नेता हाजी यूनुस के काफिले पर रविवार को कोतवाली देहात के भाईपुर गांव के पास स्वचलित हथियारों से लैस बदमाशों ने हमला कर दिया। उस दौरान हाजी यूनुस एक शादी समारोह में शामिल होकर घर लौट रहे थे। हाजी यूनुस का कहना है कि 5 अज्ञात हमलावरों ने उनके काफिले पर जमकर गोलियां चलाई। जिसमें एक की मौत हो गई, जबकि 4 घायल हो गए। पीड़ित की तहरीर लेकर पुलिस घटना की जांच में जुट गई है। मेरठ आईजी ने पारिवारिक रंजिश में हमला करने की बात कही है।मीड़िया रिपोर्टस के अनुसार, बुलंदशहर निवासी हाजी यूनुस एक शादी समारोह में शामिल होकर घर लौट रहे थे। जब ये भाईपुर गांव के पास पहुंचे। उसी दौरान एक कार में सवार होकर 5 से अधिक हमलावर मौके पर पहुंच गए और उनके काफिले पर ताबड़तोड़ फायरिंग करनी शुरू कर दी। घटना की सूचना मिलने पर आसपास के लोगों की मौके पर भीड़ जुट गई। सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। हाजी यूनुस का आरोप है कि पिछले 6 माह से हत्या की आशंका जताते हुए एसएसपी से सुरक्षा की गुहार लगाते हुए आ रहे हैं, लेकिन उन्हें कोई सुरक्षा मुहैया नहीं कराई गई।

हाजी अली की हत्या के मामले में डासना जेल में बंद है

उधर, घायलों की हालत को गंभीर देखते हुए दिल्ली हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। हाजी यूनुस ने अपने बड़े भाई हाजी अली के बेटे अनस पर अपनी हत्या को लेकर हमले की आशंका जताई है। अनस फिलहाल अपने ही पिता हाजी अली की हत्या के मामले में डासना जेल में बंद है। एसएसपी संतोष कुमार सिंह का कहना है कि जेल में बंद अनस की भूमिका की जांच की जा रही है। जल्द ही घटना का खुलासा कर दिया जाएगा।

पारिवारिक रंजिश के चलते इस गोलीकांड को अंजाम दिया

बुलंदशहर के कोतवाली देहात इलाके के गांव भाईपुर में पूर्व ब्लॉक प्रमुख हाजी यूनिस के काफिले पर हमले को लेकर मेरठ के आईजी प्रवीण कुमार का कहना है कि पारिवारिक रंजिश के चलते इस गोलीकांड को अंजाम दिया गया है। इस गोलीकांड में 5 लोग घायल हुए थे। एक की मौत हो गई है और 4 लोग अभी घायल हैं। जिनका विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

न्यूज़ सोर्स : नेता के काफिले पर चली अंधाधुंध गोलियां एक की मौत