[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: छिंदवाड़ा अप्डेट्स – Page 59 – News 4 India

छिंदवाड़ा अप्डेट्स

पुलिस वाला पुलिस की गिरफ्त में

पुलिस वाला पुलिस की गिरफ्त में

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। युवती को शादी का प्रलोभन देकर शारीरिक शोषण करने वाले एक पुलिस आरक्षक पर कोतवाली में दुष्‍कर्म का मामला दर्ज किया गया है निर्भया प्रभारी एसआई अनंति मर्सकोले ने बताया कि बैतूल में पदस्‍थ आरक्षक बिछुआ निवासी धनीराम पहाड़े का बीते एक साल से चांद की एक युवती से प्रेम संबंध थे। शादी का प्रलोभन देकर आरक्षक युवती से दुष्‍कर्म कर रहा था अब शादी से इंकार करते हुए आरक्षक लड़की से विवाह कर रहा है। आरक्षक की 28 अप्रैल को बारात जाने वाली थी पुलिस ने आरक्षक के खिलाफ मामला कायम किया है।
अब नगरवासियों को मिलेगी जलसंकट से मुक्ति

अब नगरवासियों को मिलेगी जलसंकट से मुक्ति

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। पीने के पानी को तरस रहे पांढुर्नावासियों के लिए अच्‍छी खबर है शासन ने कामठीवाला जलाशय सेंक्‍शन करने के बाद 26 अप्रैल को भू-अर्जन की अधिसूचना जारी कर दी है1 170 हेक्‍टेयर जमीन इस जलाशय के निर्माण के लिए अधिग्रहित की जाएगी। दो साल के अंदर प्रोजेक्‍ट को पूरा करने की कार्ययोजना तैयार की गई है। 26 अप्रैल को अधिकारियों को भू-अर्जन के आदेश प्राप्‍त हुए हैं जिसके तहत दो सालों के अंदर पूरी प्रक्रिया करते हुए डेम का निर्माण शुरू करना है। इस जलाशय के निर्माण में 79 करोड़ के खर्च करने का बजट तय किया गया है, कामठीकला, मांगुरली, मटकावाड़ा, उमरी खुर्द गांव की 170 हेक्‍टेयर जमीन किसानों की अधिग्रहित की जानी है एक साल में भू अधिग्रहण और उसकेबाद जलाशय का निर्माण शुरू होगा दो साल के अंदर प्रक्रिया पूरी की जानी है। पांढुर्ना में जलसंकट बड़ी समस्‍या है यहां पीने का पानी तक श
अब शहर को एक और सौगात

अब शहर को एक और सौगात

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ ने जिले को एक और सौगात देने की तैयारी कर रखी है। व्‍यक्तिगत व व्‍यापारिक लेनदने की सुविधा को जनसामान्‍य तक पहुंचाने के लिए छिंदवाड़ा में पेटीएम सुविधा की सौगात दी है। कमलनाथ के प्रयासों से अब पेटीएम कॉल सेंटर के माध्‍यम से संचालित होगा। जिसे वर्तमान में एजिस काल सेंटर द्वारा चलाया जाएगा। प्रारंभ में पेटीएम सेवाओं के लिए 150 युवाओं को रोजगार उपलब्‍ध होगा जो बाद में बढ़कर 400 कर्मियों की संख्‍या तक पहुंचेगा। वर्ष 2017 में पेटीएम ने पेटीएम पेमेंट बैंक लिमिटेड पीपीबीएल नाम का नया बैंक लांच किया है। श्री नाथ के प्रयासों से छिंदवाड़ा में इसकी शाखा का भी शीघ्र शुभारंभ किया जाएगा। बताया जा रहा है कि छिंदवाड़ा मे पेटीएम सुविधाएं शुरू किए जाने को लेकर श्री नाथ ने पेटीएम के संस्‍थापक विजय शेखर शर्मा से लगातार चर्चा की और उन्‍हें छि
शिक्षक पर ताना कट्टा

शिक्षक पर ताना कट्टा

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। अमरवाड़ा के ग्राम मढ़कावाड़ा हाईस्‍कूल में एक शिक्षक पर देशी कट्टा तानने का मामला सामने आया है। पीडि़त शिक्षक और एक शिक्षिका के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है। विवाद बढ़ने पर 26 अप्रैल को शिक्षिका ने अपने भाई को बुला लिया जिसने शिक्षक को धमकाते हुए उस पर कट्टा तान दिया। पुलिस ने बताया कि शिक्षक महेंद्रपाल सिंह परतेती का स्‍कूल में पदस्‍थ मैडम से काफी दिनों से विवाद चल रहा है 26 अप्रैल को मैडम ने अपने भाई अंकित को बुला लिया। जिसने महेंद्रपाल सिंह पर कट्टा तान दिया। शिकायत की पुलिस जांच कर रही है, हालांकि देर शाम तक मामला दर्ज नहीं किया गया था।
खनिज माफियाओं का बढ़ा आतंक

खनिज माफियाओं का बढ़ा आतंक

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। शहर से लगे ग्राम माल्‍हनवाड़ा में इन दिनों खनिज माफिया सक्रिय हैं पहाडि़यों को खोदकर गांव के आसपास से बड़ी मात्रा में पत्‍थरों को निकाला ला रहा है। जिन्‍हें आसपास के ही क्रेशर संचालकों को बेचने का गोरखधंध यहां के स्‍थानीय लोग कर रहे हैं। सबसे बड़ा कारोबार माल्‍हनवाड़ा से कोटलबर्री मार्ग के बीच चल रहा है। जहां मुरम से लेकर बड़े-बड़े पत्‍थरों की सप्‍लाई जारी है। रिंग रोड के आसपास अवैध खनिज उत्‍खनन का बड़ा करोबार संचालित होता है पहले से ही यहां से निकलने वाले पत्‍थर आसपास के क्षेत्रों में बेचे जाते रहे हैं। लेकिन यहां से अवैध कारोबार संचालित करने वालोंने निशाना माल्‍हनवाड़ा और उसके आसपास के क्षेत्रों को बनाए हैं माल्‍हनवाड़ा से कोटलबर्री के बीच बनी पहाडि़यों से निकलने वाले पत्‍थरों को आसपास के क्रेशरों में बेचने का कारोबार चल रहा है। पहाडि़यों के नजदीक ही इ
पीट-पीटकर मार डाला

पीट-पीटकर मार डाला

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। तामिया के ग्राम देलाखारी में 25 अप्रैल की रात दो युवकों के बीच विवाद हो गया। इस विवाद में घायल एक युवकी की इलाज के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने बताया कि 25 अप्रैल की रात डेढ़ बजे इंदिरा कॉलोनी में हल्‍के पिता प्रेमचंद्र विश्‍वकर्मा और तामिया के ग्राम भडि़याढाना के 28 वर्षीय मनोज पिता सुक्‍कू विश्‍वकर्मा के बीच विवाद हो गया। विवाद के दौरान हल्‍के ने लाठी से मनोज पर हमला कर दिया। मारपीट में मनोज की पसलियों में गंभीर चोटें आई थी। जिसे बेहोशी की हालत में तामिया अस्‍पताल लाकर भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान मनोज विश्‍वकर्मा की मौत हो गई। मनोज और हल्‍के के बीच किस बात को लेकर विवाद हुआ इसका खुलासा नहीं हो पाया है घटना के बाद से हल्‍के विश्‍वकर्मा फरार है पुलिस ने हल्‍के के खिलाफ धारा 324, 302 के तहत मामला कायम किया है। इंदिरा कॉलोनी में रहने वाले हल्‍के विश्‍वक
जिले के बाहर नहीं कर सकते बिना….

जिले के बाहर नहीं कर सकते बिना….

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। मप्र में स्‍टेट ई-वे बिल 25 अप्रैल से लागू कर दिया गया है। फिलहाल केवल 11 वस्‍तुओं को ई-वे बिल के दायरे में लाया गया है। और इन वस्‍तुओं के दूसरे जिले में परिवहन पर भी स्‍टैट ई-वे बिल देना होगा। केंद्र सरकार के इंटर स्‍टेट ई-वे बिल 1 अप्रैल से लागू होने के बाद मप्र शासन ने इंट्रा स्‍टेट ई-वे बिल लागू कर दिया है। यह बिल इंटर डिस्ट्रिक के रूप में लागू होगा। अब व्‍यापारियों को एक जिले से दूसरे जिले में 50 हजार रूपए या उससे अधिक की राशि का माल परिवहन करने के लिए ई-वे बिल जनरेट कराना होगा। दूसरे जिले में अब बिना ई-वे बिल माल परिवहन नहीं हो पाएगा। शासन ने 24 अप्रैल को नोटिफिकेशन जारी किया था और 25 अप्रैल से यह व्‍यवस्‍था प्रदेश के अंदर लागू कर दी है। इंट्रा स्‍टेट ई-वे बिल दो जिलों के मध्‍य होने वाले माल परिवहन पर लागू किया गया है यह जिले के अंदर माल परिवहन
पसंदीदा जगह के लिए लगा रहे एप्रोच

पसंदीदा जगह के लिए लगा रहे एप्रोच

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। तबादले के मौसम की शुरूआत जल्‍द होने वाली है अफसरों को इंतजार है तो सिर्फ सरकारी आदेश का जिसके बाद ट्रांसफर से रोक हट जाएगी। ये भी तय है कि जिले से आधा दर्जन से ज्‍यादा अधिकारियों को विधानसभा चुनाव के पहले जिले को छोड़ना पड़ेगा। ऐसे में अपनी पंसदीदा पोस्टिंग के लिए अफसरों ने अभी से अपने आला अधिकारियों को एप्रोच लगानी शुरू कर दी है। कोई नेताओं के भरोसे बैठा है तो कोई अपने विभाग के आला असफर के पास एप्रोच लगा रहे हैं। चुनाव के पहले सरकार की ये आखिरी प्रशासनिक सर्जरी होना है प्रशासनिक अधिकारियों को पहलेही अल्‍टीमेटम दिया जा चुका है जिन अफसरों का जिले में तीन साल का कार्यकाल पूरा हो चुका है, उनको बाहर का रास्‍ता दिखाया जाएगा। ऐसे में अफसरों ने अभी से अपनी पोस्टिंग के लिए जुगाड़ लगाना शुरू कर दिया है बताया जा रहा है कि कई अफसर भोपाल में अपने पसंदीदा जिलों की सूची
आखिर क्‍यों छा गई मायूसी

आखिर क्‍यों छा गई मायूसी

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता और सांसद कमलनाथ को मप्र की कमान सौंपे जाने को लेकर पिछले दिनों रही सरगर्मी के बीच घोषणा नहीं हो पाने को लेकर उनके समर्थकों में फिलहाल मायूसी देखी जा रही है। कांग्रेस खेमें मेंअब कहा जा रहा है कि 29 अप्रैल को हरियाणा में कांग्रेस की बड़ी रैली है चूंकि कमलनाथ फिलहाल राष्‍ट्रीय महासचिव होने के साथ ही हरियाणा के प्रभारी भी हैं। वहां व्‍यस्‍तता के चलते घोषणा अभी रोकी गई है। हरियाणा रैली के बाद सांसद कमलनाथ को प्रदेश की कमान दिए जाने की घोषणा होने की संभावनाएं जताई जा रही हैं। वैसे तो बीते साल भर से कमलनाथ के हाथ में प्रदेश की कमान देने को लेकर चर्चाएं चल रही हैं 21 अप्रैल को जबलपुर के आयोजन के बाद कमलनाथ सहित तमाम वरिष्‍ठ नेताओं की दिल्‍ली दौड़ और वहां बैठक में चर्चा व निर्णय पर सभी की निगाहें टिकी रहीं। सोशल मीडिया के जरिए खबर आई कि कमल
हम कहीं नहीं जाएंगे

हम कहीं नहीं जाएंगे

छिंदवाड़ा अप्डेट्स
छिन्‍दवाड़ा न्‍यूज 4 इंडिया। जिले के मेडिकल कॉलेज के लिए नवपदस्‍थ 54 प्रोफेसर और विशेषज्ञ चिकित्‍सकों में से 17 प्रोफेसर की रतलाम और खंडवा मेडिकल कॉलेज में प्रतिनियुक्ति के आदेश शासन ने दो दिन पहले जारी किए थे इस आदेश का पालन करने से प्रोफेसरों ने इंकार कर दिया है सभी प्रोफेसरों ने डीन के सामने लिखित रूप से अपना पक्ष रखते हुए रतलाम और खंडवा जाने से मना कर दिया है बताया जा रहा है कि खंडवा, दतिया, विदिशा और रतलाम में खुलने जा रहे मेडिकल कॉलेज का प्राथमिकता देते हुए शासन ने आदेश जारी किए थे कि 54 प्रोफेसरा और विशेषज्ञों के स्‍टाफ में से 9 को रतलाम और 8 को प्रतिनियुक्ति पर खंडवा भेजा जाए। प्रतिनियुक्ति के आदेश के बाद प्रोफेसर और विशेष चिकित्‍सकों में असंमजस की स्थिति बनी हुई है। एक ही दिन हुए थे साक्षात्‍कार शासन द्वारा सातों मेडिकल कॉलेजों में प्रोफेसर और विशेषज्ञ चि‍कित्‍सकों के पद