पिथौरागढ़ उत्तराखंड के सबसे खूबसूरत शहर में से एक है। इस दिसंबर आप भी पिथौरागढ़ की इन जगहों को एक्सप्लोर कर सकती हैं। आइए जानते हैं इन जगहों के बारे में।

पिथौरागढ़ उत्तराखंड का बेहद ही खूबसूरत शहर है। यह कुमाऊं क्षेत्र का चौथा सबसे बड़ा शहर है। यहां आपको चारों ओर हरियाली और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ देखने को मिलेंगे। यहां आपको पहाड़ के साथ ऊंची-ऊंची बर्फ से ढकी हिमालय की चोटियां भी देखने को मिलेगी। अगर आप इस दिंसबर कहीं घूमने का प्लान बना रही हैं तो पिथौरागढ़ जरूर जाएं। पिथौरागढ़ में ऐसी कई जगहें हैं, जिन्हें आपको एक्सप्लोर करना चाहिए। आइए जानते हैं इन जगहों के बारे में। 

 पिथौरागढ़ किला

अगर आप पिथौरागढ़ घूमने का प्लान बना रही हैं तो पिथौरागढ़ किला जरूर जाएं। यह पिथौरागढ़ का सबसे प्राचीन स्थल है। इसे 1789 में गोरखाओं द्वारा बनवाया गया था। जिसकी वजह से इसे गोरखा किला भी कहा जाता है। यह कुमाऊं की काली नदी पर स्थित है। इस किले की सरंचना बेहद ही आकर्षक है। आप भी इस किले की बनावट को देख हैरान हो जाएंगी। दूर-दूर से लोग इस किले को देखने आते हैं। 

गंगोलीहाट

गंगोलीहाट क्षेत्र प्राचीन मंदिरों और गुफाओं के लिए काफी मशहूर है। हाट कालिका, अंबिका देवी, चामुंडा मंदिर और वैश्नवी मदिंर यहां के प्रसिद्ध मंदिर हैं। हालांकि, अगर आप वैश्वनी मंदिर जाती हैं तो इस मंदिर से आपको हिमालय देखने को मिलेगा। इसलिए इस मंदिर पर लोगों की अधिक भीड़ रहती है। गंगोलीहाट में आपको केवल मंदिर ही नहीं बल्कि कई गुफाएं भी देखने को मिलेंगी। यहां की सबसे मशहूर गुफा पाताल भुवनेश्वर और मुक्तेश्वर गुफा को देखने के लिए हजारों की संख्या में पर्यटक आते हैं। 

चंडाक

चंडाक पिथौरागढ़ का प्रमुख पर्यटन केंद्र है। यह स्थल पिथौरागढ़ से करीब 8 किलोमीटर दूर है। यह क्षेत्र देवदार के जंगलों से घिरा हुआ है। यहां से आप आसानी से हिमालय देख सकते हैं। चडांक पहाड़ी से लगभग 2 किलोमीटर दूर भगवान मनु को सर्मपित एक मंदिर भी है। हर साल अगस्त और सितम्बर के महीने में इस मंदिर में भव्य मेले का आयोजन किया जाता है और हजारों की संख्या में लोग इस जगह को देखने आते हैं। 

अस्कोट सेंचुरी

अगर आपको जानवर देखना पसंद है तो यह जगह आपके लिए एकदम सही है। अस्कोट सेंचुरी पिथौरागढ़ से करीब 54 दूर किमी है और 5412 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह पिथौरागढ़ के सबसे मशहूर जगहों में से एक है। अगर आपको हिरण देखने का शौक है तो आपको अस्कोट सेंचुरी जरूर जाना चाहिए। यहां आपको कस्तूरी मृग हिरण देखने को मिलेंगे। इस सेंचुरी को विशेष तौर पर कस्तूरी मृग और उसके आवास के संरक्षण लिए बनाया गया था। इसलिए आप जब भी पिथौरागढ़ जाएं तो एक बार यहां जरूर घूमें।

कफनी ग्लेशियर ट्रैक

अगर आपको ट्रैकिंग करना पसंद है तो कफनी ग्लेशियर ट्रैक की यात्रा जरूर करें। कफनी ग्लेशियर नंदाकोट की प्रसिद्ध चोटी के नीचे पिंडर घाटी के बाईं ओर स्थित है। आप यहां पहुंचने के लिए ट्रैकिंग भी कर सकते हैं। जब आप यहां पहुंच जाएंगे तब आपको चारों तरफ बर्फ ही बर्फ देखने को मिलेगी। यहां से आपको हिमालय की चोटियां भी देखने को मिलेगी। यह ट्रैक बागेश्वर के छोटे से पहाड़ी शहर के ऊपर लोहारखेत से शुरू होता है।