[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: मध्य प्रदेश | News 4 India

मध्य प्रदेश

जनहित के मामले में एक-एक कार्यकर्ता जेल जाने को तैयार

जनहित के मामले में एक-एक कार्यकर्ता जेल जाने को तैयार

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी द्वारा जनहित में किए गए एक आंदोलन के मामले में जेल भेजे जाने की घटना पर कहा है कि अगर जनसमस्‍याओं को लेकर कांग्रेस पार्टी के एक-एक कार्यकर्ता जेल जाने को तैयार हैं उन्‍होंने कहा कि इस मामले में सरकार ने जिस तत्‍परता से कार्यवाही की मेरे इस आरोप की पुष्टि होती है कि प्रदेश में दो तरह के कानून हैं। नेता प्रतिपक्ष श्री सिंह ने कहा कि 10 साल पूर्व सड़क बनाने को लेकर किए गए आंदोलन श्री पटवारी पर प्रकरण दर्ज हुआ था। उन्‍होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में कार्य करते हुए राजनीतिक लोगों को जनता के हित में आंदोलन करना पड़ते हें अगर इसके लिए कानूनी रूप से किसी कार्यवाही का सामना करना पड़े तो इसके लिए कांग्रेस का एक-एक कार्यकर्ता तैयार है। उन्‍होंने कहा कि इस मामले में सिर्फ भाजपा सरकार की कुत्सित मानसिकता ही उजागर होती है।
नहीं मान पायेंगे हम गृह मंत्री का आदेश

नहीं मान पायेंगे हम गृह मंत्री का आदेश

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। एससी-एसटी एक्‍ट मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी गाइडलाइन के पालन पर गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह द्वारा रोक के आदेश के बाद पुलिस मुख्‍यालय के सामने असमंजस की स्थिति बन गई है। गाइडलाइन का पालन कराने पुलिस मुख्‍यालय द्वारा 28 मार्च को आदेश निकाला जा चुका है इस आदेश को वापस नहीं लिया जा सकता। कोर्ट की अवमानना के डर से पुलिस मुख्‍यालय ने गृहमंत्री के निर्देश के बाद कोई कार्यवाही नहीं की है। इस संबंध में पुलिस का कोई भी अफसर कोई प्रतिक्रिया देने को तैयार नहीं है गृहमंत्री सिंह ने तीन दिन पहले निर्देश जारी किए थे कि सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार द्वारा रिव्‍यू पिटीशन दायर की गई है। उन्‍होंने डीजीपी द्वारा 28 मार्च को जारी परिपत्र में निर्देशों का पुनरावलोकन कर अग्रिम कार्यवाही करने के निर्देश दिए हैं साफ है कि सरकार द्वारा गाइडलाइन पर रोक लगाई गई है विशेषज्ञों का कहना
पॉलिटिक्‍स की शुरूआत

पॉलिटिक्‍स की शुरूआत

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष की जिम्‍मेदारी संभालने के एक दिन बाद ही सांसद राकेश सिंह विवादों में घिर गए हैं 20 अप्रैल को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें राकेश सिंह हाथ से इशारा करते हुए कह रहे हैं कि आप व्‍यापक कवरेज तब दोगे, जब कुछ मिलेगा। यह वीडियो 19 अप्रैल को भाजपा दफ्तर में हुई एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के खत्‍म होने के ठीक बाद का है कांग्रेस का आरोप है कि हाथ से किया गया इशारा पैसों को लेकर है। भाजपा ने इसे कांग्रेस की डर्टी पॉलिटिक्‍स बताया। असल में राकेश सिंह ने एक पत्रकार से कहा कि पहली बार होगा कि प्रदेश अध्‍यक्ष बनने के बाद कोई नौ बार आप लोगों के सामने आया। जवाब में मीडिया के व्‍यक्ति ने कहा कि इससे आपको ही व्‍यापक कवरेज मिलेगा। इस पर राकेश सिंह ने यह कहा कि कवरेज आप कुछ मिलने के बाद ही दोगे। फिलहाल सोशल मीडिया पर वीडियो आने के बाद सियासत गरमा गई। क
सिविल सेवक अहंकार मुक्‍त हो काम करें

सिविल सेवक अहंकार मुक्‍त हो काम करें

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 20 अप्रैल को भोपाल की प्रशासन अकादमी में आयोजित सिविल सर्विस-डे कार्यशाला में गीता के श्‍लोक द्वारा सिविल सेवकों को सात्विक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करने का दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि टीम भावना के साथ निष्‍पक्ष रूप से कार्य करें, अहंकार से मुक्‍त रहें। चुनौतियों का सामना धैर्य के साथ करें। उन्‍होंने सिविल सेवकों को गुटबाजी से भी दूर रहने की सलाह दी है। श्री चौहान ने कहा कि जनता और जन-प्रतिनिधियों को जोड़कर शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों का संचालन जन-अभियान के रूप में किया जाना चाहिए। जनता की सहभागिता से किये गये कार्यों की सफलता सुनिश्चित होती है यह सफलता अन्‍य किसी तरीके से किये गये प्रयासों से कई गुना अधिक होती है मुख्‍यमंत्री जी ने कहा कि जन-प्रतिनिधि जन-भावनाओं से अवगत होते हैं उनके साथ संतुलित ताल-मेल और समन्‍वय जरूरी है
वाट्सएप पर प्रतिबंध

वाट्सएप पर प्रतिबंध

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के प्रेस मीडिया से संबंध रखने पर कार्रवाई के फरमान के बाद राजधानी के 60 से ज्‍यादा वाट्सएप ग्रुप में सन्‍नाटज्ञ छा गया है। पुलिस अफसरों और कर्मचारियों ने वाट्सएप ग्रुप में पोस्‍ट और कमेंट करना बंद कर दिया है एक सीनियर अफसर ने कहा कि वाट्सएप ग्रुप में बातचीत से जानकारियों का आदान-प्रदान होता था लेकिन सब चुप है जबकि एक अफसर ने तो ग्रुप में लिखा है कि ऊपर से कर्रे-कर्रे फरमान आ रहे हैं, नौकरी करने दो। बिना अनुमति प्रेस मीडिया से संबंध रखने पर अफसरों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश पिछले हफ्ते डीजीपी ऋषि कुमार शुक्‍ला द्वारा जारी किया गया है।
सेल्‍फी बनी मौत का जंजाल

सेल्‍फी बनी मौत का जंजाल

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। नहाते समय नर्मदा नदी में सेल्‍फी लेना दो छात्रों को उस समय महंगा पड़ा जब वे सेल्‍फी के चक्‍कर में गहरे पानी में चले गए और उन्‍हें अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। यह घटना उस समय सामने आई जब गौर क्षेत्र के जमतरा स्थित खिरहनी घाट में पिकनिक मनाने आधा दर्जन छात्र गए थे जिनमें से दो छात्र नहाने के लिए नर्मदा नदी में उतर गये थे बताया जा रहा है कि गढ़ा सेंट्रल स्‍कूल में पढ़ने वाले 16 वर्षीय गढ़ा निवासी गिरीश कोष्‍टी एवं त्रिमूर्ति नगर निवासी देवांश तिवारी के डूबने की जानकारी मिलते ही उनके साथी छात्रों एवं खिरहनी घाट में मौजूद लोगों में हड़कंप मच गया। पुलिस को खबर दी गई तो पुलिस का दल वहां पहुंचा और फिर स्‍थानीय गोताखोरों के साथ होमगार्ड के गोताखोरों की मदद ली गई। रेस्‍क्‍यू ऑपरेशन के बाद दोपहर करीब ढाई बजे दोनों छात्रों के शव नर्मदा नदी से बाहर निकाले गए। 10वीं कक्षा के छा
अब इन कलेक्‍टरों के साथ पीएम करेंगे…..

अब इन कलेक्‍टरों के साथ पीएम करेंगे…..

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। नीति आयोग ने हाल ही में मप्र के जिन आठ जिलों की पिछड़े जिलों के रूप में रैंकिंग की थी, उन्‍हीं जिलों के कलेक्‍टरों की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंडला में मीटिंग लेने जा रहे हैं वे 24 अप्रैल को जबलपुर पहुंचकर मंडला जाएंगे। पहली बार ऐसा होगा, जब मोदी मप्र के कलेक्‍टरों के साथ बैठक करेंगे। बताया जा रहा है कि मोदी इन जिलों के कलेक्‍टरों से पूछेंगे कि नीति आयेग की रिपोर्ट आने के बाद उन्‍होंने पिछड़ा जिलों के डवलपमेंट का क्‍या रोडमैप तैयार किया है अचानक तय हुई मोदी की इस मीटिंग को लेकर शासन भी संशय में है कि क्‍या करें। फिलहाल कलेक्‍टरों से तैयारी करने के लिए कह दिया गया है जिन आठ जिलों के कलेक्‍टरों को बुलाया गया है उसमें विदिशा, खंडवा, राजगढ़, छतरपुर दमोह, गुना, बड़वानी, और सिंगरौली शामिल हैं। हैरानी की बात यह है‍ कि विदिशा भी पिछड़े जिलों में शामिल है। जिस संसदीय सी
सिर्फ यहीं नहीं अन्‍य जिलों में भी चल रहा गोरखधंधा

सिर्फ यहीं नहीं अन्‍य जिलों में भी चल रहा गोरखधंधा

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। चिल्‍ड्रन बुक हाउस का गोरखधंधा केवल जबलपुर भर में नहीं फैला है बल्कि छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला सहित रीवा तक पसरा हुआ है। एक सत्र में सीबीएच 25 करोड़ से अधिक की शुद्ध कमाई का नया फंडा निकालते हुए देवसिद्ध पब्लिकेशन के नाम पर खुद किताबें छापी हैं और ये किताबें सिर्फ और सिर्फ उसकी ही दुकानों पर उपलब्‍ध होती हैं। इसलिए किताबों का पूरा सेट अन्‍य पु‍स्‍तक विक्रेताओं के यहां उपलब्‍ध नहीं हो पाता है। छोटे जिलों में तो अभिभावकों को पक्‍का बिल भी पुस्‍तक विक्रेता नहीं थमाता है कच्‍ची रसीद देकर दो नंबर में सीबीएच करोड़ों की रकम का हेरफेर कर रहा है अवैध कमाई का ये धंधा सालों से चला आ रहा है। यदि इंकम टैक्‍स विभाग पुस्‍तक विक्रेता की कमाई का एक-एक पैसे का हिसाब मांगे तो अ‍सलियत अपने आप सामने आ जाएगी कि किस तरह मासूम अभिभावकों की मजबूरी का फायदा पुस्‍तक विक्रेता द्वारा उठाया
केके मिश्रा को मिली सजा, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी

केके मिश्रा को मिली सजा, सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। प्रदेश कांग्रेस के मुख्‍य प्रवक्‍ता केके मिश्रा ने प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा राज्‍य सरकार की ओर से उनके विरूद्ध लगाये गये मानहानि प्रकरण में भोपाल जिला न्‍यायालय द्वारा 17 नवंबर 2017 को उन्‍हें सुनाई गई 2 साल की सजा और 25 हजार रूपए जुर्माने के बाद 13 अप्रैल को सर्वोच्‍च न्‍यायाल के न्‍यायाधिपति माननीय रंजन गोगोई एवं न्‍यायाधीश माननीया आर.भानुमति द्वारा उनके पक्ष में सुनायेगये फैसले के बाद कहा कि इस फैसले ने भ्रष्‍टाचारियों के खिलाफ संघर्ष करने के मेरे मंसूबों को और भी अधिक दृढ़ता प्रदान की है। भाजपा के प्रदेश के मुख्‍य प्रवक्‍ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने कहा कि सर्वोच्‍च न्‍यायालय की कार्यवाही को कांग्रेस नेता केके मिश्रा गलत ढंग से प्रचारित कर रहे हैं उनकी जीत नहीं हुई है। असल में मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मानहानि के संबंध में मिश्र
मां बनी विधवा महिला, खुद के बेटों ने नकारा

मां बनी विधवा महिला, खुद के बेटों ने नकारा

मध्य प्रदेश
मंडला न्‍यूज 4 इंडिया। घुघरी थाना क्षेत्र में 45 वर्षीय विधवा महिला मां बन गई है जिसके बाद परिवार के सदस्‍य और महिला के बेटा उसे साथ रखने के लिए तैयार नहीं हैं महिला अस्‍वस्‍थ्‍य है और दूधमुंही बच्‍ची की देखभाल नहीं कर पा रही है हालत यह हो गई है कि महिला को दो वक्‍त की रोटी भी नसीब नहीं हो रही हैं। राज्‍य महिला आयोग के सदस्‍य महिला की मदद के लिए आगे आए हैं घुघरी थाना क्षेत्र में विधवा महिला के पति की मृत्‍यु चार साल पहले हो गई थी 3 अप्रैल को उसने घर में एक बच्‍ची को जन्‍म दिया। जिसके बाद उसे अस्‍पताल में ले जाकर भर्ती कराया गया। महिला विधवा होने के कारण मां बनने के बाद यह खबर पूरे मोहल्‍ले में आग की तरह फैल गई। जिसके बाद परिवार के सदस्‍य महिला और उसकी बच्‍ची को साथ रखने के लिए तैयार नहीं हैं। यहां तक कि महिला के दोनों बेटे भी उसे घर में साथ नहीं रखना चाह रहे हैं 4 अप्रैल को महिला को घर