मध्यप्रदेश में अब खेती नहीं रेती का धंधा

*मध्यप्रदेश में अब खेती नहीं रेती का धंधा*
कृषि प्रधान प्रदेश के
मुखिया के बोल सुनकर बुद्धि जीवी जरा विचार करके देखें …….
जब किसी कृषि प्रधान प्रदेश का मुखिया ही कहें कि किसान खेती छोड उद्योग कर नौकरी में आए, उद्योग लगाएं और टाटा अंबानी जैसे उद्योगपति बन जाएं, तो क्या ऐसी सरकार को बने रहने का अधिकार है ??अभी कुछ समय पहले की ही बात है जब प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान ने स्वयं ही बयान देकर यह कहा था कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करके उन्हें ऊपर उठाया जाएगा ।अब आप ही सोच लीजिए जो सरकार अपने ही दावों और वादों को पूरा कर पाने में सक्षम ना हो …….. वो क्या प्रदेश की कमान संभालेंगे??? आखिर उनकी बड़ी-बड़ी बातों और वादों की पोल खुल ही गई …
किसी और ने नहीं…,,,,, खुद शिवराज सिंह ने ही खोल दी अपनी पोल ।

इस संबंध में कांग्रेसियों का है कहना–

✔प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि मध्य प्रदेश में खेती नहीं रेती का धंधा लाभ का धंधा बन गया है ,इसलिए मुख्यमंत्री खेती छोड़कर उद्योग स्थापित करने की सलाह दे रहे हैं.
❓ पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद कमलनाथ ने कहा कि भाजपा सरकार की पोल अब जनता के सामने पूरी तरह खुल गई गई ….और अब जनता की आंखें खुली गई है..
शिवराज ने ऐसा कहकर स्वयं ही मान लिया है कि प्रदेश को संभालना उनके बस की बात नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *