[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: उत्तर प्रदेश – Page 3 – News 4 India

उत्तर प्रदेश

कुख्यात अपराधी की जेल में हत्या

कुख्यात अपराधी की जेल में हत्या

उत्तर प्रदेश
लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया। उत्‍तरप्रदेश के कुख्‍यात अपराधी प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्‍ना बजरंगी (51) की 9 जुलाई को बागपत जेल में गोली मारकर हत्‍या कर दी गई। पूर्व बसपा विधायक लोकेश दीक्षितसे रंगदारी मांगने के आरोपमें बागपत कोर्ट में 9 जुलाई को बजरंगी की पेशी होनी थी इसी कारण बागपत लाया गया था। हत्‍या का आरोप यूपी के एक और अपराधी सुनील राठी पर है। पुलिस का कहना हैकि सुनील को भी 8 जुलाई को रूड़की से बागपत जेल शिफ्ट किया था। एडीजी जेल चंद्रप्रकाश ने बताया कि सुबह 6 बजे जेल में सुनील राठी और मुन्‍ना बजरंगी के बीच झगड़ा हुआ था। इस दौरान मुन्‍ना को गोली मार दी गई और सुनील ने हथियार को गटर में फेंक दिया। यह जेल की सुरक्षा में गंभीर चूक है। बागपत के जेलर, डिप्‍टी जेलर सहित 4 जेलकर्मियों को सस्‍पेंड कर दिया गया है। मामले की न्‍यायिक जांच के भी आदेश दिए गए हैं मुन्‍ना पर 40 से ज्‍यादा आपराधिक
नमाज पढ़ने की इजाजत देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

नमाज पढ़ने की इजाजत देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार

उत्तर प्रदेश
आगरा न्‍यूज 4 इंडिया।   ताजमहल में जुमे की नमाज के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने आगरा के ADM सिटी के उस आदेश में दखल देने से इनकार कर दिया जिस आदेश में कहा गया था कि आगरा से बाहर के लोगों को ताजमहल में बनी मस्जिद में नमाज पढ़ने की इजाज़त नहीं होगी. सोमवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है और उसको ऐसा ही बना रहने दिया जाए और उसकी खूबसूरती को नुकसान ना पहुंचे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पर्यटक या बाहर से आए लोग कहीं दूसरी जगह नमाज अदा कर सकते हैं. दरअसल सुप्रीम कोर्ट में दाखिल एक याचिका में मांग की गई थी आगरा के बाहर के मुस्लिमों को भी नमाज अदा करने की इजाजत दी जाए. याचिका में आगरा के ADM सिटी के 24 जनवरी को उस आदेश को चुनौती दी गई थी जिसमें कहा गया था कि आगरा से बाहर के लोगों को ताजमहल में बनी मस्जिद में नमाज पढ़ने की इजाज़त नहीं दी जाएगी य
सिद्धार्थ नाथ सिंह ने गवर्नर को लिखा लेटर

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने गवर्नर को लिखा लेटर

उत्तर प्रदेश
लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया।  योगी आदित्यनाथ कैबिनेट के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने 9 july  को इलाहाबाद का नाम बदल कर प्रयाग करने के लिए गवर्नर राम नाईक को एक लेटर लिखा है। सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा, 'जब राम नाईक महाराष्‍ट्र के सांसद थे तब उन्होंने मुंबई का नाम बांबे से बदलकर मुंबई करने में भी मदद की थी। उम्‍मीद है कि राज्‍यपाल मेरे पत्र के संबंध में भी गंभीरता दिखाएंगे।' - 2019 में इलाहाबाद में कुभ का आयोजन होना है। सरकार ने उसके लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं। यहां गंगा, यमुना और सरस्वती नदी का मिलन होता है जिस कारण इसे संगम नगरी के नाम से भा जाना जाता है। मुगलसराय स्टेशन का बदला गया है नाम: हाल ही में योगी सरकार ने मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय किया है।
अलका राय बोलीं- भगवान से हमें न्याय मिला है

अलका राय बोलीं- भगवान से हमें न्याय मिला है

उत्तर प्रदेश
वाराणसी न्‍यूज 4 इंडिया।   गैंगस्टर मुन्ना बजरंगी की हत्या को भाजपा विधायक अल्का राय ने भगवान का इंसाफ बताया है। अल्का राय ने कहा, "मुझे टीवी से मुन्ना बजरंगी की हत्या का पता चला। भगवान से हमें न्याय मिला है। बजरंगी मेरे परिवार पर हमेशा से खतरा था।" अल्का राय दिवंगत कृष्णानंद राय की पत्नी है। भाजपा विधायक कृष्णानंद राय व उनके सात साथियों की हत्या के मामले में मुन्ना बजरंगी आरोपी था। कृष्णानंद राय की मौत के बाद मुन्ना बजरंगी पूर्वांचल के कई जिलों में वसूली का काम देखने लगा था। 29 नवंबर 2005 को हुई थी भाजपा विधायक की हत्या:गाजीपुर से भाजपा नेता कृष्णानंद राय की हत्या में मुन्ना बजरंगी आरोपी था। दुस्साहसिक ढंग से की गई हत्या में तीन से अधिक एके-47 से 400 से अधिक गोलियां चलाई गईं थी। बीजेपी नेता सहित कुल सात लोग मारे गये थे और सभी के शरीर से पोस्टमार्टम में 60 से 100 गोली मिली थीं।
भगवान राम भी आ जाएं तो नहीं रोक सकते

भगवान राम भी आ जाएं तो नहीं रोक सकते

उत्तर प्रदेश
लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया।  बलिया के बैरिया से भाजपा विधायक  सुरेंद्र सिंह दुष्कर्म पर अपने बयान को लेकर चर्चा में हैं। उन्नाव में महिला से छेड़खानी के मामले में जब सुरेंद्र सिंह से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा- मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर भगवान राम भी आ जाए, तब भी रेप की घटनाओं को रोक पाना संभव नहीं है। यह समाज का स्वाभाविक प्रदूषण है। रेप को संविधान के बल पर नहीं, बल्कि संस्कार के बल पर ही नियंत्रित किया जा सकता है। वहीं, केंद्रीय मंत्री कृष्णा राज अपनी पार्टी के विधायक के इस बयान की निंदा की है। उन्होंने कहा कि इस तरह का बयान देने वाले लोगों की सोच खराब है। सुरेंद्र सिंह ने  7 july को कहा कि अभी हत्या करने वालों का एनकाउंटर किया जा रहा है। दुष्कर्म करने वालों को जेल भेजा जा रहा है। योगी सरकार में इस तरह की घटनाओं में कमी आई है। पहले भी दे चुके हैं विवादित बयान: इससे पहले सुर
किसानो को साधेगी बीजेपी

किसानो को साधेगी बीजेपी

उत्तर प्रदेश
लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया।  हाल में ही खरीफ फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा कर लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने किसानो को साधने की शुरुआत कर दी है। अब बीजेपी क्षेत्र में जाकर किसानो से संवाद स्थापित करने की योजना बना रही है। जिसकी शुरुआत पीएम मोदी 21 जुलाई से शाहजहांपुर में किसान सम्मलेन से करेंगे। शाहजहांपुर के अलावा पीएम मोदी 9 जुलाई को नोएडा और 14 व 15 जुलाई को आजमगढ़ और वाराणसी आने वाले हैं। 28 या 29 जुलाई को उनके लखनऊ आने की भी संभावना है। पीएम की रैली के लिए इसलिए चुना गया शाहजहांपुर -पीएम मोदी द्वारा किसान सम्मलेन की शुरुआत करने के लिए शाहजहांपुर को चुना गया है। चूंकि शाहजहांपुर धान और चावल का प्रमुख उत्पादक जिला है। साथ ही पूर्वी और पश्चिमी यूपी को भी जोड़ता है। इसीलिए किसानो के एजेंडे पर बात करने के लिए सबसे पहले शाहजहांपुर को चुना गया है। किसानो समझायेंगे बीजेपी के ने
IPS  को धमकी देने के मामले में मुलायम सिंह यादव की बढ़ सकती है मुश्किल

IPS को धमकी देने के मामले में मुलायम सिंह यादव की बढ़ सकती है मुश्किल

उत्तर प्रदेश
लखनऊ  न्‍यूज 4 इंडिया।   कर्तव्य में लापरवाही और अनुशासनहीनता बरतने को लेकर पिछले साल निलंबित किए गए वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने उन्हें पूरे वेतन के साथ बहाल कर दिया है। उन्होंने इस घटनाक्रम को 'न्याय की जीत' बताया। ठाकुर ने दावा किया कि उन्हें 11 अक्तूबर 2015 से पूरे वेतन के साथ बहाल किया गया है जैसा कि केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण की लखनऊ पीठ ने निर्देश दिया था। प्रधान सचिव (गृह) देबाशीष पांडा के 11 मई 2016 के आदेश में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने अपने 31 मार्च 2016 के आदेश के जरिए निलंबन को रद्द कर दिया, जिसे केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण की लखनऊ पीठ ने 25 अप्रैल 2016 को फिर से दोहराया। ठाकुर ने एक प्रेस नोट में कहा, 'केंद्र सरकार ने फिर से यही निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार को 26 अप्रैल 2016 के अपने आदेश के जरिए दिया और इन सभी आदेशों
कौन होंगे नये एसएसपी

कौन होंगे नये एसएसपी

उत्तर प्रदेश
लखनऊ  लखनऊ यूनिवर्सिटी में प्रॉक्टर और शिक्षकों से मारपीट के मामले में लखनऊ एसएसपी दीपक कुमार को हटा दिया गया है। विश्वविद्यालय में विवाद के बाद एएसपी दीपक कुमार पर त्वरित कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगा था। एसएसपी दीपक कुमार 41वीं वाहिनी पीएसी गाजियाबाद के कमांडेट बनेंगे। कई नामों की चर्चाओं के बीच कलानिधि नैथानी लखनऊ एसएसपी बनने की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं।बताया जा रहा है कि सीएम योगी आदित्‍यनाथ  के सोनभद्र से लखनऊ लौटने के बाद नए एसएसपी का आदेश जारी होगा। कोर्ट के समक्ष पेश हुए थे डीजीपी: मामले में हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया था और शुक्रवार को डीजीपी ओपी सिंह हाईकोर्ट में पेश हुए थे। उनके साथ हटाए गए सीओ महानगर अनुराग सिंह और एसएसपी दीपक कुमार भी हाईकोर्ट पहुंचे थे। कोर्ट ने एसएसपी को हलफनामा दाखिल कर अब तक की कार्रवाई का ब्योरा देने का आदेश दिया था। क्या है मामला: बुधवा
MLA कुलदीप सिंह के भाई समेत 5 पर आरोप

MLA कुलदीप सिंह के भाई समेत 5 पर आरोप

उत्तर प्रदेश
लखनऊ न्‍यूज 4 इंडिया। उन्‍नाव रेप केस में पीड़िता के पिता की हत्‍या के मामले में 7 july को सीबीआई ने लखनऊ स्‍पेशल कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की है। चार्जशीट में 5 लोगों का नाम है जिसमें भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर के भाई अतुल समेत पांच लोगों को आरोपी बनाया गया है। नामजद किए गए एक आरोपी शैलू को सीबीआई ने दी क्लीन चिट दी है। - गैंगरेप पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में नामजद विनीत, बउआ, सोनू के साथ सुमन सिंह उर्फ शशि प्रताप सिंह और विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई है। क्या है पूरा मामला:मामला पिछले साल 4 जून का है। 17 साल की किशोरी की मां ने विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत कुछ लोगों के खिलाफ रेप की शिकायत की थी। - 3 अप्रैल को विधायक के भाई अतुल ने मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया। - 8 अप्रैल रविवार को पीड़िता ने परिवार समेत मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह की
ट्वीट कर आधे घंटे में 26 बच्चियों को  बचाया

ट्वीट कर आधे घंटे में 26 बच्चियों को बचाया

उत्तर प्रदेश
गोरखपुर  न्‍यूज 4 इंडिया। एक यात्री की हिम्मत और सतर्कता से ट्रेन में सवार 26 बच्चियों को कथित मानव तस्करों के चंगुल से छुड़ा लिया गया। इन बच्चियों के साथ दो युवक थे। इस पर एक यात्री को शक हुआ। उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पीएमओ, रेल मंत्री पीयूष गोयल, रेल मंत्रालय, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ  और केंद्रीय मंत्री मनोज सिंहा को टैग कर ट्वीट किया। इसके बाद आरपीएफ और जीआरपी हरकत में आई और बच्चियों को आधे घंटे में रेस्क्यू कर लिया गया। यह मामला मुजफ्फरपुर-बांद्रा अवध एक्सप्रेस के कोच एस-5 का है। रेलवे एसपी पुष्पांजलि ने बताया कि नरकटियागंज से बच्चियों को आगरा ले जाया जा रहा था। सभी की उम्र करीब 10 से 14 साल है। सभी पश्चिमी चंपारण की रहने वाली हैं। बच्चियों को चाइल्ड लाइन के सुपुर्द किया गया है। हिरासत में लिए गए संदिग्धों ने पूछताछ में बताया कि वे बच्चियों को आगरा के