नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अक्तूबर को सिद्धार्थनगर समेत उत्तर प्रदेश को एक साथ नौ मेडिकल कालेज का तोहफा प्रदान करेंगे। नेशनल मेडिकल काउंसिल सिद्धार्थनगर समेत सभी नौ मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण कर इनके संचालन की संस्तुति प्रदान कर चुका है। पहले इस कालेजों के लोकार्पण की योजना 30 जुलाई को थी लेकिन नेशनल मेडिकल काउसिंग (एनएमसी) की संस्तुति के अभाव में लोकार्पण का कार्यक्रम स्थगित हो गया था। प्रधानमंत्री कार्यालय से स्वीकृति मिलने के बाद सिद्धार्थनगर जिले में तैयारियां शुरू हो गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सिद्धार्थनगर में एक बड़ी जनसभा कर नवनिर्मित स्वर्गीय माधव प्रसाद त्रिपाठी उर्फ माधव बाबू स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय का लोकार्पण करेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर मेडिकल कॉलेज परिसर में सीएसआर फंड से रैन बसेरा निर्मित करने की योजना भी बन रही है। यहीं से प्रधानमंत्री देवरिया में नवनिर्मित महर्षि देवरहा बाबा स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय समेत सूबे के 9 नए मेडिकल कॉलेज का एक साथ वर्चुअल शुभारम्भ करेंगे। कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ समेत प्रदेश सरकार के अन्य मंत्री भी मौजूद रहेंगे। लोकार्पित किए गए 9 मेडिकल कालेज में 7 का निर्माण राजकीय निर्माण निगम ने किया है। राजकीय निर्माण निगम के प्रोजेक्ट मैनेजर इंजीनियर डीबी सिंह फिलहाल सिद्धार्थनगर में डेरा डाले हुए हैं। लोकार्पण के मद्देनजर जरूरी साफ-सफाई कराई जा रही है। उधर सीएम के निर्देश पर देवरिया में महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कॉलेज परिसर में महर्षि देवरहा बाबा की बड़ी प्रतिमा लोकार्पण के पूर्व लगाने की तैयारियां जोरों पर हैं। सिद्धार्थनगर मेडिकल कॉलेज समेत जिन नौ मेडिकल कालेज का लोकार्पण किया जाएगा, उनमें देवरिया, जौनपुर, गाजीपुर, मिजार्पुर, फतेहपुर, प्रतापगढ़, हरदोई और एटा मेडिकल कॉलेज शामिल है। एक साथ नौ मेडिकल कॉलेजों का लोकार्पण प्रदेश के इतिहास में अभूतपूर्व अवसर होगा। सीएम योगी आदित्यनाथ ने राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को और अधिक बेहतर बनाने के लिए इन मेडिकल कालेजों का शिलान्यास किया, अब ये सेवाएं देने को तैयार हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ की कोशिश 2021-22 सत्र से ही इन कॉलेजों में एमबीबीएस प्रथम वर्ष की कक्षाएं संचालित करने की है। इन कॉलेजों में 450 से अधिक संकाय सदस्यों की नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है। इन मेडिकल कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर, सहायक प्रोफेसर और एसआर के रिक्त पदों के लिए वॉक इन इंटरव्यू हो रहे। इन सभी मेडिकल कॉलेजों में फैकल्टी का चयन पारदर्शिता के साथ करने के निर्देश सीएम पहले ही दे चुके हैं। प्रत्येक मेडिकल कालेज में एमबीबीएस के 100-100 सीटों पर प्रवेश मिलेगा।