बैंकों के निजीकरण के विरोध में गुरुवार 16 दिसंबर व शुक्रवार 17 दिसंबर को सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के अधिकारी व कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे। इसकी वजह से बैंकों का कामकाज ठप रहेगा और उपभोक्ताओं को लेनदेन के लिए एटीएम व आनलाइन के ही भरोसे रहना पड़ेगा। बैंक कर्मियों की यह हड़ताल यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन्स के आह्वान पर किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ बैंक एम्पलाइज फेडरेशन के महामंत्री शिरीष नलगुंडवार ने बताया कि फोरम की रायपुर इकाइ द्वारा गुरुवार व शुक्रवार को सुबह 10.30 बजे पंजाब नेशनल बैंक, चौक के सामने प्रदर्शन भी किया जाएगा। इस प्रदर्शन में सभी राष्ट्रीयकृत बैंकों के कर्मचारी व अधिकारी शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि हड़ताल मुख्य रूप से निजीकरण के विरोध में किया जा रहा है। बैंकों के निजीकरण से न तो बैंकों का कोई फायदा हो रहा है और न ही उपभोक्ताओं को इससे कोई फायदा है। इस प्रकार से निजीकरण के बदले ग्राहकों को दी जाने वाली सुविधाओं को बढ़ाना चाहिए। शनिवार को खुलेंगे बैंक दो दिन की हड़ताल के बाद शनिवार 18 दिसंबर को बैंक खुले रहेंगे। फेडरेशन के महामंत्री नलगुंडवार ने बताया कि 18 तारीख को बैंक की छुट्टी नहीं है और बैंकों में सभी कामकाज होंगे। एटीएम हुए फुल बैंकिंग प्रबंधन द्वारा हड़ताल को देखते हुए अपने एटीएम को फुल कर दिया गया है ताकि उपभोक्ताओं को किसी भी प्रकार से परेशानी न उठानी पड़े। इसके साथ ही बैंकों की आनलाइन सेवाएं भी चलती रहेंगी। इन दिनों बैंकों द्वारा अपने आनलाइन सेवाओं पर ज्यादा से ज्यादा फोकस किया जा रहा है।