शव पॉलिबैग में

नई दिल्ली न्यूज 4 इंडिया। अरूणाचल प्रदेश के तवांग में दो दिन पहले हेलिकॉफ्टर क्रैश में शहीद जवानों के शव पॉली बैग और गत्तों में लपेटकर गुवाहाटी तक लाए गए। 8 अक्टूबर को तस्वीरें वायरल होने पर विवाद छिड़ गया। सोशल मीडिया पर आलोचना और गुस्सा देख सेना को सफाई देनी पड़ी कि दुर्गम इलाके में बेहद असाधारण हालात और सीमित संसाधनों के चलते ऐसा करना पड़ा। भविष्य में शव उचित तरीके से लाए जाएंगे।

6 अक्टूबर को एयरफोर्स का एमआई-17 हेलिकॉफ्टर भारत-चीन बॉर्डर के पास तवांग में क्रैश हो गया था। हादसे में एयरफोर्स के पांच और सेना के दो जवान शहीद हो गए थे। यहां से इनके शव गत्तों और प्लास्टिक बैग में लपेटकर ले जाए गए।

शहीद हुए वायुसेना के मास्टर वॉरेंट आफिसर एके सिंह के अंतिम संस्कार में स्थानीय प्रशासन ने बेरूखी दिखाई। बिहार के छपरा में 7 अक्टूबर को उनका अंतिम संस्कार किया गया था। इलाके के लोगों का आरोप है कि प्रशासन ने कोई मदद नहीं दी। एके सिंह के बेटे ने कहा, हमे मजबूरन पार्थिव शरीर प्राइवेट गाढ़ी में लाना पड़ा। प्रशासन की तरफ से कोई नहीं आया। उन्होंने मेरे पिता की शहादत का अपमान किया है।

Related posts

Leave a Comment