ऐसे है मुख्यमंत्री कमलनाथ

बिजली का बिल देखकर एक दूसरे से कानाफूसी करने लगे उपभोक्ता ,……….. क्या इस महीने रीडिंग नहीं हुई है?? क्या आप के घर भी इतना ही बिजली का बिल आया है?? आखिर क्या हुआ इस बार की बिजली के बिल में जो उपभोक्ताओं के बीच संशय बना हुआ है?? ………….. असल बात यह है कि विद्युत उपभोक्ताओं को 100 यूनिट के भीतर खपत करने पर 50 से ₹85 तक के बिजली बिल जारी किए गए हैं । इतने कम बिजली का बिल आने पर उपभोक्ताओं में संशय हो गया है…

Read More

एकादशी को होता है यहां जुमेराती मां महाकाली का विसर्जन

होशंगाबाद / 9 दिनों तक नवरात्रि का पर्व मनाने के बाद अब देवी प्रतिमाओं का विसर्जन शुरू हो गया है ।गाजे-बाजे के साथ मूर्तियों का विसर्जन किया जा रहा है, लोग नर्मदा तट पर पहुंचकर विसर्जन कर रहे हैं ,यहां तट पर कृत्रिम कुंड का निर्माण किया गया है ।9 दिनों तक मां दुर्गा, मां काली की अगाध श्रद्धा एवं भक्ति के साथ पूजन अर्चन किया गया। साथ ही शहर में मेले जैसा वातावरण पूरे 9 दिनों तक बना रहा ।9 दिनों के पश्चात अब मां दुर्गा मां, काली की…

Read More

तार अहाता मंदिर में हुआ विशेष पूजा अर्चना

होशंगाबाद / पूरे देश मे नवरात्रि का पर्व हर्ष एवम उल्लास के साथ मनाया गया । इन 9 दिनों में न केवल भक्तों ने उपवास किया , बल्कि डांडिया का भी मज़ा लिया । इसी अवसर पर मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जो नर्मदा नदी के किनारे स्थित है , में भी नवरात्रि का पर्व मनाया गया । यहाँ भी लोगों ने हर्ष उल्लास के साथ 9 दिनों तक व्रत उपवास व श्रद्धा के साथ व्रत किया ।और साथ ही यहाँ के तार अहाता महाकाली मंदिर में हवन पूजन किया गया ।…

Read More

बच्चों की सुरक्षा के लिये सख्त है ये कानून

छिन्दवाडा/ 01 अक्टूबर 2019/ भारतीय संस्कृति और परम्परा हमेशा से गौरवशाली रही है। हमारे परिवारों में बच्चों को देवतुल्य माना गया है। यह माना जाता है कि उनका मन कच्ची माटी सा होता है और उसे जिस सांचे में ढालो, वह वैसा ही बन जाता है। नन्हीं बच्चियों को लेकर हमारा समाज अपने जन्म से संवेदनशील रहा है लेकिन बदलते दौर में सारे मानक बदल रहे हैं और हमारी गौरवशाली संस्कृति और परम्परा को घात पहुंचा रहे हैं। इन विपरीत और शर्मनाक स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए कानून सख्त…

Read More

गांधीजी को लेकर क्या कहा मुख्यमंत्री जी ने, जाने

वे लोगमहान है जिन्होंने इस धरती पर महात्मा गांधीको देखा और सुना था।  महात्मा गांधी जैसाव्यक्तित्व सदियों में जन्म लेता है। महानवैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने सच कहा थाकि- आने वाली पीढ़ियाँ शायद ही वह विश्वासकरें कि इस धरती पर गांधीजी जैसा हाड़-मांस का पुतला कभी चलता था। आज पूरा देश गांधी जी की 150वींजयंती मना रहा है।  यह हम सब के लिएअभूतपूर्व अवसर है। सिर्फ भारत ही नहींबल्कि भारत जैसे कई देशों के लिए यहविशेष अवसर है क्योंकि महात्मा गांधी एकविश्व नागरिक थे। पूरी दुनिया यह जानकरआश्चर्यचकित थी कि सत्य और अहिंसा के दोदिव्य अस्त्रों के साथ भारत ने अपने नागरिकअधिकारों की लड़ाई कैसे लड़ी और जीती।पहले दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह और फिरस्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व करते हुए महात्मागांधी विश्व के शीर्ष नेताओं की श्रेणी में गिनेजाने लगे थे। इसलिए स्वाभाविक रूप सेमहात्मा की 150वीं जयंती का वैश्विक महत्वहै। आज हमें महात्मा गांधी को याद करनेऔर उनके दर्शन को समझने की सबसेज्यादा जरूरत है। वह इसलिए कि भारतसहित विश्व के कई देशों की राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक स्थितियों में जोतनाव चल रहा है उसका समाधान गांधी जीके दर्शन में है। नैतिक मूल्यों और मानवीयगरिमा पर जो संकट है उसे दूर करने मेंगांधीजी मदद कर सकते हैं। धर्म और जातिको लेकर उन्माद की जो स्थिति बन रही हैंउससे बचने का उपाय गांधी जी के विचारों मेंहै। गांधी जी अपने समय से बहुत आगे थे।उनका जीवन शिक्षा देता है कि अच्छे विचारोंको अपना लो, बुरे विचार अपने आप दूर होजायेंगे। विचार कोई शोभा की वस्तु नहीं है, विचार आत्मा की शुद्धि के काम आते हैं।  उनसे मानव-कल्याण का काम किया जाताहै।  आज हमें गांधी जी से बहुत सीखने कीजरूरत है, उनका जीवन  स्वयं एक पाठशालाहै। सत्य की पाठशाला, जहाँ जीवन मूल्यों कोसमझने, समझाने और व्यावहारिक रूप मेंअपनाने के तौर-तरीके सिखाये जाते हैं। गांधीदर्शन की पाठशाला अब विश्वविद्यालय कास्वरूप ले चुकी है और सबके लिए हमेशाखुली है। यहाँ सभी धर्मों, जाति औरविचारधाराओं के लोग शिक्षा लेने आ सकतेहैं। महात्मा गांधी भारत की पहचान है । पूरेविश्व में भारत को गांधी का देश कहते हैं।गांधीजी के बिना भारत की कल्पना अधूरी है।गांधीजी भारत के कण-कण में दर्शनीय है।गांधीजी सर्वोदय आधारित समाज कीस्थापना करना चाहते थे । सर्वोदय का सीधाअर्थ है सबका कल्याण । सबकी समृद्धि । वेपर्यावरण को भी जीवंत मानते थे । इसलिएपर्यावरण की रक्षा और विवेकपूर्ण उपयोग कीबात करते थे। गांधी जी एक महान शिक्षकभी थे। जिन सर्वश्रेष्ठ और मानव हितैषीविचारों को उन्होंने अपनाया, उनकाईमानदारी से पालन किया। सच्चाई के रास्तेपर चलने के तरीके सिखाए, जो आज पूरीदुनिया के लिए मिसाल है। वे कर्मयोगी,  ज्ञानयोगी और भक्तियोगी थे। आज हरसमाज चाहता है कि वह कर्म, ज्ञान औरभक्ति का समन्वय बने और अपने नागरिकोंसे इसे अपनाने की अपेक्षा करें। इसलिएगांधी जी के दर्शन में हर धर्म का स्थान औरमान-सम्मान है। आज भारत सहित पूरे विश्वमें सर्वधर्म समभाव की जरूरत है। सत्य औरशांति की स्थापना की जरूरत है। साथ हीव्यक्ति की गरिमा को ठेस पहुँचाए बिनातरक्की करने की जरूरत है। मैं युवाओं से आग्रह करूंगा कि गांधी जी की150वीं जयंती पर उनके जीवन और उनकेलेखन को पढ़ें। महात्मा गांधी का जीवनपढ़ने पर खुद इस सवाल का जवाब भी मिलजाएगा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू ने उनकेनहीं रहने पर क्यों कहा था कि ‘हमारे जीवनसे प्रकाश चला गया।’ गांधीजी को जितना पढ़ेंगे, उतना हमारा रास्ता आसान होगा। वेकहते थे कि शिक्षा का अर्थ है चारित्रिकदुर्गुणों के प्रति सचेत रहना और उन्हें दूरकरना। गांधी जी को अपनाना आसान है।गांधी के रास्ते पर चलना  आसान है,  हरनागरिक अपने आप में गांधी हैं। यदि आपसच बोलना और सुनना चाहते हैं, यदि आपआत्म-निर्भर बनने के लिए प्रयत्नशील हैं, यदि  हर धर्म का सम्मान करते हैं और शांतिचाहते हैं, यदि अपने साथी नागरिकों कीगरिमा का सम्मान करते हैं, पर्यावरण की रक्षाऔर आदर करते हैं, यदि अपने कारीगरों कीकला पर गर्व करते हैं और कमजोर  का साथदेते हैं, तो समझिए कि आप गांधीजी के दर्शनपर अमल कर रहे हैं। आइए हम सब मिलकरसर्वोदय आधारित भारत बनाने में अपनीभूमिका तय करें और पूरी ईमानदारी से अपनेकर्त्तव्य का पालन करें। Share on: WhatsApp

Read More

CM ने कुछ इस तरह खेला गरबा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नवरात्रि के इस पावन पर्व पर गरबा का आनंद लिया और जाने इस दौरान क्या-क्या हुआ, देखें वीडियो Share on: WhatsApp

Read More

संयुक्त संचालक एक लाख की रिश्वत लेते ट्रैप

संयुक्त संचालक उद्यानिकी जबलपुर संभाग, जबलपुर के श्री आर बी राजोरिया को ₹100000 रिश्वत लेते टीम ने ट्रैप किया। जबलपुर /जबलपुर के उद्यानिकी विभाग में पदस्थ श्री आर वी राजोरिया को आवेदक पौध नर्सरी संचालक जबलपुर के द्वारा की गई शिकायत एवज में ₹100000 की रिश्वत साथी लेते हुए टीम ने ट्रैप किया है श्री राजोरिया द्वारा नर्सरी से सप्लाई किए गए पौधों के बिल 2500000 निकालने के एवज में ₹100000 की मांग की गई थी जिसकी शिकायत आवेदक जो की पौध नर्सरी की संचालक है के द्वारा की गई…

Read More

डिविजनल कमांडेंड संगीता शाक्य सहित 150 जवान हुए समान्नित

गोपाल किरन समाज सेवी संस्था, द्वारा बाढ़ पीड़ितों के बीच रेस्क्यू करने वाले जवानों का सम्मान : ————— गोपाल किरन समाज सेवी संस्था, द्वारा ग्लोबल वीक के समापन पर डिवीज़नल कमांडेंट श्रीमती संगीता शाक्य (होमगार्ड , ग्वालियर एवं चम्बल संभाग) के तत्वावधान में बाढ़ पीड़ितों की मदद करने वाले जवानों का 27 सितम्बर को ग्वालियर स्थित होमगार्ड कार्यालय परिसर में ऑफीसर्स और एक सौ पचास से अधिक जवानों का सम्मान किया। सम्मान समारोह की मुख्य अतिथि श्रीमती संगीता शाक्य डिवीज़नल कमांडेंट होमगार्ड ने कहा कि जब भी कोई आपदा आती…

Read More

मध्यप्रदेश के छोटे गांव की लड़की का कमाल

*सुरभि गौतम ने मध्यप्रदेश  को गौरवान्वित किया* राष्ट्रपति भवन में 2017 बैच के IAS अधिकारियों ने राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद के साथ अपने ट्रेनिंग के अनुभव साझा किये। इस दौरान मध्यप्रदेश क Share on: WhatsApp

Read More