नक्शा मैंने बनाया

किसानों की सुनी समस्याएं,

छिन्दवाड़ा न्यूज 4 इंडिया। 11 नवंबर को पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद ने पेंच डूब क्षेत्र के धनौरा में जनसभा ली। किसानों को संबोधित करते हुए श्री नाथ ने कहा कि पेंच व्यपवर्तन परियोजना का नक्शा मैंने बनाया था, लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पेंच के माइक्रो प्रोजेक्ट का भूमिपूजन करने आ रहे हैं। राज्य सरकार पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि मैंने कल्पना की थी कि पेंच परियोजना से हर किसान के आंगन में खुशहाली होगी। किसान तरक्की करेगा, लेकिन भाजपा के सत्ता में आने के बाद पिछले 14 वर्षों में सारे सपने टूट गए हैं। प्रभावितों की हालत देखकर ऐसा लगता है कि जिले के दो हजार गांवों के विकास का क्या फायदा, जब किसानों को ऐसा जीवन जीना पड़ रहा है।

16 नवंबर को मुख्यमंत्रीजी का आगमन

16 नवंबर को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान चौरई आएंगे। अपने कए दिवसीय दौरे में मुख्यमंत्री पेंच व्यपवर्तन परियोजना की माइक्रो एरिगेशन प्रोजेक्ट का भूमिपूजन करेंगे। सीएम के आगमन के पहले सांसद कमलनाथ का ये दौरा कई मायनों में महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

भाजपा-गोंडवाना से कांग्रेस में आए ग्रामीण

जिले के आदिवासी बाहुल्य अंचल छिंदी ब्लाक के ग्राम बिजोरीपठार, बाबईपठार व मोहलीमाता के 75 आदिवासी ग्रामीणों ने स्थानीय राजीव भवन में पूर्व केंद्रीयमंत्री व जिले के सांसद कमलनाथ के समक्ष कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

नौ राज्यों के शोधार्थी मिले

पूना एमआईटी जिसे वर्ल्ड पीस यूनिवर्सिटी भी कहा जाता है, के अंतर्गत आने वाले स्कूल ऑफ गवर्मेंट के तीस सदस्यीय दल ने जिले के सांसद कमलनाथ से भेंट कर जिले के विकास एवं उनके राजनीतिक जीवन की उपलब्धियों को जाना। इस संस्थान में राजनीति सिखाई जाता है। यहां शोधार्थी, विद्यार्थी देश के चुनिंदा जिलों में भ्रमण कर विकास एवं जनाधार निर्मित किए जाने का अध्ययन करते हैं। 11 नवंबर को अपने पांच दिवसीय प्रवास पर महाराष्ट्र, कर्नाटक, हिमाचलप्रदेश, जम्मूकश्मीर, तेलंगाना, राजस्थान, गोवा व आंध्रप्रदेश से आए इस दल से भेंट कर कमलनाथ ने अपने राजनीतिक कैरियर और जिले की उपलब्धियों से इन शोधार्थियों को अवगत कराया।

सरकारी तंत्र रोक रहा था

सांसद कमलनाथ ने कहा कि मुझे सरकारी तंत्र द्वारा धनौरा आने से रोका जा रहा था, तब ही मैंने तय कर लिया था कि अब तो धनौरा जरूर जाउंगा। मैं चाहता हूं कि हेलीकाप्टर से हवा में हाथ हिलाने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान यहां कार से आएं और देखें कि यहां के बच्चे टूटी सड़क से पैदल चलकर स्कूल जाते हैं।

कानून केवल अडानी-अंबानी के लिए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज करते हुए श्री नाथ ने कहा कि क्या देश के कानून केवल अडानी और अंबानी के लिए बने है। फसल बीमा के नाम पर निजी कंपनियों ने साढ़े तेहर हजार करोड़ रूपए कमाए हैं। किसान कर्ज से जूझ रहे हैं। फसल बैठ गई है और पर्याप्त मुआवजा भी किसानों को नहीं दिया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *