मध्य प्रदेश

ऐसा क्या कह दिया इस कलेक्टर ने जो हो गया इतना वायरल

ऐसा क्या कह दिया इस कलेक्टर ने जो हो गया इतना वायरल

मध्य प्रदेश
सिवनी कलेक्टर धनराजू एस की पोस्ट हो रही जमकर वायरल सोशल मीडिया फेसबुक पर कलेक्टर सिवनी नाम से बने पेज पर जिला कलेक्टर धनराजू एस. के द्वारा लिखी गयी मार्मिक पोस्ट न केवल सराही जा रही है वरन उस पर टिप्पणी करने वालों का तांता लगा हुआ है। कलेक्टर धनराजू एस. ने लिखा है कि : ​साथियों, जैसा हमेशा होते आ रहा है वैसा ही हो रहा है, वर्तमान चर्चा का विषय तेज गर्मी है । क्योंकि हमारी चिंता एवं चर्चा का विषय मौसमी (Seasonal) है । ग्रीष्म ऋतू में गर्मी की, वर्षा ऋतू में बाढ़ की, चुनाव के दौरान देश की……. बाकि समय तो हमारे मनोरंजन के लिए अनलिमिटेड डाटा प्लान्स, व्हाट्सफप, बॉलीवुड, आय पी एल, मीडिया ,पिज़्ज़ा हट उपलब्धं है । तेज गर्मी का फायदा लोग अपनी-अपनी क्षमता के अनुसार समाजसेवी, सेवाभावी, संवेदन शील इत्यादि प्रशंसा के पात्र बनने के लिए उठा रहे है । कोई एयर कंडिशनर गर्मी के साथ सरकारी अस्पतालो
दिल के अरमां आंसुओ में बह गए……

दिल के अरमां आंसुओ में बह गए……

मध्य प्रदेश, राष्ट्रीय खबर
भोपाल// केंद्र की मोदी सरकार के फैसले के बाद शिवराज सरकार ने भी लालबत्ती छोड़ने का फैसला ले लिया, जब प्रदेश के मुखिया ही लाल बत्ती छोड़ रहे हैं तो बाकी नेताओं को भी मन मसोसकर रहना पड़ा, इनके फैसले के कारण MP में ऐसे अनेक निगम मंडल अध्यक्ष है जो 6 महीने भी लाल बत्ती का लुत्फ नहीं ले सकें ।इनका कैबिनेट राज्य मंत्री का दर्जा तो बरकरार रहेगा लेकिन इन्हें लालबत्ती छोड़नी पड़ी ।कई तो ऐसे ही जिनको कुछ दिनों पहले ही लाल बत्ती की मंजूरी मिल पाई थी, लेकिन जब तक आदेश निकले तब तक केंद्र से तक नेताओं ने लाल बत्ती छोड़ दी थी ।अब वह लाल बत्ती नहीं लगा सकते। महज कैबिनेट मंत्री के दर्जे का रुतबा ही हासिल हाथआया ,इससे बुरा हाल तो जिला पंचायत के अध्यक्षों की है जिन्होंने लंबी लड़ाई के बाद लाल बत्ती ली थी, पिछले साल ही सितंबर में सरकार ने लंबे आंदोलन के बाद इन को लाल बत्ती दी थी, लेकिन यह महज 6 महीने ही ल
सहकारी समिति में भड़की आग, 13 जिंदा जले

सहकारी समिति में भड़की आग, 13 जिंदा जले

छिंदवाड़ा अप्डेट्स, मध्य प्रदेश
छिंदवाड़ा. हर्रई के बारगी स्थित सहकारी समिति केंद्र में केरोसिन वितरण के दौरान केरोसिन में लगी आग से करीब 13 लोगों की मौत हो गई। बारगी सहकारी समिति केंद्र में केरोसिन और खाद्यान्न वितरण किया जा रहा था। राशन लेने के करीब सैकड़ों ग्रामीण कतार में भवन के सामने मौजूद थे। जबकि कक्ष के अंदर करीब तीन दर्जन से अधिक लोग थे। इसी दौरान केरोसिन में आग लग गई। इससे पहले कि लोग कुछ समझ पाते केरोसिन ने पूरे कक्ष को अपनी चपेट में ले लिया। इस दौरान मची अफरा तफरी से कक्ष में मौजूद लोग बाहर भी नहीं निकल पाए। जानकारी के अनुसार कक्ष में करीब दो दर्जन लोगों के जिंदा जलने की खबर है. सी एम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर कहा , हर्रई की घटना दिल दहला देने वाली है । मृतकों के परिवार को 4 लाख रूपये की मुवावजा राशि दी जायेगी ,साथ ही तुरंत सहायता हेतु 10 हज़ार रुपये मृतकों के अंतिम संस्कार हेतु दिए जाएंगे मंत्
नहीं मिल पाएगी 108 एम्बुलेंस

नहीं मिल पाएगी 108 एम्बुलेंस

मध्य प्रदेश
अगर आपको जरूरत पड़ेगी, तो नहीं मिल पाएगी 108 एम्बुलेंस, घायलों को सड़क पर ही तड़पना पड़ेगा, बेहाल हो जाएंगी आकास्मिक व्यवस्थाएं आकास्मिक घटना के दौरान प्रदेश के नागरिकों के लिए 108 एम्बुलेंस की सेवा लगातार संजीवनी बन रही है। लेकिन पीडि़तों के लिए संजीवनी बनने वाली 108 एम्बुलेंस की सेवा में लगे कर्मचारियों का लगातार कंपनी द्वारा शोषण किए जाने के चलते उन्होंने आगामी दिनों में मांग पूरी न होने पर प्रदेश की करीब 606 एम्बुलेंस की सेवा में काम न करने की चेतावनी दी है। अगर सरकार 26 अप्रैल 2017 तक इनकी मांग को नहीं पूरा करवा पाती है तो प्रदेश से 108 के पहिए थम जाएंगे, जिससे आकास्मिक व्यवस्थाएं चरमरा जाएंगी और दुर्घटना में घायलों को एम्बुलेंस न मिलने के कारण तत्काल में राहत नहीं मिल पाएगी। अगर सरकार इनकी मांगों को पूरा कराने में सफल होती है तो शायद इनकी हड़ताल नहीं हो पाएगी और कर्मचारी काम करेंगे।

खबर छपने से बौखलाए अपर कलेक्टर ने पत्रकार को पिटवाया ….भेजा जेल और…..

ब्रेकिंग, मध्य प्रदेश
खबर छपने से बोखलाए श्योपुर अपर कलेक्टर ने पत्रकार को गनर से पिटवाया,जेल भेजा भोपाल ।। आज मध्यप्रदेश में प्रशासन की नई तस्वीर सामने आई थी । इस पूरे मामले में अफसरशाही पूरी तरह सिर चढ़कर बोल रही थी । श्योपुर में विक्रय से वर्जित भूदान के एक जमीनी मामले में अपर कलेक्टर के खिलाफ खबर छापने वाले एक दैनिक समाचार पत्र के श्योपुर ब्यूरो चीफ दशरथ परिहार को अपर कलेक्टर द्वारा आज गनर से पिटवाया और जेल भिजवा दिया । जनवरी माह में एक खबर प्रकाशित करने से पूर्व ही धमकी भरेे फ़ोन और बहुत कुछ जो भी एक पत्रकार को लिखने से रोक सकता है वो सभी प्रयास किये गए ।। दैनिक भास्कर श्योपुर के ब्यूरो चीफ दशरथ परिहार पी आर ओ आफिस श्योपुर में बैठे थे तभी अचानक ADM का गनर आया और दशरथ के साथ मार पीट करने लगा और गंदी गंदी जाति सूचक गालिया भी देने लगा और वहाँ से पीटता हुआ ले गया ।। फिर बाद में उसको वहाँ से जेल भेज
कांग्रेस नेता ने की पत्नी की हत्या और….

कांग्रेस नेता ने की पत्नी की हत्या और….

मध्य प्रदेश
जबलपुर के कांग्रेस नेता सईद मालगुजार ने आज बुधवार सुबह घरेलु विवाद के चलते अपनी पत्नी की गोली मारकर हत्या कर दी. इसके बाद उन्होंने खुद को भी गोली मार ली. जिससे उनकी भी मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक गोलहपुर के नलियाबंद मोहल्ले में रहने वाले सईद ने पहले बंदूक से पत्नी होसलाबानो के सिर में गोली मारी, जिससे मौके पर ही उनकी मौत हो गई. गोली की आवाज सुनते ही उनका बेटा वहां पहुंचा और बंदूक छीन ली, इसके बाद वे दूसरे कमरे में गए और वहां रखी रिवाल्वर से खुद के सिर में गोली मार ली. घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और जांच शुरू की.
मुख्यमंत्री के मंशानुसार अधिकारी नहीं कर रहे काम ,दूंगा इस्तीफा-भाजपा मंडल अध्यक्ष

मुख्यमंत्री के मंशानुसार अधिकारी नहीं कर रहे काम ,दूंगा इस्तीफा-भाजपा मंडल अध्यक्ष

मध्य प्रदेश
4 दिन बीत जाने के बाद भी नहीं हटा सके शराब दुकान भाजपा मंडल अध्यक्ष का इस्तीफा देना तय संजय गुप्ता सागर( देवरी)||देवरी नगर में स्थित मंदिर मजार बस स्टैंड के पास शराब दुकान हटाने की मांग को लेकर विगत चार दिवस पूर्व हुए सर्वदलीय धरना प्रदर्शन ज्ञापन के बाद भी 4 दिन की समयसीमा बीत जाने के बाद प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गई इस सर्वदलीय प्रदर्शन में कांग्रेस भाजपा नेता जनप्रतिनिधि समाजसेवी ने एक स्वर में कहा था कि शराब ठेका नगर से बाहर हटाने की बाद ही हम दम लेंगे लेकिन जब चार दिन की समय सीमा ख़त्म हो गई और कोई कार्यवाही नहीं हुई तो ऐसा लग रहा है कि प्रशासन ही सरकार को चला रही है मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान केवल समाचार में ही शराब दुकान हटाने की बात करते हैं और कहते हैं कि मंदिर मजार के पास कोई भी शराब दुकान नहीं होगी लेकिन देवरी नगर में मंदिर मजार बस स्टैंड क
शराब ठेका हटाने की मांग को लेकर प्रदर्शन व रैली

शराब ठेका हटाने की मांग को लेकर प्रदर्शन व रैली

मध्य प्रदेश
शराब ठेका हटाने की मांग को लेकर प्रदर्शन रैली निकालकर जताया विरोध दिया ज्ञापन (संजय गुप्ता) सागर|| देवरी नगर के बीचो-बीच बस स्टैंड मंदिर एवं मजार के पास शराब ठेका हटाने की मांग को लेकर आज नगर पालिका चौराहे पर सर्वदलीय मोर्चा की बैनर तले एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ों की संख्या में महिलाएं युवा एवं जनप्रतिनिधि पत्रकार राजनेता शामिल हुए कार्यक्रम में मुख्य रूप से पधारे समाजसेवी रघु ठाकुर ने कहा कि शराब का ठेका हटाना कि हमारा उद्देश्य नहीं होना चाहिए शराब पूर्णता प्रतिबंधित होना चाहिए शराब पर पाबंदी लगाने के लिए हमारे देश में मीडिया एवं महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है कांग्रेस विधायक हर्ष यादव ने कहा कि वह शराब की सख्त विरोधी हैं और शराबबंदी की मांग को लेकर कई बार ज्ञापन भी दे चुके हैं सर्वदलीय मोर्चे के नगर अध्यक्ष एवं भाजपा मंडल अध्यक्ष संदीप जैन ने कहा कि पहले
कविता और साहित्य समाज का आइना -एस पी आशुतोष प्रताप सिंह

कविता और साहित्य समाज का आइना -एस पी आशुतोष प्रताप सिंह

मध्य प्रदेश
होशंगाबाद/राष्ट्रकवि प भवानी प्रसाद मिश्र की याद में नगरपालिका परिषद के तत्वाधान में ठीक उसी जगह उस कविता का शिलालेख किया गया जहाँ बैठकर उन्होंने वो कविता लिखी थी ।कविता है '"सन्नाटा"' कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में होशंगाबाद कलेक्टर अविनाश लवानिया एवम कार्यक्रम के अध्यक्ष एस पी आशुतोष प्रताप सिंह ने की। अध्यक्ष के रूप में कार्यक्रम में उपस्थित एस आशुतोष प्रताप सिंह ने कहा कि कविता व साहित्य समाज का आइना है। साथ ही उन्होंने कहा कि मैंने ये भी सुना है कि "सतपुड़ा के घने जंगल " कविता भी यही लिखी गई है। नगरपालिका द्वारा इसे ऐतिहासिक व आकर्षण का केंद्र बनाए जाने पर श्री सिंह द्वारा सी एम् ओ का आभर व्यक्त किया । इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री लवानिया ने कहा कि यह जगह साहित्यकारों की भूमि है जिसके लिए यह केवल भारत में ही नहीं अपितु पूरी दुनिया में मसहूर है। (more…)
किसकी राह पर चल रहें  है शिवराज…

किसकी राह पर चल रहें है शिवराज…

मध्य प्रदेश
भोपाल //चुनाव के दरवाजे पर खड़ी शिवराज सरकार शराबबंदी पर जनता को नाराज करने का जोखिम मोल नहीं ले सकती. बिहार में नीतीश कुमार को शराबबंदी के चलते तीसरी बार मुख्यमंत्री बनते देख मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी अब उसी राह पर चलने की बात कर रहे हैं. टीवी से लेकर अखबार में हर तरफ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह और उनके मंत्री शराबबंदी की बात कर रहे हैं. हालांकि जिस राज्य में शराब की दुकानें सरकारी नियमों के चलते चाय की दुकानों के पहले खुल जाती हों वहां ऐसा हो पाना मुश्किल लगता है. पिछले कुछ दिन में राज्य के कई शहरों और कस्बों से शराब दुकानों के खिलाफ आंदोलन हो रहे हैं. जगह-जगह औरतें और बच्चे शराब की दुकान चलाने वालों को पीट रहे हैं और दुकानें तोड़ रहे हैं. जाहिर है चुनाव के दरवाजे पर खड़ी सरकार इनको नाराज करने का जोखिम मोल नहीं ले सकती. बिहार में नीतीश कुमार ने 1 अप्रैल, 2016 से सख