चाणक्य ने बताए सफलता के 4 सूत्र

जीवन में सफलता के लिए सिर्फ कड़ी मेहनत ही आवश्यक नहीं होती बल्कि मनुष्य को देश, काल व परिस्थिति के अनुसार विवाद, विरोध, प्रलोभन और युद्ध जैसी स्थिति के लिए भी तैयार रहना चाहिए। महान कूटनीतिज्ञ आचार्य चाणक्य ने सफलता के लिए कूटनीति के चार प्रमुख अस्त्र बताए हैं, जिनका उपयोग समय और परिस्थितियों को ध्यान में रखकर करना चाहिए। यदि इन चारों को साध लिया गया तो फिर मनुष्य की जीत सुनिश्चित है। ये चार अस्त्र हैं- साम, दाम, दंड और भेद। जब मित्रता दिखाने (साम) की आवश्यकता हो…

Read More

सूर्य का गोचर आज, जानें भविष्यफल

सूर्य के वृषभ राशि में आते ही बदल जाएगी इन 7 राशि वाले जातको की क़िस्मत! अभी से हो जाएं सावधान नहीं तो भुगतना होगा ख़ामियाज़ा। वैदिक ज्योतिष में सूर्य देव को पिता, पूर्वज, आत्मा और सरकारी सेवा के कारक के रूप में देखा जाता रहा है। इसी चलते कुंडली में सूर्य के शुभ प्रभाव से सरकारी नौकरी, राजनीति और किसी भी संस्था में उच्च पद की प्राप्ति होने की संभावना बढ़ जाती है। सूर्य देव को सिंह राशि का स्वामित्व प्राप्त होता है और मेष, सिंह और धनु में…

Read More

क्लीं का चमत्कार, होगा वशीकरण और आकर्षक व्यक्तित्व

यह क्लीं एक चमत्कारी मंत्र है। यह शक्ति का मूल स्रोत है। इस शक्ति के प्रभाव से सम्मोहन, वशीकरण और आकर्षक व्यक्तित्व की प्राप्ति संभव है। कहा जाता है, कलयुग में साधना से सिद्धि आसानी से मिल जाती है, परंतु यह बात अधूरी ही है। साधना से सिद्धि प्राप्त हो सकती है, यदि साधना का नियोजन और सिद्धि की प्राप्ति का लक्ष्य आत्म उत्थान और जनकल्याण हो तो निश्चित ही सफलता हासिल होती हैं। परंतु सावधान यदि आप शक्तियों का दुरुपयोग कर सम्मोहन वशीकरण जैसे तंत्र को किसी गलत दिशा…

Read More

जो पवित्र होना चाहिए वह तेजी से डरावना हो रहा है यह ना तो राय है और ना ही निष्कर्ष

हाईकोर्ट ने सरकारों से कहा- पता कीजिए, कहीं टीवी सीरियल देखने से तो नहीं बढ़ रहे विवाहेत्‍तर संबंध कोर्ट ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि पिछले कुछ समय में हत्या, हमले और अपहरण जैसी आपराधिक घटनाओं में तेजी आई है। मद्रास हाईकोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों से कहा है कि वो पता लगाएं कि विवाहेतर संबंध के लिए कहीं ‘मेगा टीवी सीरियल्स’ या अन्य चीजें तो जिम्मेदार नहीं है। कोर्ट ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि पिछले कुछ समय में हत्या, हमले और अपहरण जैसी आपराधिक घटनाओं में तेजी आई है।…

Read More

नव भारत का हुआ अभिनंदन

  यूं ही नहीं यह राष्ट्र बना .. यूं ही नहीं यह राष्ट्र गढ़ा .. आदि अनादि कालो से हर युग ने इसकाअभिनंदन किया .. पिछले सप्ताह जो कुछ भी हुआ उसे हम एक आयामी घटना के तौर पर नहीं देख सकते, एक ओर जहां भारत ने सख्त रूप अपनाया और दूसरी ओर पाकिस्तान में खलबली मच गई। पाकिस्तान ही क्या दुनिया के बहुत से देशों ने यह विचार नहीं किया होगा कि भारत इतना कड़ा और बढ़ा कदम उठा सकता है। सब को यह बात भी स्पष्ट हो गई…

Read More

5 राशि के जातक रहें संभलकर, हो सकता है भारी नुकसान

आइये जानते हैं प्रत्येक राशियों का विस्तृत राशिफल– 1. मेष राश‍िफल / Aries Horoscope Today : आत्मबल में वृद्धि होगी। आज का दिन बहुत शुभ फल प्रदान करने वाला है। किसी रुके कार्य के पूर्ण होने से खुश रहेंगे। धार्मिक यात्रा की योजना बनेगी। व्यापार में सफलता और उन्नति की संभावना रहेगी। वैवाहिक जीवन में तनाव आ सकता है। आई टी और मीडिया फील्ड के लोग सफल रहेंगे। आज आपकी लव लाइफ अच्छी रहेगी। श्वांस के रोग से परेशानी हो सकती है। सफेद रंग शुभ है। गाय को गुड़ खिलाएं।…

Read More

मनुष्य की निर्मात्री नारी ही है, नारी को अपनी शक्ति का महत्व समझना चाहिए

*नारी से ही मनुष्य उत्पन्न होता है। बालक की आदि गुरु उसकी माता ही होती है। पिता के वीर्य की एक बूँद ही निमित्त मात्र होती है, बाकी बालक के समस्त अंग-प्रत्यंग माता के रक्त से बनते हैं। उस रक्त में जैसी स्वस्थता, प्रतिभा, विचार-धारा, अनुभूति होगी उसी के अनुसार बालक का शरीर, मस्तिष्क और स्वभाव बनेगा। नारियाँ यदि अस्वस्थ, अशिक्षित, अविकसित, पराधीन, कूपमण्डूक और दीन-हीन रहेंगी तो उनके द्वारा उत्पन्न बालक भी इन्हीं दोषों से युक्त होंगे। ऊसर खेत में अच्छी फसल उत्पन्न नहीं हो सकती।* *यदि मनुष्य जाति…

Read More

मन का भार हल्का रखिये

कल न जाने क्या होगा? नौकरी मिलेगी या नहीं, कक्षा में उत्तीर्ण होंगे या अनुत्तीर्ण, लड़की के लिये योग्य वर कहाँ मिलेगा, मकान कब तक बन कर पूरा होगा, कहीं वर्षा न हो जाय, जो पकी फसल खराब हो जाय आदि बातों की निराशाजनक कल्पना द्वारा आप मन में घबराहट न पैदा किया करें। जो होना है, वह एक निश्चित क्रम से ही होगा, तो फिर घबराने, व्यर्थ विलाप करने अथवा भविष्य की चिन्ता में पड़े रहने से क्या लाभ? अवाँछित कल्पनाएं करेंगे तो आपका जीवन अस्त-व्यस्त होगा और व्यर्थ…

Read More

सकारात्मकता का दीपक

एक जगह चार दीपक जल रहे थे। वे आपस में बातें करने लगे। पहला दीपक बोला… ‘‘हे ईश्वर! इस दुनिया में कितनी मार-काट मची हुई है। लोग स्वार्थ से अंधे हो गए हैं। ऐसे लोगों के लिए मेरी रोशनी किस काम की। और वह बुझ गया।’’ उसकी बात सुन रहा दूसरा दीपक भी कहने लगा… ‘‘लोगों के लिए पैसा ही सब कुछ हो गया है। जीवन से ज्ञान और संस्कार का प्रकाश खत्म हो चुका है, फिर मैं ही जल कर क्या कर लूंगा?’’ और वह भी बुझ गया। तीसरा…

Read More

दुनिया का प्रथम धर्मग्रंथ क्या है

वेद दुनिया के प्रथम धर्मग्रंथ है। इसी के आधार पर दुनिया के अन्य मजहबों की उत्पत्ति हुई जिन्होंने वेदों के ज्ञान को अपने अपने तरीके से भिन्न भिन्न भाषा में प्रचारित किया। वेद ईश्वर द्वारा ऋषियों को सुनाए गए ज्ञान पर आधारित है इसीलिए इसे श्रुति कहा गया है। सामान्य भाषा में वेद का अर्थ होता है ज्ञान। वेद पुरातन ज्ञान विज्ञान का अथाह भंडार है। इसमें मानव की हर समस्या का समाधान है। वेदों में ब्रह्म (ईश्वर), देवता, ब्रह्मांड, ज्योतिष, गणित, रसायन, औषधि, प्रकृति, खगोल, भूगोल, धार्मिक नियम, इतिहास,…

Read More