[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: फेल हो गई उमंग | News 4 India

फेल हो गई उमंग

नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। हैदराबाद में जॉब कर रहे इंजीनियर राजभान भदौरिया उन 20 लाख लोगों में से हैं, जिन्‍होंने भारत सरकार का उमंग एप डाउनलोड किया है। इस उम्‍मीद में कि यहां केंद्र, राज्‍य व क्षेत्रीय निकायों की तमाम ई-सेवाओं का लाभ एक साथ मिलेगा। मगर जब पत्‍नी के लिए पैन कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया तो पहले काफी देर तक लोडिंग फिर सॉरी, समथिंग वेंट रॉन्‍ग का संदेश आ रहा है। ऐसी ही निराशा दिल्‍ली के प्रशांत नगाती को भी ऐप से हुई। उन्‍हें आधार कार्ड डाउनलोड करना था मगर डिजी लॉकर एक्‍सेस नहीं कर पा रहे,जहां ये उपलब्‍ध हैं उन्‍होंने ऐप को 1 स्‍टार रेटिंग दी है। हकीकत यह है कि सैकड़ों यूजर्स को आधार, पैन और ईपीएफओ जैसी जरूरत वाली सर्विस में इसी तरह की दिक्‍कतें आ रही हैं।

जरूरी सेवाओं में ये दिक्‍कतें

आधार कार्ड लिंक करते समय ओटीपी देर से आ रहा है या आ ही नहीं रहा। आधार के लिए डिजीलॉकर में अकाउंट नहीं बना पा रहे हैं।

इंटरनेट कनेक्‍शन ठीक है, पर कनेक्‍शन एरर बताया जा रहा है।

ईपीएफओ पास बुक देखने के इच्‍छुक लोगों की यूएएन नंबर से पहचान नहीं हो पा रही है। ओटीपी से जुड़ी समस्‍या भी आ रही है।

कुछ शहरों के नाम न होने, पैन कार्ड सर्विस में नजदीकी सेंटर तलाशने में एरर आ रही है।

मंत्रालय को ही रिस्‍पॉन्‍स नहीं मिल रहा

ऐप विकसित करवाने वाले इलेक्‍ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय यूजर्स के कमेंट पर जवाब दे रहा है, वे भी चौंकाने वाले हैं। इसमें से कई में मत्रालय कह रहा है कि हमें संबंधित विभाग से कोई रिस्‍पॉन्‍स नहीं मिल रहा है। इससे जाहिर होता है कि मंत्रालय ने महत्‍वाकांक्षी ऐप को शुरू तो कर दिया, लेकिन इस प्‍लेटफॉर्म पर साथ लाए गए अपने ही कई अंगों से उसका तालमेल है ही नहीं। मंत्रालय द्वारा गिनाया जाने वाला दूसरा सबसे कारण नेटवर्क इश्‍यू है।

विभागों को क्षमता बढ़ाने के निर्देश

इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि पहले अलग-अलग विभाग अपने ऐप को अलग-अलग तरीके से चला रहे थे। मगर उमंग के तहत एक साथ आने के बाद इन विभागों के सिस्‍टम से जुड़ने वालों की संख्‍या काफी बढ़ गई। इससे कई बार इनका सर्वर रिस्‍पॉन्‍स करना बंद कर देता है। आईटी मंत्रालय सभी विभागों से अपने सिस्‍टम की क्षमता को बढ़ाने के लिए कह रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *