नई दिल्ली । साल-2001 संसद पर हुए हमले में इसकी सुरक्षा में तैनात 8 सुरक्षाकर्मियों ने अपने प्राण गंवा दिए थे। शहीद हुए सुरक्षाकर्मियों को सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि राष्ट्र उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए हमेशा उनका आभारी रहेगा। आज ही के दिन 2001 में हुए हमले में शामिल सभी पांच आतंकवादी मारे गए थे और आठ सुरक्षा कर्मी भी शहीद हो गए थे। हमले में एक माली की भी जान गई थी। आतंकवादियों का नाता पाकिस्तान स्थित एक आतंकवादी संगठन से था, जिससे हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में काफी तनाव उत्पन्न हो गया था। राष्ट्रपति कोविंद ने ट्वीट किया, ‘मैं उन बहादुर सुरक्षा कर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं जिन्होंने 2001 में आज ही के दिन एक नृशंस आतंकवादी हमले के खिलाफ दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की संसद की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी थी। उनके सर्वोच्च बलिदान के लिए राष्ट्र सदैव उनका आभारी रहेगा।’