[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: अपनी कोख खतरे में डाली | News 4 India

अपनी कोख खतरे में डाली

कोटा न्‍यूज 4 इंडिया। गर्भवती महिलाओं की अवैध सोनोग्राफी करने वाले डाक्‍टर्स और दलालों के रैकेट का भंडाफोड़ करवाने के लिए महिलाएं आगे आ रही हैं पीसीपीएनडीटी (प्री-कॉन्‍सेप्‍शन एंड प्री-नेटल डायग्‍नोस्टिक टेक्निक एक्‍ट) की कार्रवाई में गर्भवती महिलाएं दलालों और अवैध सोनोग्राफी करने वाले डॉक्‍टरों का सामना कर उन्‍हें सलाखों के पीछे पहुंचा रही हैं राजस्‍थान में पिछलेसाल सबसे ज्‍यादा 42 ऐसे ऑपरेशन चलाए गए हैं इनमें गर्भवती महिलाएं पीसीपीएनडीटी की टीम के माध्‍यम से सोनोग्राफी सेंटर्स पर गर्भ के लिंग की जांच कराने पहुंची और जाल बिछाकर ऐसे रैकेट्स का भंडाफोड़ किया। राज्‍य में पीसीपीएनडीटी सेल के प्रमुख सीनियर आईएएस नवीन जैन कहते हैं कि बगैर डिकॉय महिला के कार्रवाई संभव नहीं है।

इस तरह की कार्रवाई का ही परिणाम है कि लिंगानुपा में अभू‍तपूर्व सुधार किया है। 2011 में यहां 1000 लड़कों के मुकाबले महज 837 लड़कियां जन्‍म ले रही थीं लेकिन अब प्रति हजार लड़कियों की संख्‍या सुधरकर 955 हो गई है इसीलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्‍थान के झुंझुनु से पूरे देश के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान की शुरूआत की है।

सुनीता राठौर

बूंदी की सुनीता राठौर(28) से। 2017में वे दो अलग-अलग कार्रवा‍ईयों में पीसीपीएनडीटी सेल के साथ नकली ग्राहक बनकर गईं। एक बार तो उनकी जान को खतरा देख टीम के भी हाथ-पांव फूल गए थे बूंदी के पीसीपीएनडीटी कॉर्डिनेटर राजीव लोचन बताते हैं कि हमें दौसा जिले के एक दलाल के मार्फत कार्रवाई करनी थी उसमें हम सुनीता को साथ ले गए। दलाल हमें लिंग परीक्षण के लिए आगरा ले गया। वहां से करीब100 किमी दूर फिरोजाबाद ले गया। शक हुआ तो दलाल ने सु‍नीता को अकेले ही साथ लिया और अलग-अलग गाडि़यां बदलकर घुमाता रहा। करीब 3 घंटे तक हमें उसकी लोकेशन भी नहीं मिल पाई। हमारी पूरी टीम कांप गई, क्‍योंकि डिकॉय महिलाकी सुरक्षा हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकता होती है बाद में किसी तरह मौका पाकर सुनीता ने हमें लोकेशन बताई तो हम पहुंचे और उसे सुरक्षित संभाला तथा दलाल को गिरफ्तार किया।

सीमा राठौर

देई क्षेत्र की सीमा राठौर भी एक कार्रवाई में डिकॉय रहीं। कार्रवाई के लिए सीमा बूंदी से गुजरात लेकर जाना पड़ा1 रास्‍ते में उल्टियां शुरू हो गईं। एक बारगी हमें लगा कि कार्रवाई नहीं कर पाएंगे। अधिकारियों ने कार्रवाई को ड्रॉप कर महिला को वापस घर पहुंचाने की बात कही, लेकिन सीमा पीछे नहीं हटी। गुजरात के मोड़सा में उसकी मदद से एक रजिस्‍टर्ड डॉक्‍टर को गिरफ्तार किया गया। उसे भी पहले से बेटी थी और लिंग परीक्षण में भी बेटीही बताई गई, जिसे बाद में जन्‍म दिया।

डोली कंवर- 2 कार्रवाई में 3 दलाल, 2 डॉक्‍टर्स पकड़वाए

लाखेरी की रहने वाली हैं डोली कंवर। फरवरी 2017में दो कार्रवाईयों में जा चुकी हैं डोली खुद हार्ट पेंशेंट हैं और गर्भवती होने के बाद उन्‍हें कई बार सांस में तकलीफ भी हुई। लेकिन पीसीपीएनडीटी टीम को जब उनकी जरूरत थी तो उन्‍होंने कभी मना नहीं किया। बांसवाड़ा और अलवर में उनकी मदद से दो सफल ऑपरेशन हो सके, जिनमें दो डॉक्‍टर व तीन दलाल गिरफ्तार किए जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *