[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: आंदोलनों में भ्रम या साजिशों का खेल | News 4 India

आंदोलनों में भ्रम या साजिशों का खेल

 

छिन्दवाड़ा न्यूज 4 इंडिया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं का भोपाल आंदोलन के बाद कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों के बीच भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो गई है। वे अब केंद्र खोलें अथवा आंदोलन को जारी रखें।

विभागीय मंत्री के आश्वासन पर कुछ कार्यकर्ताएं केंद्र खोलने को सहमत हो गईं, वहीं कुछ कार्यकर्ताओं ने काम पर लौटने सें इंकार कर दिया, जिससे जिले भर में लगभग 50 फीसदी केंद्रों में 4 दिसंबर को तालाबंदी रही। भोपाल आंदोलन के बाद प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों ने विभागीय वरिष्ठ अधिकारियों की मध्यस्थता से महिला बाल विकास की मंत्री अर्चना चिटनीश से बातचीत किया। जिन्होंने आंदोलनकारियों की मांग से मुख्यमंत्री को अवगत कराते हुए उनके साथ मीटिंग तय करने का आश्वासन देकर आंदोलन समाप्त करवाया। भोपाल से लौटी कार्यकर्ताएं अब आष्वासन से संतुष्ट नहीं हैं पिछले 6 नवंबर से कार्यकर्ताएं और सहायिकाओं ने आंगनबाड़ी केंद्र बंद रखकर आंदोलन किया था।

मुख्यमंत्री करें घोषणा या लिखित आश्वासन दे

आंदोलनकारी संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष और जिलाध्यक्ष ममता राय कहती हैं कि प्रदेश्वा संगठन ने विभागीय मंत्री के आश्वासन को स्वीकार किया, किन्तु कार्यकर्ताएं-सहायिकाएं अब आश्वासन नहीं बल्कि मुख्यमंत्री की घोषणा अथवा लिखित आश्वासन चाहते हैं। तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा।

तीन सूत्रीय मांगे हैं-

आंदोलनकारी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे हैं। जिसमें मुख्य मांग है कि कार्यकर्ताएं नियमितीकरण किया जाए। नियमितीकरण के पूर्व में अध्यापकों के बराबर वेतन दिया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *