दृष्टिहीन लड़की बनी भारत की पहली आईएफएस

चेन्नई। देश की पहली नेत्रहीन महिला आईएफएस अफसर बनकर 25 साल की बेनो जेफीन ने इतिहास रच दिया है। उन्होंने इस 69 साल पुरानी इस सेवा में अनोखी एंट्री की और अब फ्रांस में इंडियन फॉरेन सर्विस में अपनी सेवाएं देने जा रही हैं। बेनो साल 2014 में भारतीय विदेश सेवा में शामिल हुई थीं और उन्हें पेरिस के भारतीय दूतावास में पहली पोस्टिंग दी जा रही है।
इस सेवा में चयनित होने से पहले वह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में प्रोबेशनरी अधिकारी थीं।
बेनो की इस सफलता का श्रेय वह अपनी मां और पिता को देती हैं। उनकी मां ने उन्हें घंटों किताबें और अखबार पढ़कर सुनाए, ताकि बेटी की तैयारी में कोई कमी न रह जाए। पिता ने वो सॉफ्टवेयर उनके कंप्यूटर में अपलोड की, जिसकी मदद से वे किताबों को पढ़ सकीं। बेनो ने ब्रेल पर अपनी निर्भरता छोड़कर जॉब एक्सेस विद स्पीच (JAWS) नाम के सॉफ्टवेयर की मदद ली। इस सॉफ्टवेयर की मदद से दृष्टिबाधित लोग कंप्यूटर स्क्रीन पढ़ सकते हैं। इस सॉफ्टवेयर को स्मार्टफोन से भी एक्सेस किया जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *