की। मोदी ने उन्‍हें कलम का धनी बताते हुए कहा कि वे पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के भी चहेते थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि चंद्रशेखर के साथ करीब से काम करते हुए हरिवंश जी पहले से जानते थे कि प्रधानमंत्री पद से चंद्रशेखर इस्‍तीफा देने वाले हैं, लेकिन उन्‍होंने अपनी राजनीति और पत्रकारिता को बिल्‍कुल अलग रखा और अपने अखबार के कर्मचारियों को इस बात की खबर नहीं लगने दी कि यह इस्‍तीफा होने वाला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *