[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: मध्य प्रदेश | News 4 India - Part 37

मध्य प्रदेश

कर्मचारियों के घर लगाया इस हाईप्रोफाइल ने झाड़ू

कर्मचारियों के घर लगाया इस हाईप्रोफाइल ने झाड़ू

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। राज्‍यपाल आनंदी बेन पटेल 30 जनवरी को राजभवन परिसर में कर्मचारियों के क्‍वार्टर में पहुंची। गंदगी देखी तो स्‍वयं झाडू लगाई और कचरा रास्‍ते में नहीं छोड़ा, उसे डलिया में भरकर डस्‍टबिन में भी फेंका। इतना ही नहीं उन्‍होंने उस समय घर में मौजूद महिलाओं से कहा कि आप लोग जिस तरह से घर को साफ रखती हैं, आसपास भी सफाई रखें। असल में राज्‍यपाल महात्‍मा गांधी की पुण्‍यतिथि पर लोगों को स्‍वच्‍छता का संदेश दे रही थी वे सुबह 11.30 बजे राजवभन परिसर में बने आई टाइप क्‍वार्टर में पहुंची। वहां लगभग सवा घंटे तक रूकीं। उन्‍होंने जहां गंदगी देखी अधिकारियों से कहा कि आखिर यहां रोज सफाई क्‍यों नहीं होती। इस दौरान उनके साथ राजभवन का स्‍टाफ भी था। उन्‍होंने कहा कि हम स्‍वच्‍छता अभियान की शुरूआत कर रहे हैं यह एक दिन महज रस्‍म अदायगी बनकर न रह जाए, यह अभियान आगे भी चलता रहे। इस बात का ध्‍यान
विकलांगों पर गिरी गाज

विकलांगों पर गिरी गाज

मध्य प्रदेश
भोपाल न्यूपज 4 इंडिया। राजधानी के जहांगीराबाद नीलम पार्क में अनशन पर बैठे दिव्यांरगों को पुलिस ने 30 जनवरी को दोपहर हिरासत में ले लिया। दिन भर पुलिस अभिरक्षा रखने के बाद देर शाम सभी को गिरफ्तार किया गया है। दिव्यां ग प्रदर्शनकारी अपनी मांगों को लेकर सीएम हाउस का घेराव करने की तैयारी कर रहे थे इसी दौरान दिव्यांमगों के प्रदर्शन का समर्थन करने पहुंचे अस्थिबाधित दिव्यांमगों को पुलिस ने हिरासत में लेकर प्रदर्शन स्थ ल से खदेड़ दिया। दिसंबर से दृष्टिहीन बेरोजगार संघर्ष समिति जबलपुर अपनी 23 सूत्रीय मांगों को लेकर राजधानी में प्रदर्शन कर रही हैं जल सत्याेग्रह के साथ दिव्यांरगों ने यादगार सहजहानीपार्क से विरोध प्रदर्शन की शुरूआत की थी यहां से खदेड़े जाने के बाद से प्रदर्शनकारी नी‍लम पार्क में डट गए। 30 जनवरी को सुबह सैकड़ो की तादाद में दिव्यांदग सीएम हाउस का घेराव करने की तैयारी में थे भनक लगते ह
आदेश खारिज

आदेश खारिज

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। हाईकोर्ट से उन एक दर्जन मेडिकल छात्रों को 30 जनवरी को राहत मिली है, जिनके एमडीएस कोर्स में हुए एडमिशन व्‍यापंम और एसटीएफ की सिफारिश पर निरस्‍त कर दिए गए थे चीफ जस्टिस हेमंत गुप्‍ता और जस्टिस विजय कुमार शुक्‍ला की युगलपीठ ने सुनवाई के बाद अपना फैसला सुनाया, जिसकी फिलहाल प्रतीक्षा है। ये कुल 5 मामले सनी जुनेजा व 11 अन्‍य की ओर से दायर किए गए थे आवेदकों का कहना था कि मार्च 2012 में व्‍यापमं द्वारा ली गई प्रीपीज परीक्षा में कुल 3152 उम्‍मीदवार शामिल हुए थे उनमें से 22 छात्रों को नोटिस देने के बाद सभी 12 याचिकाकर्ताओं के एडमिशन निरस्‍त कर दिए गए थे याचिकाकर्ताओं पर आरोप लगाया गया था कि 13 मार्च 2012 को आयोजित परीक्षा से पहले ही उनके पास मॉडल आन्‍सर शीट आ गई थी और उसी के आधार पर उन्‍होंने परीक्षा दी थी याचिकाकर्ताओं के एडमिशन निरस्‍त किए जाने को चुनौती देकर ये याचि
मोटी रॉड से जलाए गुप्तांग

मोटी रॉड से जलाए गुप्तांग

मध्य प्रदेश
होशंगाबाद/छिन्द वाड़ा न्यूतज 4 इंडिया। घर छोड़कर बार-बार बेटे के पास आने से नाराज तीसरे पति ने महिला के प्राइवेट पार्ट को गर्म सब्ब ल से जला दिया। 30 जनवरी को महिला की तबीयत ज्याआदा खराब होने के बाद मामला सामने आया। 29 जनवरी को देर रात बानापुरा थाने में महिला ने बेटे के साथ पहुंचकर आरोपी पति के खिलाफ केस दर्ज कराया। महिला की हालत गंभीर है। होशंगाबाद जिला अस्पजताल में उसका इलाज जारी है। पुलिस के अनुसार 50 वर्षीय महिला के प्राइवेट पार्ट को मायाबाड़ी परासिया निवासी तीसरे पति अशोक धुर्वे(55) ने सब्बसल गर्म करके जला दिया। घटना 26 जनवरी की है अशोक ने महिला को घर में रखा और इलाज तक नहीं कराया। एफआईआर में मैं मायावाड़ी गांव जिला छिन्दलवाड़ा की हूं। भीख मांगती हूं। मायका पथरौटा इटारसी का है। मेरी पहली शादी पवारखेड़ा में हुई थी तीन साल बाद पति का स्वार्गवास हो गया था मैंने दूसरी शादी बानापुरा फ
ई-वे बिल जरूरी

ई-वे बिल जरूरी

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। 1 फरवरी से एक राज्‍य से दूसरे राज्‍य के बीच 50 हजार रूपए या उससे अधिक मूल्‍य के माल परिवहन के लिए ई-वे‍ बिल जरूरी हो जाएगा। एक फरवरी या उसके बाद बने बिल पर भेजे जाने वाले माल के लिए यह जरूरी होगा। इस संबंध में मप्र शासन ने 30 जनवरी की रात को नोटिफिकेशन जारी कर दिया। जिलों और शहरों के अंदर माल परिवहन के लिए 1 मार्च से ई-वे बिल लागू होगा। यह 11 श्रेणी की वस्‍तुओं पर जरूरी होगा। बिना ई-वे बिल के परिवहन करने पर वस्‍तु के मूल्‍य का 50 फीसदी तक जुर्माना हो सकेगा। केंद्र सरकार ने राज्‍यों को यह छूट दी थी कि अगर वह चाहें तो राज्‍य में ई-वे बिल लागू करने का फैसला 31 मई के बाद ले सकते हैं छग और राजस्‍थान ने यह बिल 1 जून से लागू करने का फैसला लिया है लेकिन मप्र ने इसे मार्च से ही लागू कर दिया। जिलों में अभी भी ई-वे बिल जरूरी नहीं अभी शहरों में परिवहन के लिए ई-वे बिल ल
माता-पिता बच्चों के साथ जरूर देखें,क्योंकि यह है प्रदेश सरकार के दृढ़ इच्छाशक्ति का साक्षात प्रमाण

माता-पिता बच्चों के साथ जरूर देखें,क्योंकि यह है प्रदेश सरकार के दृढ़ इच्छाशक्ति का साक्षात प्रमाण

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल ने 29 जनवरी को शौर्य स्‍थल का भ्रमण कर यहां स्‍थापित शहीद स्‍मारक पर श्रद्धाजंलि अर्पित की। इस अवसर पर उन्‍होंने कहा कि शौर्य स्‍मारक की स्‍थापना प्रदेश सरकार के दृढ़ इच्‍छाशक्ति का साक्षात प्रमाण है राज्‍यपाल के साथ प्रमुख सचिव, संस्‍कृति विभाग मनोज श्रीवास्‍तव और अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारी उपस्थित थे राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि स्‍मारक में सीमा पर सेना और सैनिकों की गतिविधियों को बहुत अच्‍छे से प्रदर्शित किया गया है ऐसा लगता है कि हम प्रत्‍यक्ष रूप से सीमा पर सब देख रहे हैं उन्‍होंने प्रदेश सरकार की शौर्य स्‍मारक की स्‍थापना के लिए प्रशंसा की। उन्‍होंने कहा कि यह राज्‍य सरकार की दृढ़ इच्‍छा‍शक्ति का प्रमाण है राज्‍यपाल ने कहा कि युद्ध और सीमा की गतिविधियों के फोटोग्राफ और चित्रांकन अनूठा है प्रदर्शन युद्ध और कश्‍मीर की सीमा की हालात ऐसे
इन्हें भी लेना पड़ रहा है वास्तु शास्त्र का सहारा

इन्हें भी लेना पड़ रहा है वास्तु शास्त्र का सहारा

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। प्रदेश में सत्‍ता से विमुख कांग्रेस अब वास्‍तु शास्‍त्र पर किस्‍मत का जोर अजमा रही है प्रदेश कार्यालय बदलते ही सत्‍ता हाथ से जाने की वजह तो कई हैं लेकिन कार्यालय में हो रहे बदलाव को इससे जोड़कर देखा जा रहा है कुछ कांग्रेसी ही ठहाके लगाकर इस बात को स्‍वीकार रहे हैं कि वास्‍तुदोष की वजह से पार्टी को हार मिली है। रौशनपुर चौराहे स्थि‍त जवाहर भवन में कांग्रेस का प्रदेश कार्यालय हुआ करता था दिग्विजय सिंह की सरकार में रेडक्रास हॉस्पिटल के पास प्रदेश कार्यालय के नए भवन की नींव रखी गई थी कांग्रेस कमेटी के तत्‍कालीन अध्‍यक्ष सीताराम केसरी के द्वारा इस भवन का शिलान्‍यास किया गया था वर्ष 2006 में सत्‍ता परिवर्तन के दौर में कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय को नए भवन में शिफ्ट किया गया था। उसके बाद इसका उद्घाटन हुआ। दबकर तो नहीं लेकिन दबी जुबां से कांग्रेसियों का कहना है कि नए भवन
मुख्यमंत्री व अन्य को दी गई क्लीन चिट पर की गई थी चुनौती ,सुनवाई पूरी ,क्या हुआ फैसला?

मुख्यमंत्री व अन्य को दी गई क्लीन चिट पर की गई थी चुनौती ,सुनवाई पूरी ,क्या हुआ फैसला?

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। प्रदेश के बहुचर्चित डम्‍पर घोटाले पर दायर परिवाद को निचली अदालत द्वारा खारिज किए जाने को चुनौती देने वाले मामले में हाईकोर्ट में उभयपक्षों के तर्क पूरे हो गए हैं। हाईकोर्टजस्टिस एसके सेठ और जस्टिस एके श्रीवास्‍तव की युगलपीठ ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है कांग्रेस प्रवक्‍ता केके मिश्रा की ओर से दायर मामले में कहा गया है कि नवंबर 2007में रमेश साहू की ओर से एक परिवाद दायर किया गया। जिसमें लोकायुक्‍त द्वारा मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा अन्‍य को क्लिनचिट दिए जाने को चुनौती दी गई थी इस परिवाद को निचली अदालत ने खारिज कर दिया। उसी डम्‍पर घोटाले को लेकर केके मिश्रा ने नए साक्ष्‍यों और तथ्‍यों के आधार पर फिर एक परिवाद दायर किया, जिसे निचली अदालत ने 28 फरवरी 2017 को तकनीकी आधार पर खारिज कर दिया था इस मामले को लेकर पुनरी‍क्षण याचिका हाईकोर्ट में दायर की गई। याचिकाक
प्रबंधन ने पीड़ित छात्र को ही कर दिया सस्पेंड

प्रबंधन ने पीड़ित छात्र को ही कर दिया सस्पेंड

मध्य प्रदेश
इंदौर न्‍यूज 4 इंडिया। यूजीसी द्वारा पीएमबी गुजराती कॉमर्स कॉलेजपर रैगिंग के मामले को मारपीट में बदले जाने पर किए गए कटाक्ष के बाद 29 जनवरी को प्रबंधन हरकत में आया। उसने ताबड़तोड़ पीडि़त छात्र को ही 10 दिन के लिए सस्‍पेंड कर दिया। जबकि शिकायत में जिन दो छात्रों को आरोपी बताया था, उनके मामले की शिकायत पुलिस को सौंप दी। पूरे मामले पर यूनिवर्सिटी ने भी एंटी रैगिंग कमेटी की बैठक बुलाई और कॉलेज से जवाब मांगा। छात्र कल्‍याण संकाय डीन प्रो. एलके त्रिपाठी के अनुसार यह भी पूछा कि किस आधार पर पीडि़त छात्र को ही सस्‍पेंड किया। कॉलेज प्रबंधन से विस्‍तृत रिपोर्ट भी मांगी है। रिपोर्ट में कॉलेज प्रबंधन ने शिकायतकर्ता छात्र के उस पत्र को आधार बनाया है जिसमें उसने मामले को आपसी विवाद बताते हुए शिकायत वापस लेने की बात कही थी जबकि यूजीसी ने यह कहते हुए रिपोर्ट दाखिल की थी कि शिकायत दबाव में भी वापस ली जा
पूर्व पार्षद की बेटी को मारी गोली 

पूर्व पार्षद की बेटी को मारी गोली 

मध्य प्रदेश
ग्‍वालियर न्‍यूज 4 इंडिया। अस्‍पताल में बीमार मां को देखने जा रही पूर्व पार्षद पुरूषोत्‍तम भार्गव की बेटी छाया मिश्रा(31) को दो युवकों ने गोली मार दी। गोली छाया की बांह में लगी। उन्‍हें निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। वारदात 28 जनवरी की रात लगभग 1 बजे की है। घटनास्‍थल झांसी रोड थाने से मात्र 300 मीटर की दूरी पर है गोली मारने आरोप निर्मल और शीतल पांडे पर लगाया गया है आरोपियों के भाई बेटू की हत्‍या मई में झांसी रोड थाने के सामने कर दी गई थी इस मामले में छाया के पिता पुरूषोत्‍तम भाई बंटी और कालू आरोपी हैं। बंटी अभी फरार है निर्मल भाजपा नेता बताया जाता है। अभी हाल में उसे मुख्‍यमंत्री जनकल्‍याण योजना का पदाधिकारी भी बनाया गया है। घटनास्‍थल पर पहुंची पुलिस ने हत्‍या के प्रयास का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।