[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: अंततः विधायक को मुख्यमंत्री को लिखनी पड़ी चिट्ठी | News 4 India

अंततः विधायक को मुख्यमंत्री को लिखनी पड़ी चिट्ठी

छिन्दवाड़ा/ आखिरकार बच्चों को चिलचिलाती धूप से मिली राहत, जिला कलेक्टर द्वारा छुट्टी की घोषणा कर दी गई ।
कैसे मिली विद्यार्थियों और अभिभावकों को राहत जाने क्रमशः-
चिलचिलाती धूप में परेशान बच्चे को देख कर छिंदवाड़ा विधायक चौधरी चंद्रभान सिंह से रहा नहीं गया और उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को आखिर चिट्ठी लिख ही डाली, इस भरी गर्मी में स्कूल लगाया जा रहा है जिससे बच्चे परेशान हो रहे हैं इसलिए मैंने सीएम शिवराज सिंह चौहान को चिट्ठी लिखी है ,साथ ही कलेक्टर और जिला शिक्षा अधिकारी से स्कूलों की छुट्टी कराने के लिए भी कहा है यह कहना है छिंदवाड़ा विधायक चौधरी चंद्रभान सिंह का .तेज धूप में स्कूल लगाए जा रहे हैं भले ही जिला प्रशासन ने राहत देते हुए समय बदल कर 12:00 बजे तक कर दिया है लेकिन बच्चे अब भी परेशान हो रहे हैं क्योंकि दोपहर 12:00 बजे तक स्कूल लगने के बाद बच्चे दोपहर 1:00 बजे के बाद ही घर पहुंच पाते हैं ।एक महत्वपूर्ण बात यह है कि निजी स्कूलों ने स्कूल लगाना तो जारी रखा है लेकिन गर्मी से बचने के लिए हर स्कूल में व्यवस्था नहीं है ,कुछ स्कूल में तो पंखे लगाए गए हैं लेकिन कुछ स्कूलों में इसकी भी व्यवस्था नहीं है जिसके कारण बच्चे झुलसते परेशान होते रहते हैं ,विधायक चौधरी चंद्रभान सिंह ने इस आदेश को शुक्रवार से हर हाल में लागू करने के लिए कहा है. जैसा कि हम आपको बता दें कि वर्तमान में छिंदवाड़ा का पारा 43,डिग्री तक पहुंच गया है इसके बावजूद भी स्कूल लगाए जा रहे हैं ।गौर करने वाली बात यह है कि गर्मी की वजह से ही भोपाल और जबलपुर कलेक्टर ने गर्मी को देखते हुए स्कूलों की छुट्टी कर दी हैं ।अतः विधायक द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र लिखे जाने के बाद यह उम्मीद की जा रही थी कि गर्मी के चलते स्कूलों को बंद कर दिया जाएगा।
और परिणामतः 24 घंटे के अंदर ही जिला कलेक्टर जे के जैन द्वारा सभी शासकीय ,एवं अशासकीय शालाओं में 21 अप्रैल से छूट्टी घोषित कर दी गई । जिला कलेक्टर जे के जैन द्वारा जारी पत्र में यह स्पष्ट रूप से कहा गया है कि नर्सरी से कक्षा 8 तक के विद्यार्थियों की छुट्टी घोषित की जाती है वही कक्षा 9 से 12 के विद्यार्थियों की कक्षा 11 बजे तक लगाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *