बिलासपुर। रेलवे को यात्रियों की जरा फ्रिक नहीं है। तभी तो जोनल स्टेशन के प्लेटफार्म पांच के आधे हिस्से की ऊंचाई बढ़ाने ठेकेदार पर दबाव नहीं बना पा रही है। एक हिस्से में नई टाइल्स ही नहीं लगाई गई। इसके कारण यह हिस्सा ऊपर-नीचे हो गया है। यात्री इसे नहीं देख पाते और अचानक आते ही गिर जाते हैं। हालांकि अभी तक किसी तरह की दुर्घटना नहीं हुई पर इससे इन्कार नहीं किया जा सकता। इसके बाद भी रेलवे के जिम्मेदार अधिकारियों को इतनी फुर्सत नहीं की मरम्मत कराकर यात्रियों को राहत दे सके।

 प्लेटफार्म पांच की स्थिति जर्जर थी। इसे देखते हुए रेलवे ने नई टाइल्स पत्थर लगाने की योजना बनाई गई। यह काम ठेके पर दिया गया। काम शुरू भी हुआ। इसके तहत प्लेटफार्म के बीच के हिस्से में पत्थर लगाए गए। इसके अलावा किनारे में चेकर टाइल्स। दरअसल पत्थर लगने के कारण किनारे का हिस्सा नीचे हो गया था। यदि ऐसा नहीं करते तो यात्रियों को परेशानी होती। काम शुरू हुआ और अब बंद भी हो गया। पर नागपुर छोर की तरफ एक बड़े हिस्से में चेकर टाइल्स ही नहीं लगाई गई है।

जिसके कारण प्लेटफार्म ऊपर - नीचे हो गया। पर यात्री इसे नहीं देख पाते और गिर सकता है। खासकर दिव्यांग और बुजुर्ग यात्रियों को इसके चलते सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। ठेकेदार ने अधूरा काम कर बंद कर दिया। पर अब तक किसी ने प्लेटफार्म की इस समस्या की तरफ ध्यान नहीं दिया है। यह बड़ी लापरवाही है। जिसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। स्वच्छता पखवाड़ा के दौरान इस प्लेटफार्म में और रेल लाइन अभियान चलाया गया। लेकिन अफसरों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।