[10:10 PM, 12/7/2017] News4indai: मध्य प्रदेश – News 4 India

मध्य प्रदेश

शादी का रिटेक

शादी का रिटेक

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। शायद किसी ने सही कहा है कि जोडि़यां ऊपर बनती हैं। 10 साल पहले ऐसी ही एक जोड़ी बनी, लेकिन जैसे-तैसे 6 साल गुजरे और तलाक हो गया। दोनोंकी राहें जरूर अलग हो गई, लेकिन पति-पत्‍नी में प्रेम भीतर ही भीतर पनपता रहा। दूसरी तरफ दोनों ओर से परिजन छुटपुट ही सही लेकिन गुजरे दिनों की मिठास को बार-बार परोसते रहे। बिखरे रिश्‍तों को जोड़ने की मुहिम रंग लाई और बिछुड़े हुए दंपत्ति फिर एक होने को राजी हो गए। बाकायदा नाते-रिश्‍तेदार जुड़े, हल्‍दी लगी और भांवरे भी पड़ी। कुल मिलाकर एक दशक पहले हुई शादी का री-टेक हुआ। 16 जुलाई को दोनों कलेक्‍ट्रेट कोर्ट में हाजिर हुए और सरकारी तौर पर मंजूरी भी हासिल कर ली। पता चला है कि पनागर क्षेत्र के उमारिया चौबे के रहने वाले संजेश चौबे का विवाह बल्‍देवबाग की रानू चौबे से वर्ष 2008 में हुआ था शादी के कुछ ही महीनों बाद पति-पत्नि में छोटी-छोटी बातों क
पीएससी परीक्षा गड़बड़ी मामला 

पीएससी परीक्षा गड़बड़ी मामला 

मध्य प्रदेश
जबलपुर न्‍यूज 4 इंडिया। हाईकोर्ट ने पीएससी परीक्षा में गड़बड़ी को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर फैसला सुरक्षित कर लिया है। इसके पूर्व जस्टिस संजय द्विवेदी की एकल पीठ ने याचिकाकर्ताओं और पीएससी के अधिवक्‍ताओं का पक्ष सुना। एकल पीठ ने इस मामले में पीएससी का रिकॉर्ड भी तलब किया है। याचिकाओं पर फैसला 23 जुलाई को होने वाली पीएससी की मुख्‍य परीक्षा के पहले आने की संभावना है। इस मामले में 400 उम्‍मीदवारों की ओर से लगभग 93 याचिकाएं दायर की गई हैं। याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्‍ता मनोश शर्मा सिद्धार्थ सेठ, विवेकरंजन पांडे, कबीर पॉल और मनीष वर्मा ने तर्क दिया कि पीएससी की प्रशासनिक सेवा और वन सेवा की प्रारंभिक परीक्षा में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी हुई है। परीक्षा में 5 प्रश्‍नों को डिलीट कर दिया गया। आपत्ति के बाद 10 प्रश्‍नों के उत्‍तर बदल दिए गए। याचिकाकर्ताओं ने पीएएसी के समक्ष साक्ष्‍य के
कर सहायक आयुक्त और रेंजर को मिली सजा 

कर सहायक आयुक्त और रेंजर को मिली सजा 

मध्य प्रदेश
उज्‍जैन न्‍यूज 4 इंडिया। भोपाल में पदस्‍थ वाणिज्यिक कर विभाग के सहायक आयुक्‍त ओमप्रकाश वर्मा और वन विभाग के पूर्व रेंजर राजाराम पाल को कोर्ट ने भ्रष्‍टाचार के मामले में पांच-पांच साल की सजा सुनाई है। इन्‍होंने बांस, बल्‍ली का व्‍यवसाय करने वाले को जांच रिपोर्ट के खिलाफ जाकर स्‍थाई पंजीयन जारी किया था। एसपी ईओडब्‍ल्‍यू राजेश रघुवंशी ने बताया 15 साल पुराना मामला है। 2003 में भोपाल के मुकेश ठाकुर ने इंदौर ईओडब्‍ल्‍यू में शिकायत की थी कि टिंबर व्‍यवसायी दिनेश पाहवा अपने रिश्‍तेदारों के नाम पर वाणिज्यिक कर विभाग और वन विभाग के अफसरों से सांठगांठ कर रहे हैं। जांच में पाया कि फर्म अन्‍नपूर्णा इंटरप्राइजेस के नाम से जयसिंह पुरा उज्‍जैन में धनजी भाई पटेल और योगेश शर्मा ने लकड़ी का व्‍यवसाय शुरू करने के लिए वाणिज्यिक कर अधिकारी को पंजीयन के लिए आवेदन दिया है। इस पर व्‍यवसाय का स्‍थल परीक्षण के ल
जिला अस्पताल के आईसीयू में फायरिंग

जिला अस्पताल के आईसीयू में फायरिंग

मध्य प्रदेश
सतना न्‍यूज 4 इंडिया। जिला अस्‍पताल की आईसीयू में 17 जुलाई की रात कट्टे से फायर के बाद हड़कंप मच गया। गंभीर रोगियों के बीच भगदड़ मच गई। आईसीयू के बेड नंबर 4 और 5 के बीच लगी खिड़की पर बाहर की ओर से किसी अज्ञात बदमाश ने फायर दागा और भाग गया। 17-18 जुलाई की रात करीब 1 बजे जिस समय से वारदात हुई उस समय आईसीयू में जिला अस्‍पताल प्रबंधन के मौखिक आदेश पर हत्‍या की कोशिश के 2 आरेापी रंजीत सिंह और अनुज सिंह पटेल भी भर्ती थे। सरसरी तौर पर माना जा रहा है कि यही दोंनो हमलावर के निशाने पर थे। हालांकि कोतवाली पुलिस ने ऐसी किसी भी वारदात से इंकार किया है। ये अलग बात हे कि वारदात के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को 17 जुलाई को आनन फानन में न्‍यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी मंजुल सिंह की अदालत में पेश किया। एडीपीओ फखरूद्दीन ने बताया कि आरोपी रंजीत और अनुज को कोर्ट ने न्‍यायिक अभिरक्षा में सेंट्रल जेल भेज द
अगस्त तक शुरू हो जाएगी भर्ती प्रक्रिया

अगस्त तक शुरू हो जाएगी भर्ती प्रक्रिया

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। मुख्‍यमंत्री जन-कल्‍याण(संबल) योजना के हितग्राहियों के विद्यार्थी बच्‍चों को स्‍कूल और कॉलेजों में किसी भी प्रकार का शिक्षण शुल्‍क नहीं लगेगा। यदि ऐसे बच्‍चों ने फीस भर दी है तो उन्‍हें तत्‍काल फीस के पैसे लौटा दिये जायेंगे। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 17 जुलाई को मंत्रालय में योजना की समीक्षा करते हुए इस संबंध में संबंधित अधिकारियों को आवश्‍यक निर्देश दिए। उन्‍होंने कहा कि स्‍कूल, कॉलेजों के लिए स्‍पष्‍ट आदेश जारी करें ताकि किसी भी स्‍तर पर भ्रम की स्थिति नहीं रहे। श्री चौहान ने शिक्षा विभाग में नियमित शिक्षकों की भर्ती करने की प्रक्रिया भी तत्‍काल शुरू करने को कहा। बैठक में बताया गया कि 15 अगस्‍त तक नियमित शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया की औपचारिकताएं पूरी कर ली जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि संबल योजना गरीबों का सहारा बन गई है। उन्‍होंने हितग्राहियों के पंज
कलेक्टर ने स्कूल की मान्यता समाप्त करने शासन को लिखा पत्र 

कलेक्टर ने स्कूल की मान्यता समाप्त करने शासन को लिखा पत्र 

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। राजधानी के ईदगाह हिल्‍स स्थित निजी ऑल सेट स्‍कूल के विरूद्ध मिली शिकायतकी जांच पूरी होते ही कलेक्‍टर ने स्‍कूली मान्‍यता समाप्‍त करने के लिए मप्र शासन को पत्र लिखा है। इसके अलावा स्‍कूल प्राचार्य के विरूद्ध जूविनाईल जस्टिस एक्‍ट के तहत एफआईआरदर्ज कराने के लिए भी आदेश दिये हैं। असल में ऑल सेंट स्‍कूल के विरूद्ध जनसुनवाई एवं मप्र बाल अपर कलेक्‍टर दिशा प्रणय नागवंशी द्वारा जांच की गई थी। जिसमें अभिभावकों द्वारा की गई शिकायत सही पाई गई। जिसके बाद कलेक्‍टर ने स्‍कूल प्रबंधन के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए शासन को पत्र लिखा। जांच में पाया गया कि शाला में अध्‍ययनरत प्रायमरी कक्षा की छोटी बच्चियों के शौचालय के सामने महिला कर्मी की नियुक्ति न होना, शौचालय में पु‍रूष कर्मियों के निर्बाध प्रवेश होना पाया गया। जिससे बच्‍चों की शारीरिक सुरक्षा के प्रति शाला प्रबंधन की स्‍प
परीक्षा कराने वाली फैक्ट्री बने रहना ठीक नहीं 

परीक्षा कराने वाली फैक्ट्री बने रहना ठीक नहीं 

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। विश्‍वविद्यालय नया शोध नहीं दे पा रहे हैं तो उन्‍हें परीक्षा कराने वाली फैक्‍ट्री बने रहना ठीक नहीं है। वहां जो शिक्षक हैं और जिन्‍होंने डॉक्‍टरेट ली हुई है उन्‍हें भी सोचना होगा कि हमने दुनिया को क्‍या नया दिया, क्‍योंकि डॉक्‍टर बड़ा शब्‍द होता जो हम लिखते हैं। यह बात उच्‍च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया ने 16 जुलाई को इंस्‍टीट्यूट फॉर एक्‍सीलेंस इन हायर एजुकेशन कैंपस बने बालक छात्रावास के शुभारंभ के मौके पर कही। उन्‍होंने कहा कि पीएचडी के बारे में बहुत धारणाएं चलती हैं। कई धारणाएं ऐसी हैं जेब में पैसा है तो किराए पर पीएचडी ले सकते हैं। हालांकि यह बीते जमाने की बात है। अभी तो कोई शिकायत मेरे पास नहीं आई है। लोग धनी हैं तो डॉक्‍टर लिख सकते हैं। पर जिन डॉक्‍टर साहब को हिंदी में लिखना ही सही से नहीं आता है तो ऐसे में वे बच्‍चों को क्‍या शिक्षा देंगे। पवैया ने कह
जागा इमान तो कबूला दोस्त की हत्या आरोप

जागा इमान तो कबूला दोस्त की हत्या आरोप

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। ट्यूलिप हाइट्स की पांचवी मंजिल से गिरकर हुई युवक की मौत के मामले में नया खुलासा हुआ है। कोलार पुलिस की जांच में सामने आया है कि 28 दिन पहले उसे करीब 50 फीट ऊंचाईसे धक्‍का दिया गया था। प्रेमिका को लेकर हुए विवाद में उसके दोस्‍त ने ही धक्‍का दिया था। इसका खुलासा तब हुआ, जब आरोपी दोस्‍त ने हत्‍या का इकरार अपने एक परिचित से कर दिया। पुलिस ने हत्‍या का केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लियाहहै। 19 जून कजलीखेड़ा स्थित ट्यूलिप हाइट्स की पांचवी मंजिल से 25 वर्षीय सुनील चौहान गिर गए थे। उनके पैर और गले में गंभीर चोट थी। 11 दिन चले इलाज के बाद सुनील की मौत हो गई। सुनील को दोस्‍त कृष्‍णा नानजी ने अस्‍पताल पहुंचाया था। पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरू की। सीएसपी भूपेंद्र सिंह के अनुसार सुनील के साथ काम करने वाले लोगों के बयान दर्ज किए गए। कृष्‍णा और सुनील के परिचित मि
अब मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए भी लेना होगा आधार नंबर 

अब मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए भी लेना होगा आधार नंबर 

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। प्रदेश के नगरीय निकायों से अब मृत्‍यु प्रमाण पत्र बिना आधार नंबर के नहीं मिलेंगे। यदि आधार नंबर नहीं है तो शपथ-पत्र देना होगा। इस संबंध में राज्‍य शासन ने सभी नगरीय निकायों को निर्देश जारी कर दिये हैं। अब सभी नगरीय निकायों को इस प्रावधान के पालन में आवश्‍यक व्‍यवस्‍थायें करना होंगी। भारत सरकार के गृह मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी कर सभी राज्‍यों के लिए मृत्‍यु प्रमाण-पत्र देते समय आवेदक से आधार नंबर लेना अनिवार्य किया है। इसी के परिपालन में ये निर्देश जारी हुये हैं। निर्देशों में बताया गया है कि आवेदन-पत्र में मृतक का आधार नंबर नहीं है या आवेदक को उसके आधार नंबर के बारे में जानकारी नहीं है तो आवेदक को शपथ-पत्र देना होगा कि मृतक का आधार नंबर नहीं है। तथा उसके शपथ पत्र में जो जानकारी दी गई है यदि गलत निकलती है तो उसके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई की जा सकेगी। यहीं नहीं, आ
पौधरोपण नहीं घोटाला रोपण हो रहा है, बात पते की 

पौधरोपण नहीं घोटाला रोपण हो रहा है, बात पते की 

मध्य प्रदेश
भोपाल न्‍यूज 4 इंडिया। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड के नाम पर पौधरोपण में 500 करोड़ का घोटाला करने वाली भाजपा सरकार ने इस वर्ष फिर इसमें घोटाले के बीज बो रही है। श्री सिंह ने आरोप लगाया कि सरकार पौधरोपण नहीं घोटाला रोपण कर रही है। जिसकी फसल पूरे प्रदेश में लहलहा रही है, उसे मुख्‍यमंत्री से लेकर भाजपा कार्यकर्ता तक काट रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि नर्मदा संरक्षण के नाम पर पिछले साल साढ़े छह करोड़ पौधरोपण का दावा कर गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज करने की तैयारीसरकार ने की थी। प्रदेश में अन्‍य राज्‍यों से कागजों पर पौधे मनमाने दामों पर खरीदे गए। इसकी पुष्टि इससे होती है कि गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्ड वालों ने रिकॉर्डदर्ज करने से इंकार कर दिया, क्‍योंकि जमीन पर ऐसा कुछ था ही नहीं। श्री सिंह ने कहा कि शिवराज सरकार चुनाव