[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: होली : तंत्र-मंत्र और टोने-टोटके | News 4 India

होली : तंत्र-मंत्र और टोने-टोटके

होली : तंत्र-मंत्र और टोने-टोटके
दीपावली की तरह होली का महत्व भी तंत्र-मंत्र और टोने-टोटके के मामलों में कम लोग ही जानते हैं। सभी लोग जब होली के हुडदंग में डूबे होते हैं और चहुंओर मस्ती का आलम होता है, तब गुमनाम और सुनसान जगहों पर तंत्र-मंत्र से टोटकों की होली खेली जा रही होती है। इस होली में लाल, हरे, नीले, पीले रंग नहीं बल्कि देशी पान के पत्ते, काले तिल, सिंदूर, कपूर, नारियल, नीबू, लाल मिर्च आदि होते हैं। तांत्रिकों की दुनिया में दीपावली की तरह होली पर भी टोने-टोटके की परंपरा चल पडी है। होलिका दहन से पूर्व के समय को तांत्रिक सिद्ध मानते हैं।

पूर्णिमा को प्रात: से रात्रि 12 बजे तक तांत्रिक विभिन्न प्रकार के तंत्र और मंत्रों को सिद्ध करके अपना और जातकों का कल्याण करते हैं। होली के दिन तांत्रिक तंत्र-मंत्र को सिद्ध करने के लिए पूरे दिन पूजा, पाठ, हवन आदि करते हैं। पीडितों की मांग पर टोटके आदि किए जाते हैं। तांत्रिक प्रक्रिया में दीपावली की तरह पशु-पक्षियों अथवा उनके अंगों का उपयोग नहीं किया जाता, बल्कि वनस्पति और अन्य सामग्री से उतारा आदि किए जाते हैं। होली और श्मशान की राख होली पूर्णिमा की रात को अनिष्टकारी कायोंü लिए उपयुक्त माना जाता है।

तंत्र-मंत्र की दुनिया से जुडे लोग कहते हैं कि समाज में आज भी ईष्र्यालु लोगों की कमी नहीं है। व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा वाले कुछ लोग एक-दूसरे के पतन के लिए टोने-टोटके करवाते हैं। इसमें होली और श्मशान की राख का खास तौर पर उपयोग किया जाता है। दिशाएं बताती हैं, इसी क्रम में दशा मान्यता है कि होलिका दहन के समय उसकी उठती हुई लौ से कई संकेत मिलते हैं। पूरब की ओर लौ उठना कल्याणकारी होता है, दक्षिण की ओर पशु पी़डा, पश्चिम की ओर सामान्य और उत्तर की ओर लौ उठने से बारिश होने की संभावना रहती है।

आइए होली की रात के कुछ अन्य तंत्र सिद्धियां जानते हैं:-

व्यापार बढाने के लिए-
इस बार होली रविवार को है। शनिवार को ऎसे पे़ड के नीचे जाए जिस पर चमगादड लटकती हो उस पेड की एक डाल को निमंत्रण दे कि कल हम तुम्हें ले जाएंगे। होली वाले दिन सूर्योदय से पूर्व उस डाल को तोडकर ले आए। रात को उस डाल एवं उसके पत्तों का पूजन कर अपनी गद्दी के नीचे रखें। व्यवसाय खूब फलेगा-फूलेगा।

पौरूषत्व प्राप्ति के लिए-
जंगली कबूतर की बीट लाकर उसे तेल में मिला लें तथा रात को उसे सामने रखकर रात्रि में निम्न मंत्र का जाप करें- ऊँ कामाय नम: तथा इस तेल की मालिश करने से पुरूषेंद्रिय शक्तिशाली होती है।

धन में वृद्धि हेतु-
ऊँ नमो धनदाय स्वाहा होली की रात इस मंत्र का जाप करने से धन में वृद्धि होती है।

रोग नाश हेतु-
ऊँ नमो भगवेत रूद्राय मृतार्क मध्ये संस्थिताय मम शरीरं अमृतं कुरू कुरू स्वाहा इस मंत्र का होली की रात जाप करने से कैसा भी रोग हो नाश हो जाता है।

शीघ्र विवाह हेतु-
– होली के दिन सुब एक साबूत पान पर साबूत सुपारी एवं हल्दी की गांठ शिवलिंग पर चढाएं तथा पीछे पलटे बगैर अपने घर आ जाएं यही प्रयोग अगले दिन भी करें। अतिशीघ्र विवाह हो जाता है।

– गोरखमुण्डी का पौधा लाकर उसको धोकर होली की रात उसका पूजन करें फिर उसको होली की अग्नि में सुखा दें तथा पांच दिन सूखने दे पंचमी के दिन उसको पीसकर चूर्ण बना लें। यह चूर्ण कई प्रयोग में आता है।
– सुबह शाम इस चूर्ण को शहद से चाटने पर स्मरण एवं भाषण शक्ति बढती है।
– दूध के साथ इस चूर्ण का सेवन करने से शरीर स्वस्थ और बलिष्ठ होता है। इस चूर्ण के पानी से बाल धोने पर बाल लंबे और काले घने होते हैं। इस चूर्ण के तेल से शरीर की ऎंठन, जकडन दूर होती है।

ऎसे बचें टोटकों से-
– टोने-टोटके के लिए सफेद खाद्य पदाथोंü का उपयोग किया जाता है। होलिका दहन वाले दिन सफेद खाद्य पदाथों के सेवन से बचना चाहिये।
– उतार और टोटके का प्रयोग सिर पर जल्दी होता है, इसलिए सिर को टोपी आदि से ढके रहें।
– टोने-टोटके में व्यक्ति के कपडों का प्रयोग किया जाता है, इसलिए अपने कपडों का ध्यान रखें।
– होली पर पूरे दिन अपनी जेब में काले कपडे में बांधकर काले तिल रखें। रात को जलती होली में उन्हें डाल दें। यदि पहले से ही कोई टोटका होगा तो वह भी खत्म हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *