कुछ यूं संभाले अपने रिश्तो को

रिश्ते ही तो है जो हमें जिंदगी के असल मायने से सिखाते हैं यही बताते हैं कि हमारी जिंदगी उनके बिना कितनी अधूरी होती है ,रिश्ते की खूबसूरती तो तभी है जब कोई रिश्ता किसी मुश्किल वक्त में हमारे लिए सहारा बन जाए, वही तो होते है रिश्ते जो बिना कहे हमारी भावनाओं को और हमारी जज्बातों को समझ जाए ,वही तो होते हैं रिश्ते जो हमारी आंखों में पल रहे सपनों को उड़ान देते हैं ,और वही तो है रिश्ते जो हमारे दुख मे शामिल हो जाए, हमारी खुशियों…

Read More

माँ

कोई न होगा जग में ऐसा जैसी मां होती है …. हर ग़म को हर लेती है खुशियां सारी देती है हमारी एक मुस्कान पर , जग की सारी खुशियाँ पाती है , होगा ऐसा कोई ,जैसी मां होती है कोई न होगा जग में ऐसा जैसी मां होती है … नौ रूप समाए मां में है  … कभी दुर्गा बन दुख हरती मां, अन्नपूर्णा बन देती भोजन, प्रथम गुरु भी तो मां ही होती बन सरस्वती देती ज्ञान, कालरात्रि बन , हर बिगड़े काम बनाती मां, होगा कोई ऐसा…

Read More

news4indiatv का देश वासियों से निवेदन, क्यों जरूरी है आपके मोबाइल यह app

मध्यप्रदेश//news4indiatv देश वासियों से निवेदन करता है कि आप सभी govt की वेबसाइट से आरोग्य सेतु app ज़रूर डाउन लोड करें । आरोग्य सेतु ऐप ना केवल आपको कोरोनावायरस से संबंधित अपडेट देती है कि आप को किस प्रकार के सावधानी बरतनी है बल्कि साथ ही साथ देश के प्रत्येक राज्यों की सूची भी जारी करती है जिसमें प्रतिदिन कोरोनावायरस से संक्रमित , कोरोना वायरस से होने वाली मृत्यु, के साथ ही कोरोना वायरस से प्रतिदिन ठीक होने वाले व्यक्तियों की संख्या का सही-सही विश्लेषण प्रस्तुत करता है। जिससे आप…

Read More

हनी ट्रैप मामला समाज में बढ़ती संवेदनहीनता का सूचक

हनी ट्रैप मामला, समाज में बढ़ती संवेदनहीनता का सूचक सारिका श्रीवास्तव एक स्वच्छ और विकसित समाज राष्ट्रीय विकास का सूचक है। स्वच्छ एवं श्रेष्ठ मानसिकता जिसमें उत्तम चरित्र समाहित हो ,भारतीय दर्शन का प्रतीक है ।परंतु, आज भारतीय अध्यात्म, दर्शन और चिंतन के लुप्त होने के स्पष्ट संकेत दिख रहे हैं। मैं बात कर रही हूं ,हनी ट्रैप मामले की। समाज की तमाम बड़ी शख्सियत इन मामले में ऐसे संलग्न है। जैसे कोई गलत काम है ही नहीं। यह एक आश्चर्य की विषय बिंदु है। विज्ञान और समाज आज इतनी…

Read More

15 August2019

यू तो, स्वाधीनता प्रकृति के समस्त जीव धारियों को जान से भी प्यारी होती है ।इस तथ्य को शायद हमसे बेहतर कोई ना समझ सके, क्योंकि लाखों शहीदों की शहादत और कुर्बानी के फल स्वरुप भारत में 15 अगस्त 1947 को बमुश्किल स्वाधीनता हासिल की। हमें फिर आगे संविधान मिला, मौलिक अधिकार मिले, और मौलिक कर्तव्य भी। पर हमने सतत रूप से अपने अधिकारों का दावा तो किया , पर कर्तव्य विस्मित ही रखे।हमारी संचेतना जितनी कर्तव्य के निर्वहन के प्रति सजग होना चाहिए , ना रह सकी । जिसका,…

Read More

जीवन को मिलेगा नया आयाम

यहीं है वो शांति की मनहारी सुंगध …… जिसकी तलाश हर आत्मा और मष्तिष्क को होती है … करना है एक लघु यज्ञ…. जिसमें होगी समझौते की लकड़ियां, , भावनाओं की आहुतियां…… ख्वाहिशों की घी से धधक उठेगी अग्नि ….. उस पर धीरज और संयम के गंगा जल के आचमन से होगी शांति …. यही होगी वो मनुहारि सुंगंध… जिसकी होती है तलाश हर आत्मा और मष्तिष्क को…. यही से मिलेगी अंतःकरण को शांति , …..यही देगा जीवन को नए आयाम … सारिका श्रीवास्तव Share on: WhatsApp

Read More

कुछ तूफान उसके अंदर कुछ तूफान मेरे अंदर

कुछ तूफान उसके अंदर था, कुछ तूफान मेरे अंदर था, दोनों ही अंदर ही अंदर लड़ रहे थे इन तूफानों से , मैं सोच रहा था उठते इस तूफान को बदल दूं ठंडी हवा के झोंकों में , उधर उसके तूफान लगे थे तबाही मचाने में कौन जाने किसका तूफान तेज था ? मेरी अंतरात्मा ने दी मुझे आवाज कहा , तुझे तो विरासत में मिली है सहेजने और संभालने की अदा तू अपना फर्ज निभा उसकी तूफान को अपनी तूफान से मिटा तो क्या हुआ उसके अंदर नफरत का…

Read More

स्त्री की पुकार…..मेरी अभिव्यक्ति

रे स्त्री…. कोई नहीं सुनने वाला तेरी करुण पुकार…… जग ये बहरा हो गया है …? कोई नहीं कहने वाला तेरे हक की बात …. जग ये गूंगा हो गया है …? रे स्त्री अब सुन ले मेरी बात .. तुझको क्या करना है….? ना तू जन बेटी को ….. अस्मत लूटी जाएगी .. कब तक तू उसको मर्यादा और संस्कारों का पाठ पढ़ाइएगी….. ना जन तू बेटो को भी । जो तेरे ही किसी प्रतिरूप को तार-तार कर देता है जग ये बहरा हो गया है कौन सुनेगा तेरी…

Read More

पुलिस में एफ आई आर कराना आसान भी और कठिन भी जाने क्या है वास्तविकता

click to see vedio यहां करें क्लिक और जाने एफ आई आर की पूरी प्रक्रिया जो आपके और आपके किसी अपने के लिए जरूरत काम आएगी जानना आप की जवाबदारी और कर्तव्य दोनों हीclick click click here ज्यादातर लोग एफ आई आर की प्रक्रिया को नहीं समझते हैं ।और थाने में की गई सामान्य शिकायत को ही एफ आई आर मानकर वापस आ जाते हैं ।परंतु वास्तविकता अलग है, जानने के लिए और एफ आई आर को लेकर आमजन में जागरूकता के लिए न्यूज़ 4इंडिया ने यह वीडियो खास आपके…

Read More

पुलिस को की गई सामान्य शिकायत, नहीं होती एफ आई आर

एफ आई आर का आशय प्रथम सूचना रिपोर्ट या एफआईआर (First Information Report या FIR) एक लिखित प्रपत्र (डॉक्युमेन्ट) है परंतु इसे पुलिस को दिए जाने वाला सामान्य शिकायती आवेदन नहीं माना जा सकता है वास्तव में एफ आई आर वह है जो भारत, पाकिस्तान, एवं जापान आदि की पुलिस द्वारा किसी संज्ञेय अपराध(cognizable offence) की सूचना प्राप्त होने पर तैयार किया जाता है। यह सूचना प्रायः अपराध के शिकार व्यक्ति द्वारा पुलिस के पास एक शिकायत के रूप में दर्ज की जाती है। कुछ मामलों में एफ आई आर अनुसंधानकर्ता पुलिस अधिकारी भी दर्ज कर…

Read More