[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: राष्ट्रीय खबर | News 4 India - Part 71

राष्ट्रीय खबर

ग्रेटर नोएडा के किशोर ने कबूला जुर्म- बैट, पिज्‍जा कटर और कैंची से किया कत्‍ल

ग्रेटर नोएडा के किशोर ने कबूला जुर्म- बैट, पिज्‍जा कटर और कैंची से किया कत्‍ल

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
ग्रेटर नोएडा न्‍यूज 4 इंडिया। पुलिस ने ग्रेटर नोएडा की गौर सिटी में मां-बेटी की हत्‍या का मामला पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है। पुलिस के अनुसार परिवार के 15 साल के लड़के ने मां और बहन की हत्‍या का जुर्म कबूल लिया है। मां उसे पढ़ाई के लिए डांटती और कान पकड़कर उठक-बैठक करवाती। घटना वाले दिन भी उसे थप्‍पड़ मारा था। स्‍कूल में भी दोस्‍त उससे हाथ नहीं मिलाते थे इन सबसे कुंठित होकर उसने क्रिकेट बैट, कैंची और पिज्‍जा कटर से हमला कर मां और बहन को मौत के घाट उतार दिया। एसएसपी लव कुमार ने बताया कि किशोर 8 दिसंबर की शाम बनारस के दशाश्‍वमेध घाट से पकड़ा गया। 9 दिसंबर को उसे जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सामने पेश कर बाल सुधार गृह भेज दिया गया। मोबाइल पर हाई स्‍कूल गैंगस्‍टर जैसे गेम को मर्डर की वजह बताने संबंधी खबरों को एसएसपी ने गलत करार दिया। पूछताछ में पता चला कि हत्‍या के बाद उसने 14वें फ्लोर
फोन स्विच ऑफ कर 20 मीटर दूर रखवाने के बाद करते थे सर्जिकल स्‍ट्राइक की प्‍लानिंग

फोन स्विच ऑफ कर 20 मीटर दूर रखवाने के बाद करते थे सर्जिकल स्‍ट्राइक की प्‍लानिंग

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
पणजी न्‍यूज 4 इंडिया। उड़ी हमले के बाद किए गए सर्जिकल स्‍ट्राइक की प्‍लानिंग बेहद गोपनीय थी। तत्‍कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर  ने 9 दिसंबर को बताया कि सेना और रक्षा मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारियों के साथ बैठकों में मोबाइल फोन स्विच ऑफ करवाकर 20 मीटर दूर रखवाए जाते थे, ताकि कोई बात लीक न हो। गोवा के मुख्‍यमंत्री पर्रिकर ने एक साहित्यिक कार्यक्रम में बताया, फख्र है कि सर्जिकल स्‍ट्राइक से जुड़ी जानकारियां अभी तक बाहर नहीं आई हैं। किसी को भी नहीं पता चला कि सर्जिकल स्‍ट्राइक के लिए जरूरी उपकरण खरीदने के लिए कैसे बड़े अधिकारी तुरंत विदेश भेजे गए थे। उन्‍होंने बताया कि उड़ी हमले से सर्जिकल स्‍ट्राइक तक 18-19 बैठकें हुई थीं। सर्जिकल स्‍ट्राइकसे पहले की मानसिक स्थिति के बारे में पूछने पर पर्रिकर ने कहा कि वक्‍त काफी तनाव भरा था।  कई राज छिपाने पड़ रहे थे। कहीं कुछ गलत हुआ तो क्‍या होगा, यह
जीवित बच्‍चे को मृत बताने के मामले में लाइसेंस रद्द

जीवित बच्‍चे को मृत बताने के मामले में लाइसेंस रद्द

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। जीवित बच्‍चे को मृत बताकर परिजनों को सौंपने के मामले में उत्‍तर पश्चिम दिल्‍ली के मैक्‍स सुपर स्‍पेशलिटी अस्‍पताल का लाइसेंस दिल्‍ली सरकार ने रद्द कर दिया है। दिल्‍ली पुलिस की ओर से अस्‍पताल प्रशासन को भेजे गए नोटिस के अलावा दिल्‍ली सरकार के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने भी पहले इस संबंध में नोटिस जारी किया था। दिल्‍ली के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने दिल्‍ली सरकार की ओर से अस्‍पताल पर लिए गए एक्‍शन के बारे में बताया कि अस्‍पताल पर लापरवाही बरतने का दोषी पाया गया है। मैक्‍स अस्‍पताल ने कुछ दिन पहले जीवित नवजात बच्‍चे को मृत घोषित कर दिया था। और कपड़े में लपेटकर परिजनों को सौंप दिया था। बाद में परिजनों को बच्‍चे की हरकत महसूस हुईं और बच्‍चे को लेकर परिजन दूसरे अस्‍पताल पहुंचे। हालांकि 7वें दिन उस बच्‍चे की मौत हो गई थी। परिजनों ने अस्‍पताल में हंगामा भी कि
हिंदी लेखिका को 27वां व्‍यास सम्‍मान

हिंदी लेखिका को 27वां व्‍यास सम्‍मान

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। हिंदी साहित्‍यकार ममता कालिया को 2017 का व्‍यास सम्‍मान दिया जाएगा। केके बिड़ला फाउंडेशन के अनुसार साहित्‍य अकादमी की चयन समिति ने दुक्‍खम-सुक्‍खम उपन्‍यास के लिए 27वां व्‍यास सम्‍मान देने का निर्णय किया। उन्‍हें 3.5 लाख रूपये भी मिलेंगे।
व्‍यभिचार के मामलों में सजा सिर्फ पुरूष को क्‍यों

व्‍यभिचार के मामलों में सजा सिर्फ पुरूष को क्‍यों

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। व्‍यभिचार के मामलों में सिर्फ पुरूष को ही सजा देने से जुड़े157 साल पुराने कानून की समीक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट सहमत हो गया है। कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में इस पर जवाब मांगा है। कोर्ट ने कहा, ‘जब जीवन के क्षेत्र में महिलाएं पुरूषों के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं, उन्‍हें समानता का अधिकार है तो इस केस में अपवाद कैसे रख सकते हैं।’ अगर कोई पुरूष किसी शादीशुदा महिला से उसके पति की सहमति के बिना संबंध बनाता है तो यह आईपीसी की धारा 497 के तहत अपराध है। ऐसा करने वाले पुरूष को 5 साल तक सजा हो सकती है। महिला पर कोई कार्रवाई नहीं होती।
क्या वें सच मे मोदी की सुपारी देने पाकिस्तान गए थे…..जब तक मोदी को रास्ते से नही हटाया जाएगा ,भारत पाक संबंध नही सुधरेंगे

क्या वें सच मे मोदी की सुपारी देने पाकिस्तान गए थे…..जब तक मोदी को रास्ते से नही हटाया जाएगा ,भारत पाक संबंध नही सुधरेंगे

ब्रेकिंग, मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
भाभर(गुजरात). प्रधानमंत्री ने शुक्रवार को मध्य गुजरात के भाभर से तो कांग्रेस अध्यक्ष बनने जा रहे राहुल गांधी ने 254 किमी दूर तारापुर से दूसरे चरण का प्रचार अभियान शुरू किया। मोदी ने दिनभर में 4 और राहुल ने 3 सभाएं कीं। मोदी ने उन्हें नीच कहने वाले निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर के बहाने पूरी कांग्रेस पार्टी पर हमला बोला। सोनिया गांधी और उनके परिवार से लेकर रेणुका चौधरी, जयराम रमेश, आनंद शर्मा, सहित कुल 9 नेताओं के नाम लिए। कहा कि इन नेताओं ने उनके लिए नीच, बंदर, रावण, भस्मासुर, हिटलर, मुसोलिनी और गद्दाफी जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया। उन्होंने पूछा कि कपिल सिब्बल को भी पार्टी से क्यों नहीं निकाल देते? उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक के बाद एक पूरे देश से साफ हो गई। जहां से इनके नेतृत्व की पांच पीढ़ी आई, उस उत्तर प्रदेश में भी पार्टी का सूपड़ा साफ हो गया। पूरा देश जिस पार्टी को निकालने के लिए टू
वेश बदल सड़कों पर घूमी ये  DSP फिर लगा डर,  ऐसा क्या हुआ

वेश बदल सड़कों पर घूमी ये DSP फिर लगा डर, ऐसा क्या हुआ

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
कोझीकोड  न्‍यूज 4 इंडिया। डीसीपी मेरि‍न जोसेफ दो अन्‍य महि‍ला कांस्‍टेबल के साथ सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लि‍ए 5 दिसंबर को रात नौ बजे के बाद एक आम आदमी की तरह सड़क पर उतरी थीं। केरल की महि‍ला पुलि‍स अधि‍कारी ने कोझीकोड शहर में रात में महि‍लाओं की सुरक्षा की जांच-पड़ताल करने के लि‍ए अनोखा कदम उठाया। डीसीपी मेरि‍न जोसेफ दो अन्‍य महि‍ला कांस्‍टेबल के साथ सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लि‍ए मंगलवार रात नौ बजे के बाद एक आम आदमी की तरह सड़क पर उतरी थीं। वह पुलि‍स यूनि‍फॉर्म के बजाय सादे लि‍बास में थीं। उन्‍हें कुछ चौंकाने वाली परि‍स्‍थि‍ति‍यों का सामना करना पड़ा। उन्‍होंने यह अभि‍यान स्‍थानीय मलयालम न्‍यूज टीवी चैनल ‘मातृभूमि‍’ के साथ मि‍लकर चलाया था। जब डीसीपी को लगा डर: ‘द न्‍यूज मि‍नट’ के अनुसार, मेरि‍न कांस्‍टेबल वीके सौम्‍या और एम सवि‍ता के साथ कोझीकोड शहर में महि‍लाओं की सुर
369 साल में पहली बार मुल्‍तानी मिट्टी से लौट रही ताज की चमक

369 साल में पहली बार मुल्‍तानी मिट्टी से लौट रही ताज की चमक

उत्तर प्रदेश, मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
आगरा न्‍यूज 4 इंडिया। दुनिया के सात आश्‍चर्य में शामिल आगरा के ताजमहल की खूबसूरती में और निखार आने वाला है। 1648 ईवी में बनी 240 फीट ऊँची और 17 एकड़ में फैली इस मुगलकालीन इमारत को पहली बार ‘मड-पैक थैरेपी’ के जरिए पॉलिश किया जा रहा है। 2015 में शुरू हुआ यह काम करीब 75 फीसदी पूरा हो चुका है। इसके नवंबर 2018 तक पूरा होने की उम्‍मीद है। इसलिए पड़ी जरूरत इंडस्ट्रियल जोन में होने के कारण यहां हमेशा प्रदूषण रहता है। इससे ताज की मीनारों, गुंबद पर पीले धुएं की परतें जम गई थीं। आईआईटी कानपुर और अमेरिकन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं के अनुसार संगमरमर पर डीजल और जले हुए कचरे के धुएं से जमा परतों के कारण ताजमहल धीरे-धीरे अपनी सफेदी खोने लगा था। मड-पैक थैरेपी- इमारत पर मुल्‍तानी मिट्टी की पतली परत बिछाई जाती है। बाद में इस परत पर प्‍लास्टिक शीट्स चढ़ा दी जाती है। ये परत संगमरमर पर जमी ग्रीस
भाजपा सांसद ने मोदी से नाखुश हो लोकसभा से दिया इस्तीफा

भाजपा सांसद ने मोदी से नाखुश हो लोकसभा से दिया इस्तीफा

ब्रेकिंग, महाराष्ट्र, मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
PM मोदी की नीतियों से नाखुश भाजपा सांसद नाना पटोले ने लोकसभा से दिया इस्तीफा गोंदिया : गुजरात चुनाव में जुटी भाजपा को महाराष्ट्र से तगड़ा झटका लगा है। गोंदिया लोकसभा सीट से सांसद नाना पटोले ने शुक्रवार को लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। पटोले का कहना है कि किसानों की समस्याओं को लेकर वे भाजपा और मोदी सरकार की नीतियों से नाखुश हैं। मालूम हो, महाराष्ट्र के अकोला में किसानों को लेकर प्रदर्शन चल रहे हैं। भाजपा नेता और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा की अगुवाई में चल रहे इस प्रदर्शन में नाना पटोले ने भी हिस्सा लिया था। तब कहा था, मोदी को सवाल पसंद नहीं यह पहला मौका नहीं है जब नाना पटोले ने मोदी के खिलाफ आवाज उठाई हो। इससे पहले उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी को बिल्कुल भी पंसद नहीं है कि कोई उनसे सवाल पूछे। अगर कोई उनसे सवाल पूछता है तो वह नाराज हो जाते हैं। तब पटोले ने कहा था कि भा
वरिष्‍ठ वकीलों  का  चिल्‍लाकर बात करना शर्मनाक

वरिष्‍ठ वकीलों का चिल्‍लाकर बात करना शर्मनाक

मुख्य समाचार, राष्ट्रीय खबर
  नई दिल्‍ली न्‍यूज 4 इंडिया। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने सुनवाई के दौरान सीनियर एडवोकेट्स के चिल्‍लाकर बात करने पर सख्‍त नाराजगी जताई। उन्‍होंने इसे शर्मनाक बताते हुए कहा, वकील पारंपरिक रूप से न्‍याय के मंत्री कहे जाते हैं। यह दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि कुछ वकील सोचते हैं कि वो ऊंची आवाज में बहस कर सकते हैं। इसे बर्दाशत नहीं किया जाएगा। इस तरह बहस करना बताता है कि आप सीनियर वकील होने के लायक अगर चिल्‍लाने वाले वकीलों की ब्रिगेड को बार काउंसिल नहीं रोकता है तो कोर्ट को उन्‍हें नियंत्रित करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। सुप्रीम कोर्ट में 7 दिसंबर को पारसी धर्म परिवर्तन से जुड़ मामले की सुनवाई के दौरान वरिष्‍ठ वकीलों के व्‍यवहार का मामला उठा। पूर्व सॉलीसिटर जनरल गोपाल सुब्रह्मण्‍यम ने कहा कि वरिष्‍ठ वकीलों द्वारा कोर्ट में चिल्‍लाने की आदत बढ़ती जा रही है। सभी वकीलों को न