न्याय करने वाले ने मांगा खुद के लिए न्याय

जबलपुर (मध्यप्रदेश )//
@ 15 महीने में 4 ट्रांसफर
@जबलपुर हाई कोर्ट के बाहर धरने पर बैठे जज
@ बोले मैं एक जज हूं मुझे भी न्याय चाहिए
– जबलपुर हाईकोर्ट के 61 साल के इतिहास में पहली बार कोई जज कोर्ट के सामने धरने पर बैठा है गेट नंबर 3 पर एडीजे आर के श्रीवास सत्याग्रह कर रहे हैं उनके इस विरोध की वजह 15 महीने में 4 बार ट्रांसफर है पहले वे कोर्ट परिसर में धरना देना चाहते थे, लेकिन उन्हें अंदर नहीं आने दिया गया ।उनका कहना है कि सच बोलने की वजह से उन्हें बार-बार ट्रांसफर कर प्रताड़ित किया जा रहा है इसलिए अब वह न्याय की गुहार के लिए धरने पर बैठ गए हैं।
धरने के दौरान डीजे आरके श्रीवास की बेबसी उनके चेहरे पर साफ देखी जा सकती है, उनका कहना है कि चीफ जस्टिस और रजिस्ट्रार जनरल को अपने साथ हुए अन्याय से अवगत करा चुका हूं इसके बावजूद हाईकोर्ट प्रशासन से अब तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला है ,हर 4 महीने में ट्रांसफर से मेरा परिवार परेशान हो चुका है इस बार जैसे-तैसे जबलपुर के एक चर्च स्कूल में अपने बच्चे का एडमिशन कराया है ,एक को पढ़ाई के लिए नीमच में ही मुझे छोड़ना पड़ा क्योंकि वहां से भी तबादला कर दिया गया था ।15 माह में किसी भी जज का चार बार तबादला हाईकोर्ट की ट्रांसफर पॉलिसी के भी खिलाफ है ।इस से साफ होता है कि मनमाने तरीके से भाई भतीजावाद के आधार पर तबादले किए जा रहे हैं। इस व्यवस्था में 80 फिसदी लोग पीड़ित हैं पर कोई बोलने को तैयार नहीं है यदि कोई बोलता है तो उसका ट्रांसफर कर दिया जाता है लेकिन मैंने अब रुकने की वजह संघर्ष का रास्ता चुना है मुझे अब तक नीमच में ज्वाइन कर लेना था लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया है मैंने नौकरी को दांव पर लगाकर सत्याग्रह की राह पकड़ी है मैं जेल भी जाने को तैयार हूं लेकिन अन्याय किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करुंगा मैं सिर्फ नौकरी करने के लिए पैदा नहीं हुआ हूं यदि मैं गलत साबित होता हूं तो तत्काल इस्तीफा देने के लिए भी तैयार हूं मैं एक जज हूं और मेरे साथ भी न्याय होना चाहिए यदि मुझे न्याय नहीं मिला तो धरने के बाद अनशन करूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *